मेले में बहुत कुछ नया होगा इस साल

कई साल बाद सैलानियों के मनोरंजन के लिए 50 हजार वर्गफीट क्षेत्र में सर्कस लगेगा, साथ ही फुटपाथी दुकानदार और ठेले वालों के लिए झूला सेक्टर के पास अलग से हॉकर्स जोन बनाया जाएगा

By: Rahul rai

Published: 03 Dec 2019, 06:18 PM IST

ग्वालियर। ग्वालियर के ऐतिहासिक व्यापार मेले में इस बार बहुत कुछ नया होगा। कई साल बाद सैलानियों के मनोरंजन के लिए 50 हजार वर्गफीट क्षेत्र में सर्कस लगेगा, साथ ही फुटपाथी दुकानदार और ठेले वालों के लिए झूला सेक्टर के पास अलग से हॉकर्स जोन बनाया जाएगा, इससे मेले में इनके कारण जो अव्यवस्था फैलती थी, वह नहीं फैलेगी। इसके अलावा और बहुत कुछ विशेष होगा। सैलानियों की सुरक्षा के लिए 160 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे, जिनकी मॉनिटरिंग के लिए कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। व्यापार मेला में 25 दिसंबर से पशु मेला प्रारंभ होगा।

मेले के आयोजन के संबंध में संभागीय आयुक्त एमबी ओझा की अध्यक्षता में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर निगम एवं मेला प्राधिकरण के पदाधिकारियों की बैठक में कई निर्णय लिए गए। संभागीय आयुक्त ओझा ने कहा कि मेले में सैलानियों को किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। तय किया गया कि इस साल से हर शनिवार और रविवार को पशु हाट प्रारंभ की जाएगी, जो सालभर चलेगी।


सैलानियों के लिए सभी सुविधाएं हों

विधायक मुन्नालाल गोयल ने कहा कि सैलानियों के साथ व्यापारियों के लिए भी आवश्यक व्यवस्थाएं समय रहते पूर्ण करें। मेले में सैलानियों के लिए आवागमन, पार्किंग की भी बेहतर व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं।

यह दिए निर्देश -
- करीब 50 हजार वर्ग फीट क्षेत्र में रेमन सर्कस लगेगा।
- रविवार और मंगलवार को घोड़े पर बल मार्च करे, इसकी व्यवस्थाएं पुलिस बटालियन से कराई जाएगी।
मेले में अग्नि सुरक्षा के लिए पुख्ता प्रबंध किए जाएं।
- झूलों की सुरक्षा की दृष्टि से पूरी जांच करने के उपरांत ही उनका संचालन प्रारंभ कराया जाए।
- मेले में स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाए। पॉलीथिन का उपयोग न हो यह भी सुनिश्चित किया जाए।
- मेले में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रचार-प्रसार किया जाए, ताकि अधिक लोग उसका आनंद ले सकें।
- सभी विभाग अपने विभाग की प्रदर्शनियां 25 दिसंबर से पूर्व लगा लें।
- नगर निगम की ओर से मेले में जो व्यवस्थाएं की जाती हैं उन्हें समय रहते पूर्ण किया जाए।
- माताओं को अपने बच्चों को दूध पिलाने के लिए तीन-चार मातृ एवं शिशु केन्द्र स्थापित किए जाएं।
- मेले की छतरियों पर भी अस्थाई पुलिस चौकी बनाकर सुरक्षा के प्रबंध किए जाएंगे।

- दंगल में पुलिस के पहलवान भी शामिल हों।
- एम्बुलेंस, दवाएं आदि उपलब्ध कराई जाएंगी।
- फूड जोन में मिलावट की निगरानी करें।

पिछले साल के 17 लाख बकाया हैं
बैठक में मेले में फायर ब्रिगेड के दो की जगह चार वाहन रखने की बात रखी गई। इस पर निगमायुक्त ने कहा कि गत वर्ष के 17 लाख रुपए बकाया हैं, पहले वह भुगतान हो, उसके बाद सोचा जाएगा।

ये रहे मौजूद बैठक में
मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष प्रशांत गंगवाल, कलेक्टर अनुराग चौधरी, पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन, नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन, मेला प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डॉ.प्रवीण अग्रवाल, एडीएम टीएन सिंह, मेला प्राधिकरण के संचालक शील खत्री, सुधीर मंडेलिया, नवीन परांडे, महमूद भाई चैनवाले सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Rahul rai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned