scriptWhat happened in Guna Hospital that doctors refused to do emergency du | गुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दिया | Patrika News

गुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दिया

जिला अस्पताल: डॉक्टर के तीन महीने बाद लौटने के मामले ने तूल पकड़ा
..तो हम भी नहीं करेेेंगे इमरजेंसी ड्यूटी

गुना

Updated: July 18, 2022 12:54:23 am

गुना. जिला अस्पताल में पदस्थ डॉ सुनील यादव (एमडी) के बिना सूचना के तीन महीने तक गायब रहने के मामले में ने तूल पकड़ लिया है। शनिवार के अंक में पत्रिका ने इस मामले का खुलासा किया। इसके बाद अन्य डॉक्टर्स खुलकर विरोध में आ गए। यहां तक कि ओपीडी और इमरजेंसी सेवाओं का बहिष्कार कर दिया। इससे मरीज काफी परेशान रहे। मामला बिगड़ते देख सिविल सर्जन डॉ. बीएल कुशवाह और सीएमएचओ राजकुमार ऋषिश्वर मौके पर पहुंचे। उन्होंने सभी डॉक्टर्स को एक जगह बिठाकर अपनी-अपनी बात कहने का मौका दिया। दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद सीएमएचओ ने स्पष्ट करते हुए कहा कि ड्यूटी के मामले में शासन का जो नियम है, उसके तहत ड्यूटी देनी होगी। जहां तक डॉ. सुनील यादव से इमरजेंसी ड्यूटी कराने का फैसला है उस पर सिविल सर्जन निर्णय करेंगे। यह उनके अधिकार क्षेत्र में है कि वह किस क्लास-1 कनिष्ठ डॉक्टर से इमरजेंसी ड्यूटी कराना चाहते हैं। इसे लेकर डॉ यादव ने मुखरता से कहा कि यदि उनसे इमरजेंसी ड्यूटी कराई जाती है तो वह नौकरी छोड़ने को तैयार हैं। वहीं अन्य डॉक्टर्स का कहना था कि इमरजेंसी ड्यूटी लगाने को लेकर भेदभाव बरता जा रहा है। यही विवाद की जड़ है। आखिर में फैसला सीएस के ऊपर छोड़ दिया गया। शेष डॉक्टर्स अपने काम पर लौट गए तब जाकर स्वास्थ्य सेवाएं बहाल हो सकीं।
गुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दिया
गुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दिया
इमरजेंसी ड्यूटी के लिए 13 डॉक्टर की जरूरत: सीएस के मुताबिक इस समय हमारे पास इमरजेंसी ड्यूटी देने वाले 7 ही डॉक्टर हैं। सप्ताह भर का चक्र चलाने 13 डॉक्टर की आवश्यकता है। समस्या सामने आने के बाद हमने शासन को पत्र लिखकर नए डॉक्टर्स की मांग की है।
इन डॉक्टर्स को मिला है विशेषज्ञ का दर्जा: डॉ. रितेश कांसल, डॉ. अजय गुप्ता, डॉ. सुधीर राठौर, डॉ. वीरेंद्र रघुवंशी, डॉ. एलके धाकड़, डॉ. राहुल श्रीवास्तव, डॉ. पीएन धाकड़, डॉ. विकास राजपूत, डॉ. रुचि राणा, डॉ. रश्मि दीक्षित, डॉ. आभा शर्मा, डॉ. रामवरन राजपूत, डॉ. आनंद दास शर्मा, डॉ. सुनील यादव, डॉ. पीसी वर्मा, डॉ. एसडी बरुआ, डॉ. आकांक्षा पांडे को विशेषज्ञ बनाया है। इससे एक तरफ जहां मरीजों को मिलने वाली स्वास्थ्य सेवाओं में इजाफा हुआ है।वहीं डॉक्टर्स की कमी के चलते प्रबंधन के समक्ष बड़ा संकट खड़ा हो गया है।
इधर जिला अस्पताल में इमरजेंसी ड्यूटी कराने को लेकर उत्पन्न विवाद के बीच एक और नया खुलासा हुआ है। अस्पताल में पदस्थ कुछ विशेषज्ञ डॉक्टर्स ऐसे हैं, जो न के बराबर मरीज देखते हैं। वरिष्ठ डॉक्टर अपने कक्ष में न बैठकर सीएस के चैंबर में बैठते हैं। ऐसे में आसानी से समझा जा सकता है कि मरीज को कैसे पता चलेगा कि यहां वही डॉक्टर बैठे हैं। डॉ. सुनील यादव के मामले के बाद कुछ डॉक्टर्स ने पत्रिका को बताया कि विशेषज्ञ डॉक्टर्स की हिस्ट्री चैक की जानी चाहिए कि उन्होंने महीने भर में कितने मरीज देखे और कितने ऑपरेशन किए। इस हिस्ट्री से दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। ड्यूटी को लेकर उपजे विवाद में यह भी एक बड़ा मुद्दा है।
डॉक्टर्स के बीच विवाद की शुरुआत यहां से हुई

जिला अस्पताल में डॉक्टर्स की कमी के चलते इमरजेंसी ड्यूटी को लेकर पहले से विवाद चल रहा था। इसे और ज्यादा बढ़ाने का काम किया है हाल ही में जारी शासन के एक आदेश ने। इसके तहत जिला अस्पताल में पदस्थ एक दो नहीं बल्कि 17 डॉक्टर्स को विशेषज्ञ का दर्जा दे दिया गया। ऐसे में शासन का नियम कहता है कि विशेषज्ञ डॉक्टर से इमरजेंसी ड्यूटी नहीं कराई जाती। ऐसे में 17 डॉक्टर के विशेषज्ञ बनने से इमरजेंसी के लिए 7 ही डॉक्टर बचे हैं। इमरजेंसी ड्यूटी चार्ट के मुताबिक 24 घंटे के चक्र में 4 डॉक्टर की ड्यूटी लगनी है। यदि 7 दिनाें तक ड्यूटी लगाने की बात करें तो 13 डॉक्टर की आवश्ययकता है। ऐसे में 24 घंटे चलने वाले ड्यूटी चक्र में निरंतरता रखना सीएस के लिए बड़ी चुनौती है।
ऐसे चलता है ड्यूटी चक्र: सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक, इसके बाद दोपहर 2 से रात 8 बजे तक दो चक्र पूरे हो जाते हैं। अगले चक्र में रात 8 से सुबह 8 तक ड्यूटी देनी होती है। इस तरह 3 चक्र में 3 डॉक्टर सेवाएं देते हैं। नाइट ड्यूटी देने वाले डॉक्टर का डे ऑफ रहता है। 24 घंटे इमरजेंसी ड्यूटी देने के लिए 4 डॉक्टर का होना जरूरी है। इसी तरह का संकट जिला अस्पताल की महत्वपूर्ण इकाई मेटरनिटी विंग में भी उत्पन्न हो गया है। यहां पहले से ही ड्यूटी देने वालों की कमी है।
गुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दियागुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दियागुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दियागुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दियागुना अस्पताल में ऐसा क्या हुआ कि डॉक्टर्स ने इमरजेंसी डयूटी करने से इंकार कर दिया

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: पीएम बनने के सवाल को टाल गए नीतीश कुमार, कल दोपहर दो बजे 8वीं बार लेंगे सीएम पद की शपथनीतीश ने सरकार बनाने का दावा पेश किया, कहा- हमें 164 विधायकों का समर्थनरवि शंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार से पूछा बीजेपी के साथ क्यों आए थे? पीएम मोदी के नाम पर आपको जीत मिली, ये कैसा अपमान?पश्चिम बंगाल के बीरभूम में दर्दनाक हादसा, ऑटोरिक्शा और बस की टक्कर में 9 लोगों की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख'मुफ्त रेवड़ी' कल्चर मामले में सुप्रीम कोर्ट में आमने-सामने AAP और BJP, आम आदमी पार्टी ने कहा- PM मोदी ने 'दोस्तवाद' के लिए खाली किया देश का खजाना23 बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन सेरेना विलियम्स ने अचानक किया रिटायरमेंट का ऐलान, फैंस हुए भावुकMaharashtra Cabinet Expansion: कौन है सीएम शिंदे की नई टीम में शामिल 18 मंत्री? तीन पर लगे है गंभीर आरोपBihar New Govt: नीतीश कुमार CM, डिप्टी CM व होम मिनिस्ट्री राजद के पाले में, कांग्रेस से स्पीकर बनाए जाने की चर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.