34 साल में भी शुरू नहीं हो पाया ट्रांसपोर्ट नगर, कौडिय़ों के दाम दिए गए थे भूखंड

लोगों को दिए गए थे भूखंड, सड़कों पर खड़े किए जा रहे हैं ट्रक

गुना. शहर में नपा द्वारा गोकुल सिंह चक और चिंताहरण मंदिर के बीच बनाया ट्रांसपोर्ट नगर (यातायात नगर ) अब तक शुरू नहीं हो पाया। ३४ साल पूर्व इसे विकसित करने भूखंड आवंटित किए थे, लेकिन इसमें अब तक लोग शिफ्ट नहीं हो पाए। नपा ने ६६१ लोगों को भूखंड आवंटित किए हैं। ५७५ से अधिक भूखंड तो कौडिय़ों के दाम दिए गए। लेकिन नपा लोगों को यहां पर शिफ्ट नहीं कर पाई और ना ही उनके भूखंड निरस्त किए गए।

मजेदार बात ये है कि जिनको प्लॉट आवंटन हुए वे तत्कालीन अध्यक्ष और नगर पालिका के अधिकारियों के परिवार और रिश्तेदारों के नाम शामिल हैं। ट्रांसपोर्ट नगर शुरू न होने से एबी रोड पर वाहनों की मरम्मत आदि का काम चल रहा है, जिससे कभी-कभी एबी रोड पर जाम भी लग जाता है। नपा ने सबसे पहले यहां १९८६ में भूखंड आवंटित किया था। इसके बाद चार बार भूखंड आवंटित किए जा चुके हैं। लेकिन लोगों ने यहां पर ना तो अपने वर्कशॉप बनाए और ना ही अपने वाहन खड़े किए। नपा ने नगर बसाने बिजली, पानी, नाली और सड़क पर लाखों रुपए खर्च किए, लेकिन इसका लाभ नहीं मिल पाया। उधर, वाहनों के शिफ्ट नहीं होने से बड़ी संख्या में वाहन एबी रोड किनारे ही खड़े किए जा रहे हैं। इस वजह से शहर में ट्रैफिक का दबाव रहता है। हनुमान चौराहा, जयस्तंभ चौराहा, तेलघानी पर जाम के हालात रहते हैं। इस वजह से लोगों को काफी असुविधा होती है। बाजार में भी जाम के हालात रहते हैं।

इन कामों के लिए दिए थे भूखंड

ट्रांसपोर्ट नगर में ६६१ लोगों को भूखंड आवंटित किए थे। इनमें ढ़ाबा, गोदाम, वर्कशॉप, चाय होटल, पान दुकान, मैकेनिक, वेल्डिंग वक्र्स, आटो पाटर््स, इलेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग, एसटीडी और होटल आदि खोले जाना थे। । लेकिन किसी भूखंड में नींव डली हुई है तो किसी का बना तो वह क्षतिग्रस्त हो गया।

लोगों ने भूखंडों की राशि भी जमा नहीं की

उधर, नपा ने ४ से ५ हजार रुपए लेकर लोगों के भूखंड बुक किए थे। लेकिन ३४ साल बाद भी सभी की राशि जमा नहीं हो पाई है। ५७५ भूखंड तो महज ७५०० रुपए से ३५ हजार रुपए तक के हैं, जिनकी कीमत बाजार मूल्य से ५ प्रतिशत भी नहीं है। एबी रोड किनारे स्थित इस यातायात नगर में व्यापारियों ने अपने अलावा दूसरों के नाम से भी भूखंड ले लिए थे। नपा की स ती नहीं होने से न तो व्यापारियों ने राशि जमा कराई और ना ही भूखंडों का निर्माण हुआ।

बिजली-पानी की दी थी सुविधा

यातायात नगर विकसित करने नपा ने लाखों रुपए खर्च कर बिजली, पानी की व्यवस्था की थी। पानी के लिए टंकी का निर्माण कराया, लेकिन देखरेख के अभाव में क्षतिग्रस्त हो गई है। सड़कों और नाली का निर्माण कराया था, लेकिन नपा लोगों को यहां पर शिफ्ट नहीं करा पाई। इस वजह से इस भूमि का उपयोग नहीं हो पाया। नपा ने पहली बार भूखंड १९८६ में बांटे। पहली बार कम लोग भूखंड लेने पहुंचे। ३० साल पहले यातायात नगर बेहद पिछड़ा क्षेत्र माना जाता था। फिर सन् १९८९, १९९२, १९९५ और २००० में भूखंडों का आवंटन हुआ। लोगों को भूखंडों पर कब्जा दिलाए। दो साल पहले भी कवायद की गई थी, लेकिन इसके बाद भी लोग शिफ्ट नहीं हुए।

इस संबंध में कार्रवाई की जाएगी

ट्रांसपोर्ट (यातायात नगर) बसाने की योजना को अंजाम दिया गया था, जल्द ही वहां ट्रक आदि की मरम्मत और खड़े होने की व्यवस्था हो, इस संबंध में कार्रवाई की जाएगी।

संजय श्रीवास्तव सीएमओ नपा गुना

Manoj vishwakarma
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned