शिक्षकों के सम्मान में 17 सितंबर तक शिक्षा पर्व: खट्टर

शिक्षक दिवस पर इंदिरा गांधी यूनिवर्सिटी मीरपुर में 47.27 करोड़ की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास

By: Devkumar Singodiya

Published: 05 Sep 2021, 07:01 PM IST

रेवाड़ी. हरियाणा के मुख्यमन्त्री मनोहरलाल खट्टर ने कहा कि हरियाणा में शिक्षक दिवस को आगामी 17 सितंबर तक शिक्षा पर्व के रूप में मनाया जाएगा। शिक्षकों के सम्मान के लिए यह पर्व समॢपत होगा।

खट्टर रविवार को रेवाड़ी जिले के मीरपुर में इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। विवि में उन्होंने 47.27 करोड़ की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास व विवि परिसर में राष्ट्रीय ध्वज का आरोहण किया। शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षा व शिक्षकों को सम्मान देने के लिए अनेक कार्य किए हैं। इनमें नई शिक्षा नीति, राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षक पुरस्कार आरंभ करने, कौशल विकास को बढ़ावा देने वाली नीतियां प्रमुख हैं।

शिक्षकों के सम्मान को बढ़ावा देने के लिए उनके जन्मदिन 17 सितंबर तक शिक्षा पर्व मनाया जाएगा। इससे पहले मुख्यमंत्री ने मां शारदा छात्रावास, इंडोर-आउटडोर स्टेडियम के लिए भूमि पूजन किया और परिसर में पौधरोपण किया। उन्होंने विवि के मास्टर प्लान, कुटुंब-पूर्व छात्र संगठन अधिनियम, अपशिष्ट जल संशोधन एवं विद्युत उत्पादन मॉडल का लोकार्पण किया। प्रो. ऋतु बजाज की प्रबंधन पर आधारित पुस्तक का विमोचन किया। इस अवसर पर हरियाणा के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री ओमप्रकाश यादव, कोसली विधायक लक्ष्मण सिंह यादव, अटेली विधायक सीताराम यादव, हरको बैंक के चेयरमैन डॉ. अरविंद यादव, भाजपा जिलाध्यक्ष हुकमचंद यादव, रेवाड़ी नगर परिषद की चेयरपर्सन पूनम यादव भी मौजूद रहे।

अपने शिक्षक से की वीडियो कॉल पर बात

मुख्यमंत्री ने विद्यार्थियों को पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन से जुड़े प्रेरणास्पद संस्मरण सुनाए। अपने शिक्षक केएल गेरा को याद किया और कार्यक्रम के दौरान ही वीडियो कॉल पर उनसे बात की।

कबीर वाणी का किया उल्लेख
उन्होंने गुरु महिमा से जुड़ी संत कबीर की वाणी का उल्लेख करते हुए कहा कि गुरुओं की महिमा अपरम्पार है। उन्होंने कहा कि हमें देश और समाज की सेवा करते हुए आगे बढऩा है।

 

शिक्षकों को अब नहीं लगाने पड़ते चक्कर

मुख्यमंत्री ने कहा कि 7 साल पूर्व उन्होंने सत्ता संभाली तब प्रदेश के अध्यापक स्थानांतरण के लिए मंत्रियों के चक्कर लगाते रहते थे। अब ऑनलाइन स्थानांतरण नीति लागू कर यह समस्या दूर कर दी गई है।

Show More
Devkumar Singodiya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned