बनना चाहती थी टीचर, मां-बाप के दबाव में पहुंची आईआईटी गुवाहाटी, अब की खुदकुशी

बनना चाहती थी टीचर, मां-बाप के दबाव में पहुंची आईआईटी गुवाहाटी, अब की खुदकुशी

Prateek Saini | Publish: Sep, 12 2018 09:31:10 PM (IST) Guwahati, Assam, India

मामला आईआईटी में दाखिला ले चुकी एक ऐसी होनहार छात्रा का है...

(पत्रिका ब्यूरो,गुवाहाटी): आईआईटी, गुवाहाटी से एक ऐसी खबर आ रही है, जो शायद बच्चों को उनकी रुचि के अनुसार करियर न चुनने देने की माता-पिता की जिद को आइना दिखा सकती है। मामला आईआईटी में दाखिला ले चुकी एक ऐसी होनहार छात्रा का है, जो बनना तो टीचर चाहती थी, लेकिन माता-पिता ने दबाव डाला, तो उसने आईआईटी परीक्षा पास कर गुवाहाटी आईआईटी में दाखिला भी ले लिया। लेकिन उसके बाद शायद छात्रा अपनी प्रतिभा से न्याय न कर सकी और इसी क्षोभ में उसने खुद का ही जीवन खत्म कर लिया। पुलिस ने फिलहाल लड़की के घरवालों को बुला कर उन्हें छात्रा का शव सौंप दिया है। मामले की और आगे की जांच जारी है।

 

जानकारी के मुताबिक, घटना बुधवार की है, जब पुलिस के पास खबर पहुंची कि आईआईटी गुवाहाटी के गर्ल्स हॉस्टल में रहने वाली एक छात्रा ने आत्महत्या कर ली। उसकी पहचान बी.टेक की छात्रा नागश्री एसपी के रूप में की गई। नागश्री कर्नाटक की निवासी बताई गई है। वह बी.टेक प्रथम सेमिस्टर की छात्रा थी। पुलिस सूत्रों के अनुसार यह छात्रा धनसिरी हॉस्टल में रहती थी। उसकी रूममेट बुधवार को सुबह 8.30 बजे कक्षा में शामिल होने के लिए निकल गई थी, परंतु नागश्री क्लास करने नहीं गई। क्लास का समय पूरा होने के बाद रूममेट जब रूम पर वापस आई, तो उसने दरवाजा बंद देखा। उसके बाद उसने दरवाजा खोलने के लिए आवाज दी, परंतु काफी आवाज देने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला, तो इसकी जानकारी अन्य छात्र-छात्राओं के साथ उसने हॉस्टल के अधीक्षक को दी।

 

बाद में आईआईटी प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और उन्होंने भी दरवाजा खुलवाने की कोशिश की,लेकिन जब अंदर से कोई जवाब नहीं मिला, तो इसकी खबर पुलिस को दी गई। पुलिस के आने के बाद जब सबकी मौजूदगी में दरवाजा तोड़ा गया, तो पता चला कि छात्रा पंखे से लटककर जान दे चुकी थी। उसके पास से पुलिस को एक सुसाइड नोट मिला, जो माता-पिता को संबोधित कर लिखा हुआ था। उसमें लिखा था कि आप लोगों की उम्मीद के मुताबिक मैं इंजीनियरिंग में अच्छा परिणाम नहीं दे सकी। मेरी इच्छा एक अच्छी शिक्षिका बनने की थी, परंतु मैं दिल से इंजीनियरिंग लाइन में नहीं आई थी। पुलिस ने सुसाइड नोट को कब्जे में कर उसकी लिखावट की जांच के लिए आगे भेज दिया है। फिलहाल, पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान रही है, लेकिन पड़ताल जारी है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned