धान और मक्कई की खेती के लिए मशीनरी पर 50 प्रतिशत तक अनुदान, यहां करें फोन

छोटे और सीमांत किसानों को 50 जबकि बाकी किसानों को 40 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी

By: Bhanu Pratap

Published: 05 May 2020, 08:33 PM IST

चंडीगढ़। राज्य में खरीफ सीजन के दौरान धान की बुवाई, सीधी बिजाई और मक्कई की खेती को और ज्य़ादा प्रोत्साहित करने के लिए पंजाब सरकार ने इस्तेमाल की जाने वाली कृषि मशीनरी की खऱीद पर 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी देने का फ़ैसला किया है, जिससे भूजल की बचत होने के अलावा कोविड -19 की पाबंदियों के मद्देनजऱ किसानों को मज़दूरों की कमी से निपटने में भी मदद मिलेगी।

10 मई तक करें आवेदन

कृषि सचिव काहन सिंह पन्नू ने बताया कि सरकार द्वारा कृषि मशीनरी पर महिला एवं पुरुष, छोटे और सीमांत किसानों को 50 प्रतिशत और बाकी किसानों को 40 प्रतिशत सब्सिडी मुहैया करवाई जाएगी। खरीफ की फ़सल के दौरान धान और मक्कई की मशीनों पर सब्सिडी हासिल करने के लिए किसानों को 10 मई तक आवेदन देने के लिए कहा गया है सचिव ने बताया कि सब्सिडी के अधीन आने वाली मशीनरी में धान की सीधी बिजाई के लिए मशीनों, स्प्रे अटैचमैंट या अटैचमैंट के बगैर, धान की पनीरी लगाने वाली मशीनों, धान की मशीनी बुवाई के लिए पनीरी बीजने वाले उपकरण, मक्कई के दानों को सुकाने के लिए मशीनें (पोर्टेबल) और मक्का थ्रैशर, शैलर, फोरेज हारवैस्टर, मल्टी क्रॉप थ्रैशर आदि शामिल हैं।

यहां कर सकते हैं फोन

सब्सिडी हासिल करने की प्रक्रिया संबंधी विस्तार में बताते हुए श्री पन्नू ने कहा कि कृषि मशीनरी के लिए सब्सिडी लेने की प्रक्रिया को बिल्कुल सरल बनाया गया है, जिससे कोविड -19 की बंदिशों के मद्देनजऱ किसान सब्सिडी का अधिक से अधिक लाभ ले सकें। उन्होंने कहा कि किसान कृषि विभाग के फील्ड में काम करने वाले अधिकारियों को सीधे तौर पर सादे कागज़ पर, ई-मेल या वट्सऐप के ज़रिये अपना आवेदन-पत्र दे सकते हैं। इन कृषि यंत्रों पर सब्सिडी हासिल करने संबंधी और ज्य़ादा पूछताछ के लिए किसान ‘किसान कॉल सैंटर’ के टोल फ्री नंबर 1800 -180 -1551 पर प्रात:काल 6 बजे से रात 10 बजे तक जानकारी हासिल कर सकते हैं।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned