ऑयल इंडिया कंपनी के तेल के कुए में लगी भीषण आग

(Assam News) ऊपरी असम के तिनसुकिया जिले में ऑयल इंडिया के तेल के (Fire in Oild India's well ) कुए में भीषण आग लग गई। इस कुए पिछले करीब दो सप्ताह से गैस का ( Gas leakage since last two weeks ) रिसाव हो रहा था। आग की विकरालता (High flame of fire ) का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कुंए से निकली लपटें करीब दो किलोमीटर तक दिखाई दे रही हैं।

By: Yogendra Yogi

Published: 09 Jun 2020, 11:03 PM IST

गुवाहाटी(असम): (Assam News) ऊपरी असम के तिनसुकिया जिले में ऑयल इंडिया के तेल के (Fire in Oild India's well ) कुए में भीषण आग लग गई। इस कुए पिछले करीब दो सप्ताह से गैस का ( Gas leakage since last two weeks ) रिसाव हो रहा था। आग की विकरालता (High flame of fire ) का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कुंए से निकली लपटें करीब दो किलोमीटर तक दिखाई दे रही हैं। दूर से ही काले धुएं के गुबार को उठता देखा जा सकता है। दमकलकर्मी आग पर काबू पाने का प्रयास कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने मांगी केन्द्र से मदद
सर्वानंद सोनवाल मुख्यमंत्री ने इस संबंध में केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से इस संबंध में आवश्यक कदम उठाने के संबंध की बात कहते हुए वायुसेना की मदद मांगी है। मुख्यमंत्री ने घटना के संबंध में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धमेज़्ंद्र प्रधान से भी फोन पर बात की। मुख्यमंत्री सोनवाल ने स्थिति पर नियंत्रण के लिए दमकल एवं आपात सेवाओं के कर्मियों, सेना और पुलिस को मौके पर तैनात करने का निर्देश दिया है। मौके पर राहत कार्य के लिए एनडीआरएफ की एक टीम मौजूद है।

मौके पर मौजूद थे विशेषज्ञ
ऑयल इंडिया कंपनी के मुताबिक, कुएं से गैस बेतहाशा बाहर आ रही है जिससे आग और भड़क रही है। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि आग कैसे और कब लगी, अभी इस बारे में कुछ जानकारी नहीं है। दोपहर कुएं में आग लगने के वक्त सिंगापुर की फर्म 'अलर्ट डिजास्टर कंट्रोल' के तीन विशेषज्ञ वहां मौजूद थे और वहां से कुछ उपकरणों से हटाया जा रहा था। तीनों विशेषज्ञ गैस रिसाव को बंद करने का प्रयास कर रहे थे।

27 मई को हुआ था विस्फोट
गुवाहाटी से लगभग 500 किलोमीटर दूर बागजान तिनसुकिया में तेल कुएं में 27 मई को विस्फोट हुआ था और पिछले 14 दिनों से गैस का रिसाव हो रहा था, जिससे इस क्षेत्र की आद्र्रभूमि और जैव विविधता को गंभीर नुकसान पहुंचा है। इससे समीप स्थित एक तालाब में डाल्फिन सहित कई मछलियां मर गई थी। इस सूचना के बाद असम सरकार की ओर से जांच के लिए वन मंत्री को मुआयने के लिए भेजा गया था। डिब्रूर्गढ़-साईखोवा राष्ट्रीय उद्यान के पास स्थित इस कुएं में विस्फोट हुआ था जिसके बाद अनियंत्रित तरीके से गैस का रिसाव होने लगा। जिला प्रशासन ने प्राकृतिक गैस के रिसाव और उसके प्रभावों के मद्देनजर आसपास रहने वाले हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned