scriptTrauma Care Center in Guna District Hospital in name only | पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर | Patrika News

पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर

- न मानकों के तहत बिल्डिंग बनी और न आज तक जरूरी सुविधाएं उपलब्ध हो सकीं
- जिन बड़े नेताओं ने उद्घाटन किया उन्होंने आज तक नहीं ली स्वास्थ्य सुविधाओं की सुध
- न अलग से डॉक्टर की भर्ती हुई और न पैरामेडिकल स्टाफ
- हालत ऐसी कि इमरजेंसी केस हैंडिल करने सर्वसुविधायुक्त माइनर ओटी तक उपलब्ध नहीं
- गंभीर मरीज को भर्ती करने आईसीयू भी नहीं

गुना

Published: March 29, 2022 12:15:48 am

गुना. जिले की इमरजेंसी सेवाएं पिछले काफी समय से बीमार हैं। स्थिति यह है कि आपातकालीन सेवाओं के लिए बनाए गए ट्रोमा केयर सेंटर होने के बावजूद गंभीर मरीजों को सही समय पर उपचार तक नहीं मिल पा रहा है। मरीजों को प्राइवेट अस्पताल और निजी पैथोलॉजी पर जांच कराने जाना पड़ रहा है। जिससे न सिर्फ मरीज की जान पर बन रही है बल्कि उसे शारीरिक व आर्थिक परेशानी भी झेलनी पड़ रही है। जिला मुख्यालय पर ही जब इमरजेंसी सेवाओं के यह हाल हैं तो अंचल के स्वास्थ्य केंद्रों के क्या हालात होंगे यह आसानी से समझा जा सकता है। यहां बता दें कि बीते तीन सालों में विधायक, सांसद से लेकर प्रभारी मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री तक जिला अस्पताल का कई बार निरीक्षण कर चुके हैं लेकिन आज तक न तो कमियां दूर हो सकी हैं और न स्वास्थ्य सुविधाओं में इजाफा।
जानकारी के मुताबिक जिस जिले से होकर राष्ट्रीय राजमार्ग और फोरलेन गुजरता है वहां के जिला अस्पताल में ट्रोमा केयर सेंटर यूनिट को होना अति आवश्यक होता है। जिसके तहत शासन ने गुना जिला अस्पताल में ट्रोमा केयर सेंटर की स्वीकृति दी। जिसका लोकार्पण 17 अक्टूबर 2015 को तत्कालीन गुना-शिवपुरी लोकसभा क्षेत्र के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया तथा तत्कालीन गुना विधायक पन्नालाल शाक्य ने किया था। तब से लेकर अब तक ट्रोमा केयर सेंटर में जो स्टाफ शासन ने स्वीकृत किया था उस पर पूरी भर्ती नहीं हो सकी है। वर्तमान में जो डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ सेवाएं दे रहा है वह जिला अस्पताल का है।
-
पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर
पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर,पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर,पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर,पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर,पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर
बिना मास्टर प्लान के बनवा दिया ट्रोमा सेंटर का भवन
जिन अधिकारियों पर स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने तथा मानक अनुसार निर्माण कार्य कराने की जिम्मेदारी है, वे ही अपना कर्तव्य ठीक से नहीं निभा रहे हैं। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण अस्पताल की महत्वपूर्ण इकाई ट्रोमा केयर सेंटर का भवन है। जिसे स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइड लाइन के तहत इस तरह से बनाया जाना चाहिए जहां गंभीर मरीज को एक ही छत के नीचे संपूर्ण इलाज मिल सके। जिसमें ओपीडी से लेकर भर्ती और सभी जांच सुविधाएं शामिल हैं। इसके लिए एक ही कैंपस या परिसर में माइनर और मेजर ओटी के अलावा पैथोलॉजी, ब्लड बैंक , आईसीयू की सुविधा उपलब्ध हो। भवन का इन्फ्रास्ट्रक्चर इस तरह से होना जरूरी है जिसमें मरीजों को एक स्थान से दूसरे जगह पर ले जाने में किसी तरह की दिक्कत न आए। इन सभी मानकों को गुना जिला अस्पताल में बनाए गए ट्रोमा केयर सेंटर भवन में अनदेखा किया गया है। जिसका खामियाजा मरीज से लेकर डॉक्टर तक भुगत रहे हैं।
-
वर्तमान में ट्रोमा यूनिट के यह हाल
जिला अस्पताल परिसर में स्थापित ट्रोमा केयर यूनिट की बात करें तो पहली बार में कोई भी मरीज या उसका अटैंडर इस वार्ड को खोज ही नहीं पाएगा। क्योंकि से संबंधित सूचना बोर्ड दो अलग-अलग स्थानों पर लगे हैं। ट्रोमा केयर यूनिट के लोकार्पण की शिला पट्टिका पर संयुक्त रूप से मेटरनिटी यूनिट का नाम भी लिखा है। जिस भवन के मेन गेट पर यह सूचना चस्पा है वहां वर्तमान में न तो मेटरनिटी वार्ड है और न ही ट्रोमा यूनिट। इस भवन में तो वर्तमान में मॉड्यूलर ओटी का निर्माण चल रहा है। वहीं ट्रोमा यूनिट से जुड़ा दूसरा सूचना बोर्ड मुख्य अस्पताल के ओटी व पोस्ट ऑपरेटिव वार्ड के बीच लगा है। जहां फस्र्ट फ्लोर पर ट्रोमा के मरीज भर्ती किए जाते हैं। यहां बता दें कि इस वार्ड को भले ही ट्रोमा केयर सेंटर नाम दिया गया है। लेकिन सामान्य आर्थोपेडिक व सर्जिकल वार्ड की तरह ही है। यहां न तो गंभीर मरीजों के लिए अलग से आईसीयू है और न ही मेजर ओटी।
-
ट्रोमा में जिन विशेषज्ञों की जरूरत वे ही नहीं
जिला अस्पताल में ट्रोमा केयर यूनिट सिर्फ नाम की संचालित है, इसे इस बात से समझा जा सकता है कि यहां गंभीर मरीजों का इलाज करने विशेषज्ञ चिकित्सक की जरूरत होती है लेकिन इनमें (आंख, कान, नाक, गला, हड्डी रोग) से एक भी विशेषज्ञ चिकित्सक वर्तमान में मौजूद नहीं है। वहीं मेजर ऑपरेशन के लिए जो आधुनिक व सर्वसुविधायुक्त ऑपरेशन थियेटर की जरूरत होती है वह भी ट्रोमा यूनिट में अलग से नहीं है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि ट्रोमा में अक्सर दुर्घटना या झगड़े में घायल गंभीर मरीज आते हैं, जिन्हें तत्काल आईसीयू में भर्ती करना होता है। लेकिन ट्रोमा यूनिट में यह बेहद उपयोगी व संवेदनशील इकाई आईसीयू तक नहीं है। ऐसे में कोरोना के मरीजों के लिए जो मेडिकल आईसीयू बनाया गया था, उसी का उपयोग सभी तरह के गंभीर मरीजों को भर्ती करने किया जा रहा है। यहां बता दें तीन साल में कई बार ऐसे मौके आए हैं जब कोरोना का मरीज भर्ती करने न सिर्फ पूरे आईसीयू को खाली करा लिया गया था बल्कि वर्तमान में जिस डीईआईसी भवन के फस्र्ट फ्लोर पर यह आईसीयू है उस पूरे परिसर तक को खाली कराना पड़ा था। विशेषज्ञ चिकित्सक की मानें तो जिला अस्पताल में हर गंभीर बीमारी के मरीजों का आईसीयू अलग होता है, जिसमें मेडिकल, सर्जिकल, आर्थोपेडिक तथा कोविड आईसीयू शामिल है।
-
जांच सुविधाएं भी बीमार
गंभीर मरीजों को त्वरित इलाज के लिए जिला अस्पताल में वर्ष 2015 ट्रोमा केयर यूनिट की स्थापना हुई थी। जिसके तहत एक ही छत के नीचे सभी तरह की जरूरी जांचें जिनमें एक्सरे, सोनोग्राफी, सीटी स्कैन शामिल हैं। लेकिन इनमें से एक भी सुविधा वर्तमान में नियमित रूप से चालू नहीं है। एक्सरे विभाग में पिछले तीन सालों से रेडियोलॉजिस्ट का पद खाली है। वहीं सोनोग्राफी करने के लिए भी अधिकृत चिकित्सक नहीं है। सीटी स्केन मशीन आउट डेटेड हो चुकी है। शासन से स्वीकृति मिलने के बाद भी अब तक नई मशीन नहीं लग सकी है। मरीजों को मजबूरीवश बाजार मेें काफी ज्यादा पैसे खर्च जांचें करवानी पड़ रही हैं। वहीं अस्पताल में एक मात्र पैथोलॉजी है। जिसकी व्यवस्थाएं भी निजी हाथों में सौंप दी गई हैं। ऐसे में आपातकालीन सेवाएं खासकर रात के समय कोई सुविधा नहीं मिल पा रही है।
-
बेहद खास और उपयोगी इकाई है ट्रोमा सेंटर
किसी भी जिला अस्पताल में स्थापित ट्रोमा केयर सेंटर बेहद खास और उपयोगी इकाई होती है। जिसका काम गंभीर मरीज को कम से कम समय उचित इलाज पहुंचाना होता है। इसकी शुरूआत मरीज को एंबुलेंस से उठाकर माइनर ओटी में शिफ्ट करने, जरूरी जांचें करवाने तथा आवश्यक होने पर तुरंत ऑपरेशन करना। यही नहीं मरीज की कंडीशन यदि ज्यादा खराब है तो तत्काल उसे हायर सेंटर रैफर किया जाना शामिल है। इसके लिए अलग से विशेषज्ञ स्टाफ पूरे 24 घंटे ड्यूटी पर रहता है। जो आईसीयू में भर्ती मरीज पर लगातार नजर बनाए रखता है। लेकिन गुना जिला अस्पताल में ऐसी कोई इमरजेंसी सुविधा नहीं है।
-
इनका कहना
जब से ट्रोमा केयर सेंटर का भवन बना है तब से ही यह कंबाइन रूप में संचालित हो रहा है। जहां तक ट्रोमा यूनिट के स्वीकृत स्टाफ की बात है तो लगभग सभी पद खाली हैं। इस यूनिट में खासकर विशेषज्ञ चिकित्सक की जरूरत होती है, जो हमारे पास पहले से ही नहीं हैं। ऐसे में जो स्टाफ है उसी काम चलाया जा रहा है।
डॉ हर्षवर्धन जैन, सीएस
-
फैक्ट फाइल
जिला अस्पताल में डॉक्टर व स्टाफ की स्थिति
क्लास-1 : स्वीकृत पद 34, पदस्थ 9
क्लास 2 : स्वीकृत पद 42 पदस्थ 36
स्टाफ नर्स : स्वीकृत पद 160 पदस्थ 150
पत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटरपत्रिका फोकस : गुना जिला अस्पताल में सिर्फ नाम का ट्रोमा केयर सेंटर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.