गुरुग्राम: यहां आग लगेगी तो बुझाएगा कौन!

फायर विभाग में 10 दिन से एडीएफओ पद खाली
गुरुग्राम. यहां के अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवाएं विभाग में दस दिन पहले खाली हुए एडीएफओ (असिस्टेंट डिविजनल फायर ऑफिसर) पद पर अभी तक पूर्णकालिक नियुक्ति नहीं की गई है।

By: satyendra porwal

Published: 28 May 2021, 11:42 PM IST

यहां हर महीने औसतन 150 से ज्यादा फायर एनओसी जारी या रिन्यू की जाती हैं। यानी प्रतिदिन पांच फाइल या तो नई एनओसी के लिए आती हैं या रिन्यू की जाती हैं। फायर एनओसी देने और साइट विजिट के साथ जांच की जिम्मेदारी एडीएफओ की है। इसी महीने 18 तारीख को एडीएफओ पद पर कार्यरत ईश्म सिंह कश्यप की सेवाएं समाप्त कर दी गई। उन्हें रिटायरमेंट के बाद पुन:नियुक्ति नीति के तहत लगाया था।
आग लगने पर चंडीगढ़ से फोन पर पाएंगे काबू
चंडीगढ़ में कार्यरत डिप्टी डायरेक्टर गुलशन कालरा को एडीएफओ का चार्ज दिया हुआ है। सामान्यत: वे गुरुवार-शुक्रवार को यहां आते हैं। उनके पास गुरुग्राम के साथ-साथ मानेसर भी एडिशनल जिम्मेदारी है। गुरुग्राम व मानेसर के लिए अधिकारिक तौर पर दो दिन निर्धारित किए हैं।
ऐसे हालातों में गुरुग्राम-मानेसर की औद्योगिक इकाइयों की एनओसी भी जारी नहीं हो पा रहीं हैं। दो महीने पहले सदर बाजार, सोहना रोड तथा अन्य इलाकों में आग की कई बड़ी घटनाएं हुईं थीं। जिनको लेकर विधायक तथा जनप्रतिनिधियों ने सुझाव भी दिए, लेकिन पूर्णकालिक अधिकारी न होने से सब अधर में है।

satyendra porwal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned