रेलवे स्टेशन पर तीसरी आंख बंद, सुरक्षा खतरे में

-रेल अफसरों को यात्रियों की परेशानियों की सुध नहीं
-बढ़ी चोरियों की वारदातें, ट्रेने चालू, प्रतीक्षालय जाने वाला गेट बंद, यात्री हो रहे हैं परेशान

By: praveen mishra

Published: 14 Sep 2021, 12:44 AM IST

गुना। यदि आप गुना रेलवे स्टेशन से ट्रेन के जरिए अन्यत्र जा रहे हैं तो अपने सामान की स्वयं रक्षा करें, निगाह चूकी तो आपका सामान चोर या उचक्का ले जा सकता है। इस तरह की घटनाएं आए दिन गुना रेलवे स्टेशन पर हो रही हैं, इसकी वजह ये है कि रेलवे ने लाखों रुपए खर्च करके सीसीटीवी कैमरे यानि तीसरी आंख यहां चार-पांच साल पूर्व लगवाई थी, वो तीसरी आंख विगत दो वर्ष से बंद पड़ी है। इसके साथ ही जीआरपी ने भी वहां तीसरी आंख की व्यवस्था कर रखी है, लेकिन वह भी अक्सर बंद रहते हैं। जबकि जीआरपी में लगे सीसीटीवी कैमरे के संचालन और रखरखाव पर गुना पुलिस अधीक्षक अपने स्तर पर करा रहे हैं।
गुना रेलवे स्टेशन एक जंक्शन है। यहां आए दिन रेलवे का कोई न कोई वरिष्ठ अफसर आता रहता है। पूर्व में कई बार रेलवे के वरिष्ठ अफसरों के सामने रेलवे स्टेशन की तीसरी आंख बंद होने का मसला सामने आया, लेकिन किसी भी अधिकारी ने इसकी सुध नहीं ली। कोरोना की वजह से ट्रेनें और रेलवे स्टेशन कई महीनों तक बंद रहा। कुछ समय पूर्व रेलवे स्टेशन पर जहां एक ओर यात्रियों की भीड़ बढ़ी है वहीं दूसरी ओर ट्रेनों की आवाजाही बढ़ी है। इसके साथ ही चोर- उच्चके, मनचले सक्रिय हो गए हैं, जो मौका पाकर वारदात को अंजाम दे रहे हैं।
ये दिखा नजारा
रेलवे स्टेशन पर कहने को सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, इनको देखकर जब पत्रिका टीम ने रेलवे स्टेशन अधीक्षक से सम्पर्क कर पूछा गया तो उनका कहना था कि रेलवे के सीसीटीवी कैमरे तो काफी पहले से बंद पड़े हैं। जीआरपी के कैमरे हैं वे काम करते हैं। रेलवे स्टेशन अधीक्षक से पूछा क्यों चालू नहीं किए जा रहे हैं इसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। सुरक्षा का हाल ये है कि बीते रोज ही एक यात्री का रेलवे स्टेशन पर अज्ञात व्यक्ति ने मोबाइल गायब कर दिया था, ऐसे ही एक-दो यात्रियों के बैग भी चोर-उच्चके उड़ा ले गए हैं।
जीआरपी के भी बंद मिले कैमरे
पत्रिका टीम जब गुना रेलवे स्टेशन पर बने जीआरपी थाने पहुंची तो वहां एक आरक्षक अपनी ड्यूटी पर मिला, मोबाइल चोरी होने पर कैमरे देखने पहुंचे दो युवक मिले। उन युवकों ने बताया कि वे बीती रात को इंटरसिटी से लौटे, प्लेटफार्म पर रात की वजह से कुछ देर के लिए रुक गए, इसी बीच उसका मोबाइल अज्ञात चोर उड़ा ले गया। आरक्षक से जब कैमरे के बारे में पूछा गया तो उसका कहना था कि हमारे यहां सीसीटीवी कैमरे तो लगे हैं लेकिन वे भी ऑफ लाइन हो गए हैं, डिस्कनेक्ट होने से हमारे भी कैमरे काम नहीं कर रहे हैं। रेलवे स्टेशन पर आठ कैमरे लगाए हैं। उन्होंने भी रेलवे स्टेशन के किसी भी तरह के हाल के फुटेज दिखाने में असमर्थता जाहिर की।
प्रतीक्षालय की ओर जाने वाला गेट बंद
यहां मौजूद रेल यात्रियों से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ट्रेनें चालू हैं, प्लेटफार्म पर यात्रियों की आवाजाही शुरू हो गई है। ट्रेन आने के समय गुना रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को टिकट घर से होकर प्लेटफार्म के अंदर से बाहर आना पड़ता है या अंदर जाना पड़ता है। सीढिय़ों पर ही ऑटो चालकों का जमाव होने से यात्रियों को बाहर निकलने में परेशानी होती है। कभी-कभी तो कुछ ऑटो चालक प्लेटफार्म के अंदर तक आ जाते हैं वे ही यात्रियों के सामान गायब कर ले जाते हैं। उधर गुना रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर एक पर प्रतीक्षालय की ओर जाने वाले प्रवेश द्वार को पूरी तरह बंद कर रखा है, जिससे यात्रियों को परेशानी होते दिखाई दी। उनका कहना था कि इस गेट को खोल दिया जाए तो यात्रियों को प्लेटफार्म से बाहर और अंदर आने में आ रही परेशानी खत्म हो जाएगी। लिफ्ट न हीं हो पाई चालू उधर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर एक पर लिफ्ट तो बनकर तैयार हो गई, लेकिन अभी तक चालू नहीं हो पाई है। जबकि दो नम्बर प्लेटफार्म पर अभी लिफ्ट का काम नहीं हो पाया है।

praveen mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned