बोड़ो समझौते के बाद क्षेत्र में गरमाई राजनीति, माहौल बिगड़ने की आशंका

Assam News: खुशी के बाद उठे तकरार के सुरों के बीच (Third Bodo Agreement) एनडीएफबी (NDFB) के चार गुटों के (Bodo Agreement) लगभग (Bodoland) 1500 सदस्य...

 

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): तीसरा बोड़ो समझौता हुए तीन दिन भी नहीं बीते और बोड़ो इलाके में राजनीति गरमा गई। समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले अखिल बोड़ो छात्र संघ(अब्सू) और बीटीसी की सत्ता में रहने वाले बोड़ो पीपुल्स फ्रंट(बीपीएफ) के बीच तू-तू मैं-मैं शुरु हो गई है।

 

यह भी पढ़ें: इन मांगों को लेकर -24 डिग्री C तापमान में लोगों का प्रदर्शन, सर्दियों में देश से कट जाता है यह इलाका

बुधवार को बीपीएफ के प्रमुख हग्रामा महिलारी ने अब्सू पर हमला करते हुए कहा कि समझौते में अब्सू का कोई योगदान नहीं था। वह ऐसे ही क्रेडिट लेना चाहते है। उसने तो अलग बोड़ोलैंड राज्य की मांग को छोडक़र ही समझौते पर हस्ताक्षर किया है। अब्सू अध्यक्ष प्रमोद बोड़ो ने हग्रामा पर पलटवार करते हुए कहा कि पिछले पंद्रह सालों में बीटीसी की सत्ता में रहते हुए हग्रामा ने बीटीसी का विकास करने के बजाए अपनी संपत्तियां ही बढाई है। बीटीसी समझौते के बाद बोड़ो टेरोटेरियल रीजन(बीटीआर) हो गया है। यहां के परिषद की सीटें तीस से बढ़ाकर 60 होंगी और चुनाव होंगे।

 

यह भी पढ़ें: BJP ने उमर अब्दुल्ला को दिया 'रेजर' का उपहार, सचिन पायलट ने की ऐसी खिंचाई होना पड़ा शर्मिंदा

इधर समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोड़ोलैंड(एनडीएफबी) के चार गुटों में से एक गुट के नेता धीरेन बोड़ो ने कहा है कि राजनीति पार्टी में जाने के बारे में सोचा जा रहा है। इसके बाद समझौते को लागू करने में सहूलियत होगी।वहीं एनडीएफबी के नेता बी फेरंगाव ने कहा कि यदि समझौते में कही गई बातें लागू नहीं हुई तो हम फिर संग्राम की ओर लौटेंगे। इस तरह अब समझौते के बाद बोड़ो इलाके में राजनीति गरमा गई है जिससे माहौल बिगडऩे की आशंका जताई जा रही है।

 

यह भी पढ़ें: BJP सरकार पूरा करने जा रही बड़ा चुनावी वादा, KG से PG तक बेटियों को मिलेगी मुफ्त शिक्षा


बता दें कि बोड़ो समझौता होने के बाद सभी ने खुशी जाहिर की थी, बोड़ो इलाकों में 28 जनवरी को जश्न भी मना। खुशी के बाद उठे तकरार के सुरों के बीच एनडीएफबी के चार गुटों के लगभग 1500 सदस्य गुरुवार को गुवाहाटी में मुख्यमंत्री के समक्ष हथियार डालेंगे।

असम की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: IIT से पास आउट है शरजील, पिता ने लड़ा था चुनाव, मां ने समर्थन में कही बड़ी बात

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned