संदेह पर पुलिस ने की एक बाइक सवार से पूछताछ, तो हो गया कई वारदातों का खुलासा

संदेह पर पुलिस ने की एक बाइक सवार से पूछताछ, तो हो गया कई वारदातों का खुलासा

Brajesh Kumar Tiwari | Updated: 10 Aug 2018, 01:32:10 PM (IST) Guna, Madhya Pradesh, India

चोरी की दो बाइक के साथ पकड़े तीन शातिर बदमाश

धरनावदा. जिले की धरनावदा थाना पुलिस ने संदेह के आधार पर एक बाइक सवार से पूछताछ की तो कई वारदातों का खुलासा हो गया। बाद में पुलिस ने दो और शातिर बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है।

धरनावदा थाना प्रभारी नीरज बिरथरे ने बताया कि पुलिस अधीक्षक निमिष अग्रवाल एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक टीएस बघेल के मार्गदर्शन में यह कार्रवाई की गई। बुधवार को मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने सलमान पुत्र जब्बार खां (25), अयूब पुत्र रफीक खां (22) और लक्ष्मण सिंह पुत्र बाबूलाल सहरिया सभी निवासी आरोन को एक बिना नंबर की बाइक के साथ पकड़ा गया।

पुलिस ने जब आरोपियों से पूछताछ की तो उन्होंने बाइक चोरी होना स्वीकार कर लिया। बदमाशों ने बताया कि उन्होंने बाइक जनवरी 2018 में रुठियाई रेलवे स्टेशन से चुराई थी।

बाद में आरोपियों ने गुना रेलवे स्टेशन से भी बाइक चोरी की। जिसे सलमान के घर पर छिपाकर रखा गया था। इस तरह पुलिस ने आरोपियों से दो बाइक बरामद कर ली हैं। पूछताछ के दौरान यह भी पता चला कि गिरफ्तार आरोपियों में शामिल सलमान निवासी समीरगंज मोहल्ला आरोन के खिलाफ थाना आरोन में तीन आरोपी सेंधमारी के पंजीबद्ध हैं।

इस कार्रवाई में थाना प्रभारी नीरज बिरथरे के अलावा सहायक उप निरीक्षक होरीलाल चौरसिया, राधेश्याम यादव, उत्तम सिंह कुशवाह, प्रधान आरक्षक गोपाल बाबू, सीताराम धुर्वे, आरक्षक कुलदीप यादव, आदित्य कुमार, दीपक त्रिपाठी, विष्णु गुर्जर, दिनेश जाटव, बसंत कुमार और दीप सिंह सेंगर आदि का योगदान रहा।

इधर, बंद के आह्वान पर चुस्त रही पुलिस, निकाला फ्लेग मार्च
भारत बंद के आव्हान को लेकर गुरुवार को सुबह से ही पुलिस चुस्त नजर आई। शहर भर में कई जगहों पर पाइंट्स बनाकर जवानों की तैनाती की गई। वज्र वाहन भी घूमता रहा। हालांकि जिले में बंद नहीं रहा।

रैली की अनुमति भी प्रशासन द्वारा नहीं दी गई। उल्लेखनीय है कि दलित संगठनों ने 9 अगस्त को भारत बंद बुलाया था। हालांकि लोकसभा में एससी-एसटी एक्ट संशोशन विधेयक पारित होने के बाद बंद को वापस ले लिया गया था। इसके बावजूद पुलिस सतर्क थी।

सुरक्षा व्यवस्था को शहर सहित आरोन, बजरंगगढ़, मक्सूदनगढ़ व अन्य थानों में सुबह पुलिस ने फ्लेग मार्च निकाला और एक दिन पहले विभिन्न थानों पर शांति समिति की बैठक का भी आयोजन किया गया था।

नहीं दी रैली की अनुमति
सुरक्षा को देखते हुए प्रशासन ने विभिन्न रैलियों की अनुमति भी नहीं दी थी। आदिवासी दिवस पर एक रैली का आयोजन किया जाना था, जो परमीशन न मिलने से नहीं हो सकी। इसके अलावा आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का आंदोलन भी सीमित होकर रह गया। पुलिस ने उन्हें सर्किट हाउस से बाहर ही नहीं निकलने दिया।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned