scriptTwenty collectors have changed in 36 years, 6 have been president, yet | 36 साल में बीस से अधिक कलेक्टर बदल गए, छह अध्यक्ष रहे, फिर भी नहीं बस पाया ट्रांसपोर्ट नगर | Patrika News

36 साल में बीस से अधिक कलेक्टर बदल गए, छह अध्यक्ष रहे, फिर भी नहीं बस पाया ट्रांसपोर्ट नगर

-प्लॉट आंवटन निरस्त करने के लिए दिए नोटिस, लाखों रुपए विकास पर खर्च
हालत जस की तस, आज भी सड़कों पर चल रही हैं मिस्त्रियों की दुकानें, और खड़े हो रहे हैं ट्रक

गुना

Updated: May 10, 2022 12:41:27 pm

गुना। आज से 36 साल पूर्व ट्रांसपोर्ट नगर बसाए जाने का सपना संजोया था, अपने-अपने को वहां भूखण्ड भी आवंटित कर दिए थे। इन 36 सालों में बीस से अधिक कलेक्टर आए, नगर पालिका के छह अध्यक्ष रहे, उन्होंने भी प्लॉट आवंटित के अलावा बसाहट की कागजी प्रक्रिया कराई, लाखों रुपए कागजों में विकास पर खर्च कर दिए।और अपने कार्यकाल में ट्रांसपोर्ट नगर बसाए जाने में कार्रवाई कराई, उनके जाते ही वह कार्रवाई थम गई। इस सबके यानि 36 साल बाद भी ट्रांसपोर्ट नगर बस नहीं पाया। आज भी सड़क पर मिस्त्रियों की दुकानें चल रही हैं, सड़क पर ही ट्रक खड़े हो रहे हैं। कुल मिलाकर शहर में नपा द्वारा गोकुल सिंह चक और चिंताहरण मंदिर के बीच बनाया जा रहा ट्रांसपोर्ट नगर (यातायात नगर ) अब तक शुरू नहीं हो पाया। 36 साल पूर्व इसे विकसित करने भूखंड आवंटित किए थे। लेकिन इसमें अब तक लोग शिफ्ट नहीं हो पाए। नपा ने 661 लोगों को भूखंड आवंटित किए। 575 से अधिक भूखंड तो कौडिय़ों के दाम बांट दिए गए। लेकिन नपा लोगों को यहां पर शिफ्ट नहीं कर पाई और ना ही उनके भूखंड निरस्त किए गए। मजेदार बात ये है कि जिनको प्लॉट आवंटन हुए वे तत्कालीन अध्यक्ष और नगर पालिका के अधिकारियों के परिवार और रिश्तेदारों के नाम शामिल हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार नपा ने सबसे पहले यहां 1986 में भूखंड आवंटित किया था। इसके बाद चार बार भूखंड आवंटित किए जा चुके हैं। लेकिन लोगों ने यहां पर ना तो अपने वर्कशॉप बनाए और ना ही अपने वाहन खड़े किए। नपा ने नगर बसाने बिजली, पानी, नाली और सड़क पर लाखों रुपए खर्च किए, लेकिन इसका लाभ नहीं मिल पाया।
लोगों ने भूखंडों की राशि भी जमा नहीं की
उधर, नपा ने 4 से 5 हजार रुपए लेकर लोगों के भूखंड बुक किए थे। लेकिन 36 साल बाद भी सभी की राशि जमा नहीं हो पाई है। 575 भूखंड तो महज 7500 रुपए से 35 हजार रुपए तक के हैं, जिनकी कीमत बाजार मूल्य से 5 प्रतिशत भी नहीं है। एबी रोड किनारे स्थित इस यातायात नगर में व्यापारियों ने अपने अलावा दूसरों के नाम से भी भूखंड ले लिए थे। नपा की सख्ती नहीं होने से न तो व्यापारियों ने राशि जमा कराई और ना ही भूखंडों का निर्माण हुआ।

36 साल में बीस से अधिक कलेक्टर बदल गए, छह अध्यक्ष रहे, फिर भी नहीं बस पाया ट्रांसपोर्ट नगर
36 साल में बीस से अधिक कलेक्टर बदल गए, छह अध्यक्ष रहे, फिर भी नहीं बस पाया ट्रांसपोर्ट नगर
इन कामों के लिए दिए थे भूखंड
ट्रांसपोर्ट नगर में 661 लोगों को भूखंड आवंटित किए थे। इनमें ढ़ाबा, गोदाम, वर्कशॉप, चाय होटल, पान दुकान, मैकेनिक, वेल्डिंग वर्क्स, आटो पाटर््स, इलेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग, एसटीडी और होटल आदि खोले जाना थे। । लेकिन किसी भूखंड में नींव डली हुई है तो किसी का बना तो वह क्षतिग्रस्त हो गया।
बिजली-पानी की दी थीं सुविधाएं
यातायात नगर विकसित करने के लिए नपा ने लाखों रुपए खर्च कर बिजली, पानी की व्यवस्था की थी। पानी के लिए टंकी का निर्माण कराया, लेकिन देखरेख के अभाव में क्षतिग्रस्त हो गई है। सड़कों और नाली का निर्माण कराया था, लेकिन नपा लोगों को यहां पर शिफ् ट नहीं कर पाई। इस वजह से इस भूमि का उपयोग नहीं हो पाया।
1986 से 2000 के बीच बांटे थे भूखंड
नपा ने पहली बार भूखंड 1986 में बांटे। पहली बार कम लोग भूखंड लेने पहुंचे। 30 साल पहले यातायात नगर बेहद पिछड़ा क्षेत्र माना जाता था। इसके बाद सन् 1989, 1992, 1995 और 2000 में भूखंडों का आवंटन हुआ। इसके बाद लोगों को भूखंडों पर कब्जा भी दिलाए। दो साल पहले भी कवायद की गई थी, लेकिन इसके बाद भी लोग शिफ्ट नहीं हुए।
रोड किनारे खड़े किए जा रहे वाहन
यातायात नगर शुरू नहीं होने से ट्रक और रोड लाईन्स का दबाव शहर में रहता है। शहरी क्षेत्र में रोड लाईन्स संचालित हैं। इसके अलावा ट्रकों को एबी रोड पर सड़क किनारे जगह-जगह रखे जा रहे हैं। संजय स्टेडियम में ही कई ट्रक रखे जाते हैं। इसी तरह नानाखेड़ी मंडी गेट से लेकर कुशमौदा औद्योगिक क्षेत्र तक कई जगह ट्रक खड़े किए जा रहे हैं। इससे शहर में ट्रकों से हादसे हो रहे हैं।
कुमार पुरुषोत्तम और फ्रेंक ने ली रूचि
तत्कालीन कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम और वर्तमान कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए ने प्रशासक का पद होने के चलते ट्रांसपोर्ट नगर बसाए जाने के लिए हर स्तर पर प्रयास किए, प्लॉट न लेने वालों को नोटिस भी जारी किए,इस सबके बाद भी वहां विकास कार्य भी कराए, इतना होने पर भी प्लॉट लेने वाले वहां जाने को तैयार नहीं हुए। जबकि वहां थोक सब्जी मंडी भी ले जाने का प्लान तैयार हुआ था। इन दोनों की रूचि के बाद भी न तो प्लॉट धारक वहां जाने को तैयार हैं और न ही वहां पहुंचने वालों के प्लॉट का आवंटन निरस्त हो रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे गुट के दीपक केसरक का बड़ा बयान, कहा- हमें डिसक्वालीफिकेशन की दी जा रही हैं धमकीMaharashtra Politics Crisis: शिवसेना की कार्यकारिणी बैठक खत्म, जानें कौन-कौन से प्रस्ताव हुए पारितMaharashtra Political Crisis: आदित्य ठाकरे का बागी विधायकों पर निशाना, कहा- नहीं भूलेंगे विश्वासघात, हमारी जीत तय हैTeesta Setalvad detained: तीस्ता सीतलवाड़ को गुजरात ATS ने लिया हिरासत में, विदेशी फंडिंग पर होगी पूछताछकर्नाटक में पुजारियों ने मंदिर के नाम पर बनाई फर्जी वेबसाइट, ठगे 20 करोड़ रुपए'अग्निपथ' के विरोध में तेलंगाना के सिकंदराबाद में ट्रेन में आग लगाने वालों की वायरल हो रही वीडियो, पुलिस ने पहचान कर किया गिरफ्तारसावधान! विदेशी शैतानों के निशाने पर हमारी बेटियां... नाबालिग का अपहरण करने कतर से आया था बांदीकुई, दरभंगा से धरा गयाBPSC Paper Leak: पेपर लीक मामले में गिरफ्तार हुए JDU नेता शक्ति कुमार, सबसे पहले पेपर स्कैन कर WhatsApp पर था भेजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.