31 सक्रिय और 27 निष्क्रिय गृह निर्माण संस्थाओं ने नहीं कराया ऑडिट, अब होगी कार्रवाई

-संयुक्त पंजीयक ने दिया सहकारिता निरीक्षकों को निर्देश

By: prashant sharma

Published: 01 Mar 2020, 01:19 AM IST

ग्वालियर। आवासीय क्षेत्र विकसित करने का काम करने वाली 31 कार्यशील और 27 अकार्यशील गृह निर्माण सहकारी समितियों ने अभी तक ऑडिट नहीं कराया है। बीते दो महीने से जारी जांच में यह पता लगा है कि कुछ विशेष संस्थाओं का ऑडिट करने में ढील दी गई है। अब सहकारिता आयुक्त एमके अग्रवाल ने संयुक्त पंजीयक संजय दलेला को बाकी बची सभी संस्थाओं का ऑडिट कराने के निर्देश दिए हैं। आयुक्त के निर्देश के बाद संयुक्त पंजीयक ने भी सभी सहकारिता निरीक्षकों से ऑडिट संबंधित रिकॉर्ड तलब किया है। अगले सप्ताह तक वित्तीय पत्रक और रिकॉर्ड नहीं मिला तो संस्थाओं के साथ-साथ निरीक्षकों पर भी कार्रवाई होगी। जबकि जिन संस्थाओं ने वर्तमान वित्त वर्ष के दस्तावेज उपलब्ध करा दिए हैं, उनको हर हाल में 31 मार्च तक ऑडिट कराना पड़ेगा।


यह हैं जांच के बिंदु

-खाली भूखंडों के सत्यापन की रिपोर्ट बनेगी।
-संस्था की प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कराई जाएगी।
-नगर निगम, टीएंडसीपी आदि की अनुमतियों का सत्यापन किया जाएगा।
-स्वीकृत किए गए नक्शों का अध्ययन करने के बाद स्पॉट वेरिफिकेशन किया जाएगा।
-अनियमितताओं की विस्तार से रिपोर्ट तैयार होगी।
यह पूछा अधिकारियों से
-संयुक्त पंजीयक ने सहकारिता निरीक्षकों से पूछा है कि जिन संस्थाओं ने वित्तीय पत्रक और रिकॉर्ड नहीं मिले हैं, उनको लेकर कार्यालय को जानकारी नहीं दी गई। इसलिए यह माना जाएगा कि सभी गृह निर्माण संस्थाओं के वित्तीय पत्रक और रिकॉर्ड मिल चुके हैं। अगर रिकॉर्ड मिल चुके हैं तो बिना देर किए कार्यालय में जमा कराए जाएं। ऑडिट से बाकी रह गई संस्थाओं का अंकेक्षण भी जल्द से जल्द करें। अंकेक्षण की कार्रवाई पूरी नहीं हुई तो सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
तीन साल से नहीं करा रहीं ऑडिट
2018-19
ऑडिट न कराने वालीं कार्यशील सहकारी संस्थाएं
-अनुपम गृह निर्माण, राष्ट्रीय आदर्श गृह निर्माण, गोविंद वल्लभ पंत गृह निर्माण, शहीद स्मृति गृह निर्माण, अल्पआय नागरिक गृह निर्माण, नितिन गृह निर्माण, पंचशील गृह निर्माण, महाराणा प्रताप गृह निर्माण, प्रतिरक्षा असैनिक गृह निर्माण, विंध्याचल गृह निर्माण, गोवर्धन गृह निर्माण, भारत गृह निर्माण, ईवा गृह निर्माण, ग्वालियर विकास गृह निर्माण,आवास विकास गृह निर्माण, अमोल केश्वर गृह निर्माण, श्री साईंधाम गृह निर्माण, उर्मिला गृह निर्माण, ओम गृह निर्माण, अचलेश्वर गृह निर्माण, सिद्धनाथ गृह निर्माण, शिखा गृह निर्माण, सहज गृह निर्माण, डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी$ गृह निर्माण, राजपत्रित गृह निर्माण, दि ग्वालियर गृह निर्माण सहकारी समितियां शामिल हैं।
ऑडिट न कराने वालीं परिसमापन संस्थाएं
-स्टैंट बैंक ऑफ इंडिया गृह निर्माण, केन्द्रीय कर्मचारी गृह निर्माण,शिवरामपुरम गृह निर्माण,नागेन्द्र गृह निर्माण,दिशा गृह निर्माण,डाकतार कर्मचारी गृह निर्माण, रमिक सहयोग गृह निर्माण, मां शीतला गृह निर्माण, पुलिस कर्मचारी गृह निर्माण, जय गंगा गृह निर्माण, बाजाली महिमा गृह निर्माण, संजय गांधी गृह निर्माण, संगम गृह निर्माण, ग्वालियर लेदर शू मेकर गृह निर्माण, नवीन तृतीय श्रेणी न्यायिक कर्मचारी गृह निर्माण, समर्थ गृह निर्माण सहकारी समितियों ने ऑडिट नहीं कराया है।
-2017-18
ऑडिट न कराने वालीं कार्यशील गृह निर्माण सहकारी संस्थाएं
-श्रीराम गृह निर्माण, महाराणा प्रताप गृह निर्माण, अचलेश्वर गृह निर्माण, शिखा गृह निर्माण, राजपत्रित अधिकारी गृह निर्माण सहकारी समितियां शामिल हैं।
ऑडिट न कराने वालीं परिसमापन गृह निर्माण सहकारी संस्थाएं
-केन्द्रीय कर्मचारी गृह निर्माण, नागेन्द्र गृह निर्माण, मां शीतला गृह निर्माण, महर्षि वाल्मीकि गृह निर्माण, पुलिस कर्मचारी गृह निर्माण, विजय लक्ष्मी गृह निर्माण, गालव गृह निर्माण, गोमटेश्वर गृह निर्माण, नवीन तृतीय श्रेणी कर्मचारी गृह निर्माण,आकृति गृह निर्माण, ग्वालियर गृह निर्माण सहकारी संस्था ने ऑडिट नहीं कराया है।

prashant sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned