मोदी सात को जाएंगे कोकराझाड़, CAA के बाद असम में पहली रैली, निकाले जा रहे कईं मायने

Assam News: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के दौरे को लेकर तैयारियां (Citizenship Amendment ACT) युद्धस्तर (CAA) पर जारी है, ज्यादा (Bodo Agreement) से ज्यादा (Assam Government) लोग कार्यक्रम में भाग ले सके इसके लिए...

 

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सात फरवरी को असम के कोकराझाड़ जाएंगे। मोदी बोड़ो समझौते की खुशी में आयोजित किए जा रहे समारोह में हिस्सा लेने के साथ ही एक रैली को संबोधित करेंगे। असम सरकार ने इसके चलते 7 फरवरी को बीटीएडी के जिलों कोकराझाड़, चिरांग, बाक्सा और उदालगुड़ी में सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है, ताकि ज्यादा लोग इसमें शामिल हो सके। इस दिन बीटीएडी इलाके के सभी राजकीय सरकारी कार्यालय बंद रहेंगे। प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर जोर शोर से तैयारियां चल रही है। नागरिकता संशोधन विधेयक जो अब कानून में तब्दील हो चुका है, इसके संसद में पेश होने के बाद प्रधानमंत्री की असम में यह पहली रैली है।

 

यह भी पढ़ें: निर्भया के दोषियों की फांसी के ऐलान से इस कदर घबराया, प्लान बनाकर जेल से फरार हुआ रेप का आरोपी

जोर-शोर से चल रही तैयारियां

राज्य के वित्त मंत्री डॉ. हिमंत विश्व शर्मा ने मंगलवार को रैली स्थल का दौरा कर तैयारियों का जायजा लिया। उदालगुड़ी, रंगापाड़ा और बातासीपुर से रैली में हिस्सा लेने के लिए आने वाले लोगों के लिए चार रेल गाडियां आएंगी। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) जीपी सिंह के अनुसार चार स्तर की सुरक्षा व्यवस्था रखी गई है। रैली में लगभग तीन लाख लोगों के आने की संभावना व्यक्त की जा रही है। मालूम हो कि 27 जनवरी को केंद्र, असम सरकार, उग्रवादी संगठन नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ बोडोलैंड(एनडीएफबी) के चार गुटों और अखिल बोड़ो छात्र संघ(अब्सू) के बीच तीसरा बोड़ो समझौता हुआ था। इसके साथ ही बोड़ो इलाके में उग्रवादियों का कोई गुट नहीं रहेगा। केंद्र की भाजपा सरकार के इन प्रयासों को अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी के रूप में देखा जा रहा है।

 

यह भी पढ़ें: पंचकूला: आश्रम में सेवा के लिए आई थीं 2 नाबालिग, बाबा ने धमकी देकर किया गलत काम

सीएए के बाद करना पड़ा विरोध का सामना...

केंद्र सरकार को सीएए के अस्तित्व में आने के बाद पूर्वोत्तर राज्यों खासकर असम में भारी विरोध का सामना करना पड़ा था। विरोध के चलते प्रधानमंत्री के दो दौरे रद्द कर दिए गए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 15 दिसंबर को गुवाहाटी आने वाले थे। इससे पहले 11 दिसंबर राज्यसभा में सीएए पास हो गया। गुवाहाटी को दुल्हन की तरह सजाया गया था लेकिन प्रदर्शनकारियों ने सब कुछ तहस नहस कर दिया था। इसके बाद 10 जनवरी से 22 जनवरी तक गुवाहाटी में आयोजित होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स के तीसरे संस्करण का उद्घाटन करने के लिए भी प्रधानमंत्री आने वाले थे। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए इस कार्यक्रम को भी अंतिम समय में रद्द किया गया। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने खेल प्रतियोगिता का आगाज किया।

असम की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: चीन के 'वुहान' से लौटा युवक नहीं गया अस्पताल, 'Coronavirus' रोकने को अपनाया यह उपाय, मचा हड़कंप

CAA
Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned