मिजोरम  में बीएसएफ ने 28 एके 47 व अन्य घातक हथियार बरामद किए

सीमा सुरक्षा बल (BSF ) को मिजोरम (Mizoram ) में उग्रवादियों के खिलाफ बड़ी कामयाबी मिली है। बीएसएफ ने गुप्त सूचना के आधार पर मिजोरम में तीन उग्रवादियों (BSF arrested 3 Insurgents ) को गिरफ्तार किया है। इन उग्रवादियों के कब्जे से 28 एके 47 राइफलें, एक एके 74 राइफल, एक अमेरिकन शूटिंग गन, 28 मैगजीन और करीब 7800 कारतूस बरामद किये गये हैं। उग्रवादियों ने हथियारों का ये बड़ा जखीरा एक जीप की सीट के नीचे खुफिया बॉक्स में छुपाकर रखा था।

By: Yogendra Yogi

Updated: 01 Oct 2020, 08:17 PM IST

गुवाहाटी(असम): सीमा सुरक्षा बल (BSF ) को मिजोरम (Mizoram ) में उग्रवादियों के खिलाफ बड़ी कामयाबी मिली है। बीएसएफ ने गुप्त सूचना के आधार पर मिजोरम में तीन उग्रवादियों (BSF arrested 3 Insurgents ) को गिरफ्तार किया है। इन उग्रवादियों के कब्जे से 28 एके 47 राइफलें, एक एके 74 राइफल, एक अमेरिकन शूटिंग गन, 28 मैगजीन और करीब 7800 कारतूस बरामद किये गये हैं। उग्रवादियों ने हथियारों का ये बड़ा जखीरा एक जीप की सीट के नीचे खुफिया बॉक्स में छुपाकर रखा था।

हथियारों का भारी जखीरा बरामद
छापे की ये कार्रवाई मिजोरम के मामित जिले के फुलडेन इलाके में हुई। उग्रवादियों को पकडऩे के साथ ही जब जीप की बारीकी से छानबीन की गई, तो बीच वाली सीट के नीचे तहखाना जैसा एक बॉक्स दिखाई पड़ा, जिसमें हथियार भरे पड़े थे. जब हथियारों को बाहर निकाला गया, तो पता चला कि बॉक्स के अंदर एक-दो नहीं, बल्कि 29 राइफलें हैं, जिसमें से 28 एके- 47 राइफलें है, तो एक राइफल एके- 74 सीरीज की है. अमूमन एके- 47 सीरीज के हथियारों का इस्तेमाल दुनिया भर में आतंकी गतिविधियों के लिए किया जाता है। जो शूटिंग गन बरामद की गई है, वो भी निषिद्ध बोर की है और अमेरिका की बनी हुई है।

उत्तर-पूर्व में हिंसा की साजिश थी
उत्तर-पूर्व में हाल के वर्षों में बरामद किए गए हथियारों की सबसे बड़ी खेप है। बीएसएफ के खुफिया विभाग के अधिकारियों को ये सूचना मिली थी। इसी सूचना के आधार पर बीएसएफ ने कार्रवाई की। उग्रवादियों की पहचान कर उनकी गतिविधियों पर निगाह रखी और फिर छापा मारा गया। म्यांमार से हथियारों का बड़ा जखीरा भारत में आया है, जिसका इस्तेमाल मिजोरम सहित उत्तर-पूर्वी इलाकों में हिंसक गतिविधियों के लिए होने वाला है।

स्थानीय पुलिस को सौंपे उग्रवादी
हथियारों की इस बड़ी खेप के साथ ही उग्रवादियों के पास से नकदी भी बरामद की गई। एजवाल सेक्टर के अंदर आने वाले फुलडेन इलाके में बीएसएफ की 90वीं बटालियन तैनात है। उग्रवादियों को पकडऩे के बाद उन्हें स्थानीय पुलिस को सौंप दिया गया है। इस मामले में आगे की जांच जारी है। पकड़े गये तीनों उग्रवादी नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा यानी एनएलएफटी नामक उग्रवादी संगठन से जुड़े हैं।

डीजी अस्थाना के चार्ज लेते ही कार्रवाई
बीएसएफ के नए डीजी राकेश अस्थाना ने चार्ज संभालते ही ड्रग्स और हथियारों की तस्करी के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है। इसके तहत बीएसएफ के अंदर खुफिया जानकारी जुटाने वाली जी ब्रांच को जहां मजबूत किया जा रहा हैं। वहीं सीमा पर भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के सहारे लगातार चौकसी बढ़ाई जा रही है। यही वजह है कि हाल के हफ्तों में जम्मू- कश्मीर, पंजाब सहित तमाम सीमावर्ती राज्यों से बड़े पैमाने पर हेरोइन जैसे मादक पदार्थों के साथ ही हथियारों की खेप बरामद की गई हैं।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned