इलेक्शन 2019 स्पेशल...धुबड़ी संसदीय सीट पर अजमल का दबदबा

इलेक्शन 2019 स्पेशल...धुबड़ी संसदीय सीट पर अजमल का दबदबा

Prateek Saini | Publish: Apr, 22 2019 06:01:14 PM (IST) Guwahati, Kamrup Metropolitan, Assam, India

धुबड़ी संसदीय सीट की सीमा बांग्लादेश से लगती है...

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): असम के धुबड़ी संसदीय सीट पर इस बार मुकाबला काफी रोचक है। मुकाबला एआईयूडीएफ, अगप और कांग्रेस के उम्मीदवार के बीच होगा। धुबडी संसदीय सीट से इस बार भी एआईयूडीएफ प्रमुख बदरुद्दीन अजमल भाग्य आजमा रहे हैं। वे 2009 से इस सीट पर जीतते आ रहे हैं। वहीं भाजपा ने यह सीट अपने सहयोगी अगप के लिए छोड़ दी है। अगप ने इस सीट पर जावेद इस्लाम को उतारा है। वहीं कांग्रेस ने आबू ताहेर बेपारी को टिकट दिया है। पर अजमल की स्थिति मजबूत दिख रही है।

 

इन मुद्यों पर बीजेपी को घेर रहे अजमल

धुबड़ी संसदीय सीट की सीमा बांग्लादेश से लगती है। इस सीट की 153 किमी सीमा बांग्लादेश से सटी हुई है। यहां के मुस्लिम लोगों को अकसर बांग्लादेशी करार दिया जाना और राष्ट्रीय नागरिक पंजी(एनआरसी) बड़ा मुद्दा है। पिछड़ापन झेल रही संसदीय सीट में विकास भी एक अहम मुद्दा है। अकसर बाढ़ व कटाव की मार यहां के लोगों को झेलनी पड़ती है। इसके चलते यहां के मुस्लिम अन्यत्र काम पर जाते हैं और उन्हें अपनी नागरिकता को लेकर अनेक झमेले का सामना करना पड़ता है। अजमल ने इन्हीं सब को अपना मुद्दा बनाया है। वे अपने चुनावी प्रचार में भाजपा से आ रहे खतरों को लेकर मुखर हो रहे हैं। इससे उन्हें फायदा होने के आसार हैं।


इस सीट पर तीसरे चरण में 23 अप्रैल को चुनाव होगा। धुबड़ी संसदीय सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 18,56,168 है। इनमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 9,48,971 और महिला मतदाताओं की संख्या 90,71,73 है। यदि मतदाताओं को जनसांख्यिकी के आधार पर देखें तो मुस्लिम 57.13 प्रतिशत, कोच राजवंशी 19.19 प्रतिशत, बंगाली हिंदू 8.93 प्रतिशत, असमिया हिंदू 5.1 प्रतिशत, हिंदीभाषी 2.26 प्रतिशत, बोड़ो 1.9 प्रतिशत और अन्य 5.42 प्रतिशत हैं।


धुबडी संसदीय सीट में दस विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इनमें मानकाचर, दक्षिण सालमारा, धुबड़ी, गौरीपुर, गोलकगंज, बिलासीपाड़ा पश्चिम, बिलासीपाड़ा पूर्व, ग्वालपाड़ा पूर्व, ग्वालपाड़ा पश्चिम और जलेश्वर शामिल है। दस विधानसभा सीटों में से चार-चार कांग्रेस और एआईयूडीएफ के पास और दो भाजपा के पास है। कांग्रेस के पास मानकाचर, दक्षिण सालमारा, ग्वालपाड़ा पूर्व और ग्वालपाड़ा पश्चिम की विधानसभा सीटें हैं, तो एआईयूडीएफ के पास धुबड़ी, गौरीपुर, बिलासीपाड़ा पश्चिम और जलेश्वर सीटें हैं। वहीं भाजपा के पास बिलासीपाड़ा पूर्व और गोलकगंज की सीटें हैं। धुबड़ी संसदीय सीट से इस बार 15 उम्मीदवार भाग्य आजमा रहे हैं। इनमें एआईयूडीएफ के बदरुद्दीन अजमल, कांग्रेस के आबू ताहेर बेपारी और अगप के जावेद इस्लाम शामिल हैं।


अब तक यह रहे हैं विजयी

धुबड़ी संसदीय सीट पर 1951 और 1957 में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के अमजद अली जीते तो 1961 में कांग्रेस के गियासुद्दीन अहमद और 1967 में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के जे अहमद जीते। 1971 से 2004 तक इस सीट पर लगातार कांग्रेस का कब्जा रहा है। 1971 में कांग्रेस के एम एच चौधरी, 1977 में अहमद हुसैन, 1980 में नुरुल इस्लाम, 1984 में अब्दुल हमीद, 1991 और 1996 में नुरुल इस्लाम, 1998 और 1999 में अब्दुल हमीद, 2004 में अनवर हुसैन, 2009 और 2014 में एआईयूडीएफ के बदरुद्दीन अजमल चुनाव जीते। वर्ष 2009 के चुनाव में अजमल ने 5,40,280 वोट हासिल किए वहीं कांग्रेस के अनवर हुसैन को 3,56,401 वोट मिले। उधर 2014 में अजमल को 5,92,669 वोट प्राप्त हुए जबकि कांग्रेस के वाजेद अली चौधरी को 3,62,839 मत मिले।अजमल के दो बार के जीत के फासले को देखकर लगता है कि एआईयूडीएफ का पलड़ा भारी है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned