investigation: 17 निर्माण की जांच, नौ जगह काम ही नहीं मिला, दूसरे की सड़क को बता दिया अपना

जनपद राघौगढ़ की ग्राम पंचायत खिरिया का मामला : ३२ लाख का घोटाला

By: Manoj vishwakarma

Published: 03 Jan 2020, 11:40 AM IST

गुना. दूसरे व्यक्ति ने जिस सड़क को अपनी राशि से बनाकर तैयार किया, पंचायत ने उस रोड को ही अपना बता दिया और 4.91 लाख की राशि निकाल ली। जब निर्माणों की जांच की गई तो एक के बाद एक परतें खुलीं और करीब 32 लाख रुपए से ज्यादा का घोटाला सामने आया। इतना ही नहीं एक ही निर्माण को तीन बार बता दिया व राशि निकाल ली।

दरअसल, जनपद राघौगढ़ की ग्राम पंचायत खिरिया का घोटाला उजागर हुआ है। जिला पंचायत की तीन सदस्यीय टीम ने ग्राम पंचायत खिरिया में मनरेगा योजना के तहत 185 कार्यों में से रेंडम आधार पर 17 कार्यों की जांच की। 9 स्थानों पर काम नहीं मिला। निर्माण एजेंसी द्वारा रिकार्ड उपलब्ध नहीं कराया गया है। पंचायत द्वारा एक ही स्थल से 3 बार विभिन्न प्रकार से कार्य करा दिए गए हैं। ये निर्माण वर्ष 2008 से 2012 के बीच कराए गए। जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट जिला पंचायत को सौंप दी है। इस मामले में सख्ती की गई तो कई अफसर भी इस गड़बड़ी में फंस सकते हैं। ये जांच अशोक कुमार गुप्ता प्रभारी परियोजना अधिकारी मनरेगा, तकनीकी विशेषज्ञ महेश शुक्ला और सहायक यंत्री एके भारद्वाज द्वारा की गई।

रेलवे स्टेशन को जोडऩे वाले मार्ग पर तीन काम


01. खिरिया स्टेशन से रेलवे फाटक तक मुरमीकरण एवं पुलिया निर्माण कराया। यह काम वर्ष 2008-09 में स्वीकृत। यह काम 4.30 लाख में होना था। इस पर 1.25 लाख खर्च किए। पुलिया का निर्माण 1.32 लाख में किया। पोर्टल पर भुगतान नहीं बताया। निर्माण के फोटो अपलोड नहीं किए। करीब 1.25 लाख की वसूली हो सकती है।

02. इसी तरह मुरमीकरण का कार्य चांदखेड़ी से रेलवे लाइन तक बताया गया। इस पर करीब 2.52 लाख रुपए खर्च किए गए। लेकिन निर्माण संतोषजनक नहीं पाया गया है। जांच में पाया कि निर्माण मापदंडों पर नहीं हुआ। जितना निर्माण बताया, उतना मौके पर मिला भी नहीं है। इसलिए यह राशि भी वसूली जा सकती है।

03. मुरम बोल्डर कार्य खिरिया गांव से स्टेशन रोड तक बताया गया। उक्त काम वर्ष 2009-10 स्वीकृत हुआ। यह कार्य एक लाख रुपए से होना था, लेकिन 98 हजार खर्च किए। सचिव व जीआरएस द्वारा उक्त राशि से निर्माण के पूर्व एवं बाद के फोटो प्रस्तुत नहीं किए। निर्माण पर व्यय 98628 राशि वसूली जा सकती है।

दूसरे ने कराया निर्माण, निकाली राशि

ग्राम पंचायत द्वारा लक्ष्मणपुरा रोड से समीरा के चक तक रोड बनाई गई। ये कार्य वर्ष 2011-12 में स्वीकृत हुआ। पांच लाख रुपए में से पंचायत ने 4.91 लाख व्यय कर दिए। जांच दल को पता चला कि ये कार्य व्यक्तिगत रूप से समीर खान एवं रज्जाक खान द्वारा कराया गया था। एजेंसी द्वारा कोई काम नहीं कराया गया। लेकिन पंचायत ने करीब 4.91 लाख रुपए निकाल लिए हैं। जांच में ये बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। इस तरह की पंचायतों में जांच कराई जाएं तो और भी गड़बड़ी सामने आ सकती हैं।

कराएंगे एफआइआर

खिरिया पंचायत की जांच रिपोर्ट मिली है। इसमें जो भी राशि व्यर्थ खर्च की गई है, उसकी वसूली के लिए कार्रवाई की जाएगी। एफआइआर भी दर्ज कराएंगे।

-अरुण श्रीवास्तव, सीईओ जिपं

Show More
Manoj vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned