scriptVillage is getting electricity for 5 hours, moong is drying up without | गांव में बमुश्किल 5 घंटे मिल रही बिजली, किसान बोले, बिन पानी सूख रही मूंग की फसल | Patrika News

गांव में बमुश्किल 5 घंटे मिल रही बिजली, किसान बोले, बिन पानी सूख रही मूंग की फसल

  • बिजली संकट ने बढ़ाई किसानों की मुसीबत
  • सिंचाई के लिए ट्यूबवैल ही एक मात्र सहारा
  • बिजली कंपनी के अधिकारी बोले, जितना हमारे हाथ में उतनी दे रहे बिजली
  • वर्ष 2021 में मूंग की बोवनी 2435 हेक्टेयर में जबकि इस बार 4 हजार से अधिक

गुना

Published: April 22, 2022 09:50:14 am

गुना. सरकार खेती को लाभ का धंधा बनाना चाहती है लेकिन कभी प्रकृति की मार तो कभी कृत्रिम बिजली संकट फसल की अच्छी पैदावार में अड़चन पैदा कर रहा है। ऐसे ही हालात वर्तमान में गुना जिले में बने हुए हैं। पिछले साल की तुलना में इस बार मंूग की बोवनी के रकबे में खासी बढ़ोत्तरी हुई है। इसकी वजह पिछले साल हुई अच्छी बारिश को बताया जा रहा है। जिसके कारण बोवनी से पहले तक ट्यूबवैलों में पर्याप्त पानी था। लेकिन मार्च के आखिरी सप्ताह से जैसे ही तेज गर्मी पड़ना शुरू हुई तो अप्रेल माह में यह और ज्यादा बढ़ गई। जिसका नतीजा रहा कि धीरे-धीरे बोरों में जल स्तर खिसकने लगा। इस परेशानी के बीच बिजली कंपनी की वितरण व्यवस्था ने इसे और ज्यादा कठिन बना दिया। जब से मूंग की फसल को पानी की जरूरत महसूस होने लगी है तब से ही बिजली कंपनी ने अघोषित मैराथन कटौती शुरू कर दी। हालात यह हैं कि ग्रामीण अंचल में 24 घंटे में से बमुश्किल 6 घंटे भी बिजली मिलना मुश्किल हो रहा है। यही नहीं बिजली अधिकारी कई गांवों में बिल बकाया की बात कहकर ट्रांसफार्मर तक उठा ले गए। जो ट्रांसफार्मर अत्याधिक लोड के चलते फुंक गए थे, उन्हें भी अब तक बदला नहीं गया है। इस तरह मूंग की फसल पर बिजली संकट कहर बनकर टूट रहा है। कुल मिलाकर किसानों की उस मंशा को बड़ा अघात लगा है जिसके तहत उन्होंने तीसरी फसल के रूप में मूंग की बुवाई कर अतिरिक्त लाभ लेने के बारे में सोचा था।
इधर बिजली संकट को लेकर अधिकारियों का कहना है कि वे अपनी तरफ से कोई अतिरिक्त बिजली कटौती नहीं कर रहे हैं। उनके जो हाथ में है उसके अनुसार पर्याप्त बिजली दे रहे हैं। इसके बाद भी यदि किसी इलाके में ज्यादा बिजली जा रही है तो उसके स्थानीय कारण है। जैसे किसानों द्वारा बिजली बिल जमा न करना तथा ट्रांसफार्मर अधिक लोड होने की वजह से फुंक जाना। वैसे गर्मी के मौसम में बिजली की अतिरिक्त खपत बढ़ जाती है। वहीं उत्पादन में कमी आई है। इसकी वजह जल और कोयला संकट है।
Village is getting electricity for 5 hours, moong is drying up without
इन ग्रामों में बिजली का गंभीर संकट
बमोरी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम रामपुरिया, मोयदा, टगरिया, पूरा, चकचुरीलिया, कपासी, सिलावटी गांव में बिजली 24 घंटे में से बमुश्किल 2 से 3 घंटे ही मिल पा रही है। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि वे बिजली संकट के चलते बिजली कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों को आवेदन भी दे चुके हैं। लेकिन समस्या का निराकरण नहीं हुआ।
किसान की परेशानी उसकी जुबानी
पिछले कई वर्षों से मूंग की खेती करते आ रहे हैं। इस बार 15 बीघा में मूंग की फसल बोई है। मूंग की उत्तम फसल तैयार करने में 4 से 5 हजार प्रति बीघा का खर्च आता है। जिसमें बीज, दवाइयों का खर्च शामिल हैं। पिछले कुछ हफ्तों में लाइट की समस्या बहुत ज्यादा विकराल हो गई हे। वर्तमान में मुश्किल से 24 घंटे में मात्र 8 घंटे लाइट मिल पा रही है। कई बार मेंटेनेंस के चलते घंटों बिजली गुल रहती है। इस बार मूंग का रकबा भी काफी मात्रा में बड़ा है।
महेश प्रसाद शर्मा, किसान
-
पिछले साल अच्छी बारिश हुई थी इसलिए इस बार बोर में पानी भी अच्छा है। इस देखते हुए इस बार पिछले वर्ष की तुलना में एक हेक्टेयर रकबे में ज्यादा मूंग की फसल की है। मूंग की फसल में 15 से 18 दिन में पानी की जरूरत होती है। लेकिन बिजली पर्याप्त नहीं मिल पा रही इसलिए सिंचाई करने में बहुत ज्यादा परेशानी आ रही है। यदि यही हालत रही तो बीज खराब हो जाएगा।
सुनील पवार, किसान
-

ग्रामकालीन मूंग की बोवनी वर्ष 2022 (रकबा हेक्टेयर में)
विकासखंड्र ग्राम लक्ष्य पूर्ति
गुना 307 900 200
बमोरी 254 700 550
राघौगढ़ 367 1100 3150
चांचौड़ा 303 800 170
आरोन 146 500 160
-------------------------
योग 1377 4000 4230
------------------------
ग्रीष्मकालीन मूंग की बोवनी वर्ष 2021 (रकबा हेक्टेयर में)
विकासखंड्र ग्राम लक्ष्य पूर्ति
गुना 307 1300 250
बमोरी 254 1100 550
राघौगढ़ 367 1600 1110
चांचौड़ा 303 1200 250
आरोन 146 800 275
-------------------------
योग 1377 6000 2435
------------------------
मूंग की पैदावार का गणित
इस समय मूंग के बीज की कीमत क्वालिटी अनुसार 100 रुपए प्रति किलो से शुरूआत है जिसकी अधिकतम कीमत 300 रुपए तक है। एक एक बीघा मूंग की फसल में दवाई का खर्च 700 से 1200 रुपए तक आ रहा है। यह कृषि भूमि की गुणवत्ता के आधार पर कम या ज्यादा भी हो सकता है। बोवनी से कटाई तक एक बीघा में 3 से 4 हजार रुपए तक का खर्च आता है। वहीं औसत पैदावार 3 से 4 क्विंटल प्रति बीघा है। वर्तमान में मंडी में मूंग का भाव 5470 से 6435 चल रहा है।
-
इसलिए मूंग की ओर रुझान बढ़ रहा
मूंग एक बहुप्रचलित एवं लोकप्रिय दालों में से एक है। मूंग गर्मी और खरीफ दोनों मौसम की कम समय में पकने वाली एक मुख्य दलहनी फसल है। ग्रीष्म मूंग की खेती गेहूं, चना, सरसों, मटर, आलू, जौ, अलसी आदि फसलों की कटाई के बाद खाली हुए खेतों में की जाती है। गेहूं-धान फसल चक्र वाले क्षेत्रों में मूंग की खेती द्वारा मिट्टी उर्वरता को उच्च स्तर पर बनाए रखा जा सकता है। मूंग से नमकीन, पापड़ तथा मंगौड़ी जैसे स्वादिष्ट उत्पाद भी बनाए जाते हैं। इसके अलावा मूंग की हरी फलियों को सब्जी के रूप में बेचकर किसान अतिरिक्त आय प्राप्त कर सकते हैं। किसान इसकी एक एकड़ जमीन से 30 हजार रुपए तक की कमाई कर सकते हैं।
-
कब-कब होती है बुवाई
ग्रीष्मकालीन मूंग की बुवाई का उचित समय 15 मार्च से 15 अप्रैल तक होता है। जिन किसानोंं के पास सिंचाई की सुविधा है वे फरवरी के अंतिम सप्ताह से भी बुवाई कर देते हंै। बसंतकालीन मूंग बुवाई मार्च के प्रथम पखवाड़े में की जाती है। खरीफ मूंग की बुवाई का उपयुक्त समय जून के द्वितीय पखवाड़े से जुलाई के प्रथम पखवाड़े के मध्य है। बोवनी में देरी होने पर फूल आते समय तापमान में वृद्धि के कारण फलियां कम बनती है या बनती ही नहीं है। इससे इसकी पैदावार प्रभावित होती है। दलहनी फसल होने के कारण मूंग को अन्य खाद्यान्न फसलों की अपेक्षा नाइट्रोजन की कम आवश्यकता होती है। जड़ों के विकास के लिए 20 किग्रा नाइट्रोजन, 50 किग्रा फास्फोरस तथा 20 किग्रा पोटाश प्रति हैक्टेयर डालना चाहिए।
-
मूंग की फसल में सिंचाई
पहली सिंचाई 10-15 दिनों में करें। इसके बाद 10-12 दिनों के अंतराल में सिंचाई करें। इस प्रकार कुल 3 से 5 सिंचाइयां करें। यहां यह ध्यान रखना आवश्यक है कि शाखा निकलते समय, फूल आने की अवस्था तथा फलियां बनने पर सिंचाई अवश्य करनी चाहिए।
-
मूंग की फसल में रोग एवं कीटों का प्रकोप
ग्रीष्मकाल में कड़ी धूप व अधिक तापमान रहने से मूंग की फसल में रोगों व कीटों का प्रकोप कम होता है। फिर भी मुख्य कीट जैसे माहू, जैडिस, सफेद मक्खी, टिड्डे आदि से फसल को बचाने के लिए 15-20 दिनों बाद 8-10 किग्रा प्रति एकड़ क्लोरोपाइरीफॉस 2 प्रतिशत या मैथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत की धूल का पौधों पर बुरकाव करें। पीले पत्ते के रोग से प्रभावित पौधों को उखाडक़र जला दें या रासाायनिक विधि के अंतर्गत 100 ग्राम थियोमेथाक्सास का 500 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति हैक्टेयर रखे में छिडक़ाव करें।
-
मूंग का अधिक उत्पादन लेने के लिए यह करें
स्वस्थ और प्रमाणित बीज का उपयोग करें।
सही समय पर बुवाई करें, देर से बुवाई करने पर पैदावार कम हो जाती है।
किस्मों का चयन क्षेत्रीय अनुकूलता के अनुसार करें।
बीज उपचार अवश्य करें। जिससे पौधो को बीज और मिट्टी जनित बीमारियों से प्रारंभिक अवस्था में प्रभावित होने से बचाया जा सके।
मिट्टी परीक्षण के आधार पर संतुलित उर्वरक उपयोग करें। जिससे भूमि की उर्वराशक्ति बनी रहती है, जो अधिक उत्पादन के लिए जरूरी है।
खरीफ मौसम में मेड नाली पद्धति से बुवाई करें।
समय पर खरपतवारों नियंत्रण और कीट और रोग रोकथाम करें।
पीला मोजेक रोग रोधी किस्मों का चुनाव क्षेत्र की अनुकूलता के अनुसार करें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

वाराणसी कोर्ट में सर्वे रिपोर्ट पर फैसला सुरक्षित, एडवोकेट कमिशनर ने 2 दिन का मांगा समय, SC में ज्ञानवापी का फैसला सुरक्षितAssam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीWest Bengal Coal Scam: SC ने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक और रुजिरा की गिरफ्तारी पर रोक लगाई, दिल्ली की बजाय कोलकाता में पूछताछ करेगी EDराजस्थान BJP में सियासी रार तेज: वसुंधरा ने शायरी से साधा निशाना... जिन पत्थरों को हमने दी थीं धड़कनें, वो आज हम पर बरस...कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीक्रिकेट इतिहास के 5 सबसे लंबे गेंदबाज, नंबर 1 की लंबाई है The Great Khali के बराबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.