scriptAssam is paying price of disease from China, decision kill 12 k pigs | चीन से आई बीमारी की कीमत चुका रहा असम, 12 हजार सुअरों को मारने का निर्णय | Patrika News

चीन से आई बीमारी की कीमत चुका रहा असम, 12 हजार सुअरों को मारने का निर्णय

(Assam News ) चीन की बेजा हरकतों (China's antics) की कीमत असम राज्य (Assam is paying cost ) चुका रहा है। चीन से आए अफ्रीकी स्वाइन बुखार (एएसएफ) ने इस प्रदेश में तांडव मचा दिया है। असम सरकार ने सुअरों (ASF ) में इस संक्रामक रोग की रोकथाम के लिए 12 हजार सुअरों को मारने (12 k pigs will killed) के आदेश दिए हैं। पहले ही मर चुके 18,000 सूअरों के मालिकों को आर्थिक सहायता देने के लिए सरकार को एक प्रस्ताव भेजा गया है।

गुवाहाटी

Published: September 26, 2020 10:15:50 pm

गुवहाटी(असम): (Assam News ) चीन की बेजा हरकतों (China's antics) की कीमत असम राज्य (Assam is paying cost ) चुका रहा है। चीन से आए अफ्रीकी स्वाइन बुखार (एएसएफ) ने इस प्रदेश में तांडव मचा दिया है। असम सरकार ने सुअरों (ASF ) में इस संक्रामक रोग की रोकथाम के लिए 12 हजार सुअरों को मारने (12 k pigs will killed) के आदेश दिए हैं। पहले से ही कोरोना संक्रमण से जूझ रही असम सरकार के लिए यह नई चुनौती आ गई है।

चीन से आई बीमारी की कीमत चुका रहा असम, 12 हजार सुअरों को मारने का निर्णय
चीन से आई बीमारी की कीमत चुका रहा असम, 12 हजार सुअरों को मारने का निर्णय

असम में 30 लाख शूकर
राज्य के पशुपालन विभाग द्वारा 2019 की गणना के अनुसार, राज्य में सूअरों की संख्या 21 लाख थी, जो अब बढ़कर 30 लाख हो गई है। इस बीमारी का पता पहली बार राज्य में इस साल फरवरी के अंत में चला था। लेकिन इसकी शुरुआत अप्रैल 2019 में अरुणाचल प्रदेश की सीमा से लगे चीन के शिजांग प्रांत से हुई थी। यहां नदी में बहाए हुए संक्रमित सुअरों से यह रोग स्वस्थ सुअरों में फैल गया।

14 जिलों मेें सर्वाधिक प्रकोप
सूअरों को मारने का काम 14 प्रभावित जिलों में रोग से बुरी तरह प्रभावित 30 क्षेत्रों के एक किलोमीटर के दायरे में किया जाएगा और यह काम तुरंत शुरू किया जाएगा। मुख्यमंत्री सर्वानन्द सोनवाल ने ''विभाग के अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि केंद्र और राज्य सरकार के दिशा-निदेर्शों के और विशेषज्ञों की राय के अनुरूप सभी प्रभावित जिलों में संक्रमित सूअरों को मारने का काम दुर्गा पूजा से पहले पूरा किया जाना चाहिए।" उन्होंने कहा कि इस बीमारी से किसानों को हुए नुकसान की भरपाई राज्य सरकार करेगी। चिन्हित किए गए जिन 12 हजार सुअरों को मारा जाएगा, उनके मालिकों को मुआवजा राशि उनके बैंक खातों में जमा करा दी जाएगी।

१८ हजार शूकर पहले ही मर चुके
केंद्र ने पहले ही मुआवजे की पहली किस्त जारी कर दी है और राज्य सरकार महामारी से निपटने के उपायों के लिए राशि सहित मुआवजे का हिस्सा जल्द जमा करेगी। पहले ही मर चुके 18,000 सूअरों के मालिकों को आर्थिक सहायता देने के लिए सरकार को एक प्रस्ताव भेजा गया है। बैठक में असम में देश के विभिन्न हिस्सों से सूअरों की आपूर्ति पर भी चर्चा हुई। स्वाइन बुखार के प्रकोप के बाद, केंद्र सरकार के निदेर्शों के अनुसार राज्य के बाहर से सूअरों की आपूर्ति रोक दी गई थी।

केन्या से विश्व में फैली
अफ्रीकी सूअर बुखार (एएसएफ) की खोज 1921 में मोंटगोमरी ने केन्या में की थी, जो हाल ही में आयातित यूरोपीय सूअरों में उच्च मृत्यु दर पैदा करने वाली एक नई बीमारी है। अफ्रीकी महाद्वीप के बाहर एएसएफ की पहली घटना 1957 में पुर्तगाल में, लिस्बन के पास हुई, जहां एक एएसएफ प्रकोप के कारण लगभग 100 सुअरों की मृत्यु हो गई। तीन साल बाद, 1960 में, एक महामारी विज्ञान चुप्पी के बाद, एएसएफ पुर्तगाल में फिर से प्रकट हुआ, तेजी से पूरे इबेरियन प्रायद्वीप में फैल गया।

युरोप-अमरीका तक फैल गई
इबेरियन प्रायद्वीप में एएसएफ के इन वर्षों के दौरान, कई यूरोपीय और अमेरिकी देशों ने एएसएफ के प्रकोप का सामना किया, जो मुख्य रूप से दूषित मांस उत्पादों के कारण हुआ। हालांकि, इसके प्रकोप को सार्डिनिया द्वीप में छोड़कर मिटा दिया गया था, जहां यह बीमारी 1978 से ही स्थानिक है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

गृह मंत्रालय ने PFI को 5 साल के लिए किया बैन, टेरर लिंक के आरोप में RIF सहित 8 अन्य संगठनों पर भी एक्शनसड़क हादसे में साइरस मिस्त्री की मौत को लेकर हुआ बड़ा खुलासा! IRF की रिपोर्ट में सामने आईं बड़ी बातेंदिल्ली शराब नीति मामले में हुई पहली गिरफ्तारी, CBI ने मनीष सिसोदिया के सहयोगी को किया अरेस्टVideo: दिल्ली में खतरे के निशान से ऊपर बढ़ा यमुना का जलस्तर, लोहे वाले पुल से आवगमन हुआ ठपLegends League Cricket 2022: भीलवाड़ा किंग्स ने गुजरात जाइंट्स को 57 रनों से हराया'हम भी बता देंगे उन्होंने क्या किया है और हमने क्या किया," बिहार के पूर्णिया में अमित शाह की रैली पर बोले नीतीश कुमारगुजरात में चुनावी तैयारियों में जुटा चुनाव आयोग, कहा- 4.83 करोड़ वॉटर्स पंजीकृतShinde vs Thackeray: उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका, नहीं रुकेगी चुनाव आयोग की कार्रवाई, संविधान पीठ ने खारिज की याचिका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.