शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर आई अब तक की सबसे बड़ी खबर,टीचरों में छाई मायूसी

शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर आई अब तक की सबसे बड़ी खबर,टीचरों में छाई मायूसी

By: monu sahu

Published: 20 Jul 2018, 02:19 PM IST

ग्वालियर। मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) के निर्देश पर यूजीसी (यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन) ने जीवाजी यूनिवर्सिटी (जेयू) सहित सभी सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में शिक्षकों की नियुक्तियां को रोकने के निर्देश गुरुवार को जारी किए। आदेश मिलते ही जेयू ने अपने यहां होने वाली सभी नियुक्तियों पर रोक लगा दी है। साथ ही सभी सरकारी कॉलेजों में शिक्षकों की नियुक्ति के लिए चलाई जा रही प्रक्रिया भी अब थम गई है।

यह भी पढ़ें : चार माह के लिए बंद होने जा रहे हैं मांगलिक कार्य,उससे पहले जरूर कर लें यह उपाय,बदल जाएगी आपकी किस्मत

यूजीसी की जोइंट सेकेट्री डॉ.उर्मिला देवी के अनुसार यह प्रक्रिया आगामी आदेश तक रुकी रहेगी। यह आदेश सभी यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार,यूजीसी से ग्रान्ट लेने वाले शैक्षणिक संस्थान,ड्रीम्ड यूनिवर्सिटी के साथ सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी में लागू होंगे।।

यह भी पढ़ें : राशिफल : इन 9 राशि वालों पर आने वाला है बड़ा संकट,यह उपाय करते ही मिलेगी राहत

अधिकारियों के अनुसार केन्द्र सरकार और यूजीसी ने इलाहबाद हाईकोर्ट के आरक्षण संबंधी मामले में सुप्रीम कोर्ट में अपील की है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस मामले में स्थिति क्लीयर करने के बाद ही नियुक्तियों का रास्ता साफ होगा।

यह भी पढ़ें : चारपाई पर बैठकर मंत्री यशोधरा राजे ने महिलाओं से की बातचीत,सरपंच को लेकर कही यह बात

इस आदेश ने उन लोगों की नींद उड़ा दी है जिनकी नियुक्तियां प्रोसिस में हैं। अंचल के विवि और कॉलेजों में टीचरों के करीब पांच हजार से ज्यादा पद खाली पड़े हैं। जेयू को ५१ पदों पर और राज्यशासन को पीएससी के तहत करीब 2700 पदों के लिए टीचरों की नियुक्ति करनी थी,जो अब खटाई में पड़ गई है। जेयू के यूसिक डिपार्टमेंट में होने वाले एक पद की नियुक्ति के लिए इंटरव्यू हो गए थे, लिफाफे जुलाई के अंतिम सप्ताह में होने वाली ईसी की बैठक में खुलने थे, लेकिन यूसीसी द्वारा रोक लगाने से अब यह मामला भी खटाई में पड़ गया है।

यह भी पढ़ें : सरपंच और जनपद सदस्य के बीच पथराव,लोगों में मची अफरा तफरी

"यूजीसी के आदेश पर हमने विवि में होने वाली टीचरों की नियुक्ति प्रक्रिया रोक ली है। आगामी कार्रवाई अगला आदेश मिलने के बाद ही की जाएगी।"
प्रो.संगीता शुक्ला, कुलपति,जेयू

monu sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned