FACEBOOK ने 3 साल बाद खुशियों से भर दी मां की 'झोली'

वैसे तो अक्सर सोशल मीडिया (social media) के दुरुपयोग की खबरें ही सामने आती हैं लेकिन यही सोशल मीडिया कभी कभी लोगों की जिंदगी में खुशियां भी भरता है, एक मां के लिए फेसबुक (facebook) ने जो किया वो उसे ताउम्र याद रहेगा...

By: Shailendra Sharma

Updated: 01 Jul 2020, 04:30 PM IST

ग्वालियर. फेसबुक (facebook) ने एक मां (mother) की झोली खुशियों से भर दी। दो प्रदेशों की सीमाओं को लांघकर अब ये मां जब ग्वालियर (gwalior) पहुंची तो उसकी आंखें खुशी से भर आईं और इसकी वजह था फेसबुक। दरअसल जिस मां की खुशियों का जिक्र हम कर रहे हैं उसका बेटा (son) तीन साल पहले ग्वालियर में गुम (lost) हो गया था। जो अब तीन साल बाद फेसबुक के जरिए उसे वापस मिल गया है। धौलपुर का रहने वाला लखपत और भूरी देवी का परिवार अपने बिछड़े बेटे के मिलने से काफी खुश हैं और उसे अब कभी खुद से दूर न जाने देने की बात कह रहे हैं।

 

3 साल पहले लापता हुआ था बेटा
फेसबुक के जरिए जिस लापता बेटे को वापस उसके माता पिता मिले उसका नाम अशोक है। मानसिक रूप से बीमार अशोक जब 14 साल का था तो पिता लखपत और मां भूरी देवी उसका इलाज कराने के लिए उसे ग्वालियर के जयारोग्य अस्पताल लेकर आए थे। अस्पताल में इलाज के दौरान ही वो एक दिन लापता हो गया था। अशोक न तो ठीक से अपना नाम बता पाता था और न ही अपने परिवार के बारे में कुछ जानकारी दे पाता था। बेटे के गुमने से परेशान माता-पिता ने उसे कई जगह तलाश किया लेकिन बेटे का कहीं पता नहीं चला। पुलिस में रिपोर्ट भी दर्ज कराई लेकिन जब पुलिस भी अशोक नहीं ढूंढ पाई तो कुछ दिन बाद थक-हारकर पिता लखपत और मां भूरी देवी अपने घर धौलपुर लौट गए।

 

ashok_6.jpg

फेसबुक से मिला बिछड़ा बेटा
माता-पिता गुमशुदा बेटे के गम में जैसे तैसे दिन काट रहे थे। एक-एक कर तीन साल का वक्त गुजर चुका था लेकिन बेटे को भुला पाना किसी भी माता-पिता के लिए नामुमकिन होता है रोजाना उसकी याद उन्हें सताती थी। हर दिन ऊपर वाले से प्रार्थना करते कि किसी तरह उन्हें उनका बेटा मिल जाए और उनकी यही प्रार्थना रंग लाई और फेसबुक के जरिए उनका गुमा हुआ बेटा उन्हें मिल गया। अशोक की तस्वीर ग्वालियर के कारोबारी अतुल अग्रवाल ने अपने फेसबुक पर शेयर की थी। कारोबारी अतुल अग्रवाल बेसहारा लोगों को खाना खिलाने के लिए बीते दिनों शहर के स्वर्ग सदन आश्रम गए थे और इसी दौरान उन्होंने बच्चों को खाना खिलाते हुए कुछ तस्वीरें भी ली थीं जिन्हें बाद में फेसबुक पर शेयर किया। फेसबुक पर शेयर की गई तस्वीरों में से एक तस्वीर में अशोक बैठा हुआ दिख रहा था जैसे ही अशोक की तस्वीर उसके माता-पिता के आसपास रहने वाले पड़ोसियों ने देखी तो वो अशोक को पहचान गए और तुरंत लखपत और भूरी देवी को इसके बारे में बताया। बेटे की तस्वीर देखने के बाद तुरंत माता-पिता धौलपुर से ग्वालियर पहुंचे और कारोबारी अतुल अग्रवाल की मदद से उन्हें उनका खोया हुआ बेटा वापस मिल गया।

स्वर्ग सेवा सदन आश्रम में रह रहा था अशोक
साल 2017 में लापता हुआ अशोक कई दिनों तक यहां वहां भटकता रहा। साल 2018 में अशोक ग्वालियर के केयर एंड अवेयर संगठन के सदस्यों को मिला था। अशोक की हालत देख वो उसे स्वर्ग सदन आश्रम ले आए थे यहीं रहते हुए अशोक का इलाज दो साल तक मेंटल हॉस्पिटल में भी कराया गया और उसके बाद से वो आश्रम में ही रह रहा था।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned