अरुणाचल प्रदेश में सेना ने मार गिराए प्रतिबंधित संगठन के 6 उग्रवादी

(Assam News ) सुरक्षा बलों (Security forces ) के साथ हुई मुठभेड़ में अरुणाचल प्रदेश में 6 उग्रवादी (6 Terrrorist killed ) ढेर हो गए। ये उग्रवादी प्रदेश में किसी बड़े हमले को अंजाम देने (Terrorist planned to major attack foiled ) की फिराक में थे। सुरक्षा बलों ने मौके से भारी तादाद में हथियार, गोला-बारूद बरामद किया है।

By: Yogendra Yogi

Published: 11 Jul 2020, 04:53 PM IST

गुवाहाटी(असम): (Assam News ) सुरक्षा बलों (Security forces ) के साथ हुई मुठभेड़ में अरुणाचल प्रदेश में 6 उग्रवादी (6 Terrrorist killed ) ढेर हो गए। ये उग्रवादी प्रदेश में किसी बड़े हमले को अंजाम देने (Terrorist planned to major attack foiled ) की फिराक में थे। सुरक्षा बलों ने मौके से भारी तादाद में हथियार, गोला-बारूद बरामद किया है। इस विशेष सर्च ऑपरेशन में सेना का एक जवान भी घायल हो गया। जिसे उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जवाबी कार्रवाई में मारे गए
सेना को जानकारी मिली थी कि कुछ उग्रवादी अरुणाचल प्रदेश के जनरल क्षेत्र खोंसा में छिपे हुए हैं। उग्रवादी किसी बड़े हमले की फिराक में हैं। अरुणाचल प्रदेश के तिरप जिले में स्थित खोंसा, असम के प्रमुख औद्योगिक शहर तिनसुकिया से 50 किलोमीटर दूर है। असम राइफल्स और अरुणाचल प्रदेश पुलिस ने साथ मिलकर सुबह के समय लोंगडिंग जिले के एनगिनू गांव में खोज अभियान किया। सुरक्षा दस्ते ने मौके पर पहुंच कर उग्रवादियों की घेराबंदी कर ली। उग्रवादियों को आत्मसमर्पण की चेतावनी दी गई। इस पर उग्रवादियों ने सेना पर फायरिंग शुरु कर दी। जवाबी कार्रवाई में मौके पर मौजूद सभी उग्रवादी मारे गए।

सर्च अभियान जारी
इस मुठभेड़ में सभी छह उग्रवादी मार गिराए गए, जबकि इस मुठभेड़ में असम राइफल्स का एक जवान भी घायल हुआ। उसकी हालत स्थिर बताई जाती है। यह मुठभेड़ सुबह करीब साढ़े चार बजे हुई। मुठभेड़ स्थल से छह हथियारों के साथ अन्य युद्धक जैसी सामग्री बरामद हुई है। मुठभेड़ के बाद घटनास्थल से चार एके-47 राइफल्स और दो चीनी एमक्यू बरामद हुई है। फिलहाल खोज अभियान जारी है। ा

उग्रवादी संगठन एनएससीएन
'नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड' (एनएससीएन-आईएम) से संबंधित हैं। नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नगालिम (इसाक-मुइवा) या एनएससीएन (आईएम) एक उग्रवादी संगठन है, जो पिछले कई दशकों से नगा लोगों के लिए अलग राज्य की मांग को लेकर अपनी आवाज को उठा रहा है। यह छह दशकों से चल रहे नगा मुद्दे के समाधान के लिए केंद्र से साथ बातचीत करता रहा है।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned