फर्जी नाम और पता लिखकर बंदूक का मांगा लाइसेंस

चारसौबीसी का मामला दर्ज होने के बाद हो गया था फरार, पुलिस ने किया गिरफ्तार

ग्वालियर। हत्या में नामजद आरोपी ने बंदूक का लाइसेंस बनवाने के लिए अपना नाम और पता ही बदल डाला। लेकिन उसकी यह चालाकी पकड़ में आई तो पुलिस ने चार सौ बीसी का मामला दर्ज किया। एफआइआर होने पर वह फरार हो गया। पुलिस ने कई ठिकानों पर दबिश देकर उसे तलाश किया लेकिन पकड़ में नहीं आ रहा था। सोमवार-मंगलवार की दरमयानी रात पुलिस ने दबोच लिया। पुलिस के मुताबिक पदमपुर खेरिया(महाराजपुरा)बिहारी उर्फ विक्रम लोधी(२८) को गिरफ्तार कर लिया है। बिहारी लोधी हत्या के मामले में नामजद था। मामला न्यायालय मे है। चूंकि जिस पर कोई अपराध है, उसका बंदूक का लाइसेंस नहीं बन सकता है। बिहारी को माउजर का लाइसेंस बनवाना था, इसलिए उसने योजना बनाई। उसने सोचा क्यों न अपना नाम और पता बदल दिया जाए। जिससे उसके अपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी किसी को नहीं पता चलेगी। उसका लाइसेंस भी बन जाएगा। इसी चालाकी के तहत बिहारी ने माउजर के लाइससें के लिए जो आवेदन दिया उसमें बिहारी की जगह विक्रम लोधी और पता मां बैष्णोपुरम लिखा। मुन्नी लोधी ने इसकी शिकायत कर दी। जांच होने पर मामला सही निकला। इस पर हजीरा थाने में चार सो बीसी का मामल दर्ज हुआ। पुलिस का कहना है रात को खबर मिली कि विक्रम अपने घर आया है। इस पर पुलिस ने दबिश देकर उसे दबोच लिया।
६ साल पहले की थी हत्या

करीब ६ साल पहले २२ फरवरी २०१३ को लाल सिंह लोधी की हत्या हुइ थी। इस हत्या के मामले में बिहारी और उसके कुछ साथी नामजद हुआ थे। यह मामला न्यायालय में विचाराधीन चल रहा है। बिहारी ने लाइसेंस के लिए विक्रम नाम बताया।

Harpal chauhan Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned