30 क्विंटल खैर की लकड़ी जब्त, तस्कर गिरफ्तार

आरोपी के साथी फरार, मेवाड़ से हरियाणा भेजी जाती है खैर की लकड़ी

गुरुग्राम/भैंसरोडगढ. खैर की लकड़ी काटकर तस्करी करने वाले एक तस्कर को राजस्थान वन विभाग की रेंज बोराव व जावदा की टीम ने वन खंड कृपापुरा स्थित एक खेत से पकड़ लिया और करीब 30 क्विंटल खैर की लकड़ी जब्त की। आरोपी के चार-पांच साथी फरार हो गए। पूछताछ में आरोपी ने पेड़ बोराव रेंज वनखंड बांदरमुथा व जावदा रेंज के कृपापुरा से काटना बताया है। जावदा रेंज ने वन अधिनियम में मामला दर्ज किया है।

बोराव के क्षेत्रीय वन अधिकारी अब्दुल सलीम ने बताया कि मध्यप्रदेश के जिला नीमच में फडि़चा कोजा निवासी कालूराम भील को गिरफ्तार किया है। बोराव क्षेत्र के वनखंड कृपापुरा में कुछ दिनों से खैर की लकड़ी काटकर तस्करी की सूचना मिल रही थी। इसको लेकर बोराव व जावदा रेंज के कर्मचारी तीन दिन से नजर रखे हुए थे। इसी दौरान मंडेसरा नाके के प्रभारी व वन रक्षक विक्रम सिंह कसाना ने कटी लकड़ी देखी तो क्षेत्रीय वन अधिकारी को सूचना दी। सूचना पर वन अधिकारी मय टीम के मौके पर पहुंचे और करीब 30 क्विंटल लकड़ी जब्त कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

मध्यप्रदेश लेकर जाते हैं लकड़ीक्षेत्रीय वन अधिकारी का कहना है कि यह क्षेत्र आधा बोराव व आधा जावदा रेंज में लगता है। पास ही मध्यप्रदेश की सीमा भी है। आरोपी पेड़ काटने के बाद मध्यप्रदेश ले जाते हैं। प्रदेश बदलने से वन विभाग की टीम मौके पर जाती भी नहीं है। तस्कर मध्यप्रदेश से यह लकड़ी हरियाणा व गुरुग्राम ले जाकर बेच देते हैं।

कत्था व पान मसाले में इस्तेमाल

इस लकड़ी का उपयोग कत्था व पान मसाला बनाने में होता है। आरोपी इसे 25 रुपए किलो के हिसाब से बेचते हैं। जबकि हरियाणा व गुरुग्राम में इसकी कीमत 40 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिलती है।
हरियाणा की ताजा खबरों के लिए क्लिक करें....

Chandra Prakash sain Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned