National Doctors Day : ये डॉक्टर न होते तो भयावय होते शहर के हालात, अब भी 16 घंटे लगातार करते हैं ड्यूटी

जिले में अब तक कुल 15 संक्रमित मामले सामने आए है, जबकि इनमें से 9 लोग स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं।

By: Faiz

Published: 01 Jul 2020, 04:21 PM IST

गुना/ देशभर की तरह मध्य प्रदेश में भी अनलॉक होने के बाद कोरोना वायरस की रफ्तार लगातार बढ़ रही है। हालांकि, कुछ जिले ऐसे हैं, जहां संक्रमण अपने पैर जमाने में कामयाब नहीं हो सका। इन्हीं में से एक है गुना। आज 'डॉक्टर्स डे' ( National Doctors Day ) के अवसर पर आपको शहर में स्थित जिला अस्पताल ( District Hospital ) के उन डॉक्टर्स के बारे में बताएंगे, जो कोरोना संक्रमण की इस घड़ी में अपनी जान की परवाह किये बिना रोज़ाना 16-16 घंटों तक अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। यही वजह है कि, जिले में अब तक कुल 15 संक्रमित मामले ही सामने आए है, जबकि इनमें से 9 लोग स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP Weather Update : जून में ही औसत से कई गुना ज्यादा हुई बारिश, 48 घंटे बने रहेंगे ये हालात


ये डॉक्टर कर रहे कड़ी मेहनत

बता दें कि, कोरोना महामारी से लोगों को बचाए रखने के लिए सरकार ने लॉकडाउन कर सभी लोगों से अपने-अपने घरों में रहने की अपील की थी। साथ ही, पुलिस और प्रशासन से सरकारी निर्देशों के तहत व्यवस्थाएं स्थापित करने को कहा गया था। हालांकि, देशभर से बीते एक माह पहले लॉकडाउन हटा दिया गया है। लेकिन, प्रशासन, पुलिस और चिकित्सक अब भी अपनी जिम्मेदारियों को उसी मुस्तैदी के साथ निभा रहे हैं। संकट की इस घड़ी में जिला अस्पताल के 13 डॉक्टरों का स्टाफ अब भी रोजाना 16-16 घंटे ड्यूटी दे रहे हैं। साथ ही, ये चिकित्सक अब भी अपने परिवारों से दूरी बनाए हुए हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP Corona Update : मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 13593, अब तक 572 ने गवाई जान


सबसे बड़ा हथियार रोकथाम

डॉक्टरों का मानना है कि हालांकि, हम किसी भी मरीज को देखते समय सुरक्षा मापदंडों का पूरा ख्याल रखते हैं। बावजूद इसके इन दिनों रोकथाम सबसे बड़ा हथियार है, जिसके चलते हम लोग अब भी अपने अपने घरों से दूर रह रहे हैं। डॉक्टरों का तर्क है कि, वे अपने कर्तव्य के लिए अपने परिवार को असुरक्षित नहीं कर सकते।

 

पढ़ें ये खास खबर- अनोखी शर्त पर हाईकोर्ट ने दी जमानत, अस्पताल में लगवाओ TV, पर मेड इन चाइना न हो


इन कर्मवीरों के आगे हारा कोरोना

-महिला चिकित्सक डॉ रश्मि दीक्षित के मुताबिक, हम ड्यूटी के दौरान अपनी सेफ्टी का तो पूरा ख्याल रखते ही हैं। साथ ही, घर जाने के बाद परिवारजनों का विशेष ख्याल भी रखते हैं। घर के अंदर प्रवेश करने से पहले ही हाथों को पूरी तरह से सेनिटाइज करते हैं। नहाने और कपड़े चेंज करने के बाद ही घर के सदस्यों से कॉन्टेक्ट में आते हैं।

-अस्पताल के ईएनटी डॉ रीतेश कांसल का कहना है कि, डॉक्टर की डिग्री लेने के बाद हमने जो शपथ ली थी, उसके पालन में हमें ये कर्तव्य निभाना ही है। चाहे इसके लिए कार्यस्थल पर कितनी भी विपरीत परिस्थिति क्यों न हो। इस समय हम डे और नाइट दोनों शिफ्टों में आठ-आठ घंटे की ड्यूटी दे रहे हैं। इस दौरान परिवार का ख्याल रखते हुए हम अपने आपको उनसे दूर रखते हैं।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned