असम में बिगड़ रही है बाढ़ की स्थिति, अब तक 16 मरे और ढाई लाख प्रभावित

(Assam News ) असम में बाढ़ (Flood in Assam ) से मरने वालों की संख्या 16 हो (16 died due to flood ) गई है। डिब्रूगढ़ में एक व्यक्ति की मौत हो गई। लगातार जारी भारी बारिश से नदियां खतरें (Rivers flowing on danger mark ) के निशान से ऊपर बह रही हैं। इससे बाढ़ का खतरा बढ़ता जा रहा है। करीब ढाई लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं।

By: Yogendra Yogi

Updated: 28 Jun 2020, 06:10 PM IST

गुवाहाटी(असम): (Assam News ) असम में बाढ़ (Flood in Assam ) से मरने वालों की संख्या 16 हो (16 died due to flood ) गई है। डिब्रूगढ़ में एक व्यक्ति की मौत हो गई। लगातार जारी भारी बारिश से नदियां खतरें (Rivers flowing on danger mark ) के निशान से ऊपर बह रही हैं। इससे बाढ़ का खतरा बढ़ता जा रहा है। करीब ढाई लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। बाढ़ का पानी असम के 16 जिलों में पहुंच चुका है। छह जिलों में करीब डेढ़ सौ राहत शिविर स्थापित किए गए हैं। इन शिविरों में 18 हजार से अधिक लोग शरण लिए हुए हैं।

नदियां खतरे के निशान से ऊपर
बाढ़ का सर्वाधिक असर डिबू्रगढ़, तिनसुकिया, माजुली और धेमाजी जिले में हुआ है। ब्रह्मपुत्र नदी और इसकी सहायक नदियां कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक जिला विभागों ने छह जिलों में 142 राहत शिविर और वितरण केंद्र स्थापित किए हैं, जहां 18,000 से अधिक लोग रहे रहे हैं। इनके खाने-पीने का प्रबंधन भी शिविरों में किया गया है।

केंद्र ने दिया मदद का भरोसा
मौसम विभाग ने अभी भी भारी बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है। इस बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और मंत्री हिमंत बिस्व सरमा से बात की। गृहमंत्री ने केंद्र की तरफ से हर मदद मुहैया कराने का भरोसा दिलाया है। उन्होंने गुवाहाटी के पास ब्रह्मपुत्र नदी और भूस्खलन की खतरनाक स्थिति का जायजा लिया। राज्य को हर संभव मदद का आश्वासन दिया गया है। मोदी सरकार असम के लोगों के साथ मजबूती से खड़ी है।

आकाशवाणी में घुसा पानी
डिबू्रगढ़ में बाढ़ का पानी आकाशवाणी केंद्र के स्टूडियो में घुस गया जिसके बाद अधिकारियों को गुरुवार को वहां से प्रसारण का काम करना बंद करना पड़ा। आकाशवाणी केंद्र के कार्यक्रमों का प्रसारण शहर से 18 किलोमीटर दूर लेपेटकाटा में स्थित आपात स्टूडियो से किया जा रहा है। आकाशवाणी डिबू्रगढ़ रणनीतिक रूप से पूर्वी भारत के लिए महत्वपूर्ण रेडियो स्टेशन है क्योंकि यह चीन-भारत और भारत-म्यामांर सीमा के नजदीक है। आकाशवाणी डिबू्रगढ़ की स्थापना 15 फरवरी 1968 में हुई थी।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned