हरियाणा की 8500 स्कूलों में बंद होगी नर्सरी, एलकेजी और यूकेजी

मान्यता प्राप्त निजी स्कूल नर्सरी, एलकेजी व यूकेजी कक्षाओं के नाम पर अभिभावकों की जेब पर डाका डाल रहे हैं। नामी स्कूल बच्चों को प्रवेश के लिए भी मोटा चंदा और दाखिला फीस वसूल कर रहे हैं।

By: Devkumar Singodiya

Updated: 03 Dec 2019, 06:58 PM IST

चंडीगढ़. हरियाणा में बगैर किसी मंजूरी के नर्सरी, एलकेजी तथा यूकेजी जैसी कक्षाएं चलाने वाले निजी स्कूलों की अब खैर नहीं है। प्रदेश सरकार ने राज्य के साढ़े आठ हजार निजी स्कूलों में बगैर मंजूरी के चल रही उक्त कक्षाओं को बंद करवाने का फैसला किया है।
मौलिक शिक्षा निदेशालय ने मान्यता प्राप्त 8500 निजी स्कूलों में नर्सरी, एलकेजी व यूकेजी की पढ़ाई तुरंत प्रभाव से बंद कराने का आदेश दिया है। इसके लिए सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों से एक्शन रिपोर्ट भी मांगी गई है। महिला एवं बाल विभाग के निदेशक को भी इस संबंध में निर्देश दिए गए हैं।

पहली से 12वीं तक को ही मान्यता

मौलिक शिक्षा निदेशालय द्वारा जारी पत्र के अनुसार हरियाणा स्कूली शिक्षा नियमावली के अनुसार किसी भी मान्यता प्राप्त निजी स्कूल में केवल पहली से बारहवीं तक ही कक्षाओं का संचालन किया जा सकता है। स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेशाध्यक्ष बृजपाल परमार ने १० जून को मौलिक शिक्षा निदेशालय में शिकायत की थी कि अवैध रूप से निजी स्कूलों में नर्सरी, एलकेजी व यूकेजी में दाखिले दिए गए हैं। इन कक्षाओं को तुरंत बंद किया जाए।
लिखित शिकायत में उन्होंने कहा कि मान्यता प्राप्त निजी स्कूल नर्सरी, एलकेजी व यूकेजी कक्षाओं के नाम पर अभिभावकों की जेब पर डाका डाल रहे हैं। नामी स्कूल बच्चों को प्रवेश के लिए भी मोटा चंदा और दाखिला फीस वसूल कर रहे हैं। इसके बाद मौलिक शिक्षा निदेशक ने सभी स्कूलों में अवैध रूप से चल रही कक्षाएं बंद करने का निर्देश दिया है।


हरियाणा की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
पंजाब की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...

Show More
Devkumar Singodiya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned