असम:विज्ञान शिक्षक दे रहा था बच्चे की बलि,पुलिस व लोगों ने बचाया

Child Sacrifice: पुलिस ( Assam Police ) मौके पर पहुंची तो पूजा में शामिल सभी लोद नंगे थे।वे अपने ही करीबी के तीन साल के बच्चे की बलि देने की तैयारी कर रहे हैं। इस पर विरोध के बीच कुछ लोगों ने बच्चे को परिवार के चंगुल से छुड़ा लिया...

By: Prateek

Published: 07 Jul 2019, 11:03 PM IST

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): असम ( Assam ) के कामाख्या देवी मंदिर ( Kamakhya Temple ) के पास एक महिला की बलि देने की घटना अभी शांत ही नहीं हुई थी कि अब एक और ऐसी ही रौंगटे खड़े कर देने वाली खबर सामने आई है। यह घटना राज्य के उदालगुड़ी जिले के कलाईगांव की है जहां पुलिस और ग्रामीणों ने कथित रूप से 3 साल के बच्चे को उसके परिवार के अंधविश्वास ( Superstition ) का शिकार होने से बचा लिया। यहां के कलाईगांव में 3 साल के बच्चे की बलि देने के लिए जादव सहरिया के परिवार ने एक तांत्रिक रमेश सहरिया के कहने के अनुसार पूजा-पाठ कर रहे थे, लेकिन जब गांव के लोगों को इसका पता चला तो उन्होंने तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी। बता दें कि जादव एक सरकारी स्कूल में विज्ञान का शिक्षक है।

 

अंधविश्वास में आया शिक्षक का परिवार

गांव वालों के अनुसार, नरबलि देने से पहले गांव के हाई स्कूल के टीचर जादव सहरिया अपने परिवार के लोगों के साथ बीते कई दिनों से घर में पूजा कर रहे थे। आरोप है कि इस पूजा में एक तांत्रिक समेत चार पुरुष एवं तीन महिलाएं शामिल थीं। शनिवार को नरबलि देने से पहले जादव ने अपने घर,वैगनार और बाइक में आग लगा दी थी और इसके धुएं को देखने के बाद ही ग्रामीणों को पूरे मामले का पता चला।

 

पुलिस हमला

सूचना के आधार पर जब पुलिस ( Assam Police ) मौके पर पहुंची तो पूजा में शामिल सभी लोद नंगे थे।वे अपने ही करीबी के तीन साल के बच्चे की बलि देने की तैयारी कर रहे हैं। इस पर विरोध के बीच कुछ लोगों ने बच्चे को परिवार के चंगुल से छुड़ा लिया। लेकिन पूजा में शामिल लोगों ने पुलिस एवं स्थानीय लोगों पर धारदार हथियारों से हमला बोल दिया। इसमें दोनों ओर से करीब 3 घंटे तक संघर्ष चला। बाद में पुलिस ने फायरिंग कर हालात पर काबू पाया। इस घटना में उस परिवार के तीन लोग जख्मी हुए हैं। बाद में घायल तीन लोगों को गुवाहाटी मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया गया ।अस्पताल में पुलकेश सहरिया ने दम तोड़ दिया। जादव सहरिया का बेटा है पुलकेश। जादव के भी गोली लगी है। उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है। तांत्रिक रमेश सहरिया अब भी फरार है।

असम से जुड़ी ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे...

 

यह भी पढ़े: असम में जापानी इंसेफेलाइटिस से 49 की मौत, जाने इसके लक्षण, फैलने की वजह और बचाव के उपाय

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned