फाइनल में 4 टीमें, कोयम्बटूर में देंगी प्रजेंटेशन

आरजेआइटी में आयोजित सौर ऊर्जा व्हीकल चैलेंज-2020 का समापन शुक्रवार को किया गया। देशभर से आईं टीमों को संबोधित करते हुए मुख्य प्रशासक महावीर प्रसाद ने कहा कि इस तरह की प्रतियोगिता केवल जीतने के उद्देश्य से नहीं, इनोवेशन के लिए की जाती हैं।

By: Harish kushwah

Published: 03 Jan 2020, 11:09 PM IST

ग्वालियर. आरजेआइटी में आयोजित सौर ऊर्जा व्हीकल चैलेंज-2020 का समापन शुक्रवार को किया गया। देशभर से आईं टीमों को संबोधित करते हुए मुख्य प्रशासक महावीर प्रसाद ने कहा कि इस तरह की प्रतियोगिता केवल जीतने के उद्देश्य से नहीं, इनोवेशन के लिए की जाती हैं। जिससे हमारे सामने नए विचार आ सकें, जिन पर काम किया जा सके। टीमों ने भ्रमण के साथ वर्चुअल राउंड में अपने द्वारा बनाए जाने वाली सोलर कार के डिजाइन एवं नवाचार को प्रदर्शित किया, जिसे जजेज द्वारा सराहा गया।

सौर ऊर्जा व्हीकल चैलेंज का फाइनल राउंड हिंदुस्तान कॉलेज कोयम्बटूर में 4 से 8 मार्च मे होगा। इसमें देशभर की 22 टीमें पार्टिसिपेट करेंगी। जिनमें से देहरादून इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, एमआइटी एडीटी यूनिवर्सिटी पुणे, प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी फाइनल में पहुंच चुकी हैं।

बेंगलूरु से टी प्रेसिडेंसी यूनिवर्सिटी की ग्रहपति टीम ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर एक एप बनाया है, जो गाड़ी की बैटरी की चार्जिंग स्थिति से परिचित कराएगा। जिससे आपको लॉन्ग ड्राइव पर परेशानी का सामना न करना पड़े।

फेस एक्सप्रेशन से पता चलेगा ड्रिंक करने का

नागपुर की जेडएमआर जीरो माइल रेसिंग टीम ने एक एप तैयार किया है, जो गाड़ी की स्टेयरिंग की ग्रिप और ड्राइवर के फेस एक्सप्रेशन को देखकर ड्रिंक किए होने का पता लगाएगी। इससे कार ऑनर के पास मैसेज पहुंचेगा।

Harish kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned