5 लाख की जरूरत थी तो सोचा एटीएम लूट लूं, अस्पताल से पकड़ा ये अरोपी

5 लाख की जरूरत थी तो सोचा एटीएम लूट लूं, अस्पताल से पकड़ा ये अरोपी

Gaurav Sen | Updated: 30 Apr 2019, 12:41:49 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

5 लाख की जरूरत थी तो सोचा एटीएम लूट लूं, अस्पताल से पकड़ा ये अरोपी

ग्वालियर। मर्चेंट नेवी के ट्रैडमैन ने रॉक्सी रोड पर रात 2:45 बजे सेंट्रल बैंक का एटीएम तोडकऱ उसका कैश लूटने की कोशिश की। पेचकस से कैश बॉक्स का ढक्कन खोल पाया था कि एटीएम के मुंबई कंट्रोल में सीसीटीवी सर्विलांस ने उसकी करतूत पकड़ ली। सिक्योरिटी सायरन बजा कर पुलिस को फोन कर कहा कि एटीएम पर पहुंचो वहां बदमाश कैश लूटने की कोशिश में है। उसके फुटेज भी तुरंत पुलिस कंट्रोल को वाट्सऐप कर दिए। हालांकि पुलिस के पहुंचने से पहले ट्रैडमैन वहां से भाग चुका था। लेकिन बच नहीं सका। उसका फुटेज मिलने पर पुलिस उसे पकडऩे के लिए गलियों और अस्पताल में घुसी तो वह कमलाराजा अस्पताल में अटैंडर्स के बीच दुबका मिल गया। पकड़े जाने पर उसने खुलासा किया कि मोबाइल टॉवर लगाने के लिए पांच लाख रुपए का इंतजाम करना था, इसलिए एटीएम कैश लूटने का प्लान बनाया था।

पुलिस ने बताया सेंट्रल बैंक का एटीएम लूटने की कोशिश संदीप पुत्र मातादीन परिहार निवासी नादरिया की माता ने की थी। संदीप मर्चेंट नेवी में ट्रैडमैन है। उसके पिता फौज से रिटायर्ड नायक हैं। संदीप भिंड का रहने वाला है उसका परिवार कुछ दिन पहले ही उज्जैन से यहां शिफ्ट हुआ है। आरोपी संदीप ने इंट्रोगेशन में खुलासा किया है कि उसने टॉवर लगवाने के लिए आवेदन किया था। उसमें पांच लाख रुपए की जरूरत है। 5 हजार रुपए में रजिस्ट्रेशन और 25 हजार रुपए जमा करवा चुका है। कुछ दिन बाद 10 हजार रुपए और कंपनी के खाते में जमा कराने थे। बाकी रकम का इंतजाम नहीं था इसलिए एटीएम लूटने का प्लान बनाया। यू टयूब से एटीएम का कैश बाक्स खोलना सीखा। रविवार रात को पूरी तैयारी से तीन पेचकस और प्लास लेकर एटीएम लूटने निकला। उसे पता था कि सेंट्रल बैंक के एटीएम में गार्ड नहीं है इसलिए उसे टारगेट किया। यह नहीं पता था कि इस एटीएम में सीसीटीवी सर्विलांस से राउंड द क्लॉक नजर रखी जाती है। एटीएम में घुसकर उसके कैश बाक्स का ऊपर का कवर खोल भी लिया था तब सायरन बज गया तो भागना पड़ा।

ऐसे पकड़ा गया
सेंट्रल बैंक के एटीएम में सीसीटीवी के सर्विलांस का कंट्रोल रूम मुंबई में है। उसके जरिए सभी एटीएम में हर वक्त हलचल पर नजर रखी जाती है। रात को संदीप ने एटीएम का कैश बॉक्स खोलने की कोशिश की तो एटीएम सिक्योरिटी ने उसकी हरकत देखी। आरोपी खुलासा कर रहा है कि उसे उम्मीद नहीं थी कि रात के वक्त भी एटीएम पर सीसीटीवी से नजर रखी जा रही है लेकिन सायरन बजा तो पकड़े जाने का डर लगा। वहां से निकलकर कमलाराजा अस्पताल में घुस गया। वहां तमाम लोग अस्पताल परिसर में मैदान और पार्क में सो रहे थे इसलिए उनके बीच में जाकर लेट गया कि अगर पुलिस आ भी गई तो उसे नहीं पहचान पाएगी। उधर एटीएम पर सीसीटीवी से नजर रख रही सिक्योरिटी ने संदीप के फुटेज पुलिस को तुरंत वाट्सऐप कर बताया कि एटीएम तोडऩे की कोशिश करने वाला काले रंग की पेंट, काली टीशर्ट पहना है। पहचान छिपाने के लिए उसने मुंह पर सफेद रुमाल बांध रखा है। उसके कंधे पर काला बैग टंगा है। फुटेज और हुलिया मिलने पर पुलिस उसकी तलाश में लग गई। कोतवाली के आरक्षक नरेन्द्र सिंह और पूरन उसे ढूंढते हुए अस्पताल में पहुंचे तो संदीप वहां अटेंडर्स की भीड़ में दुबका मिल गया। उसके बैग की तलाशी में बड़ा पेचकस, दो छोटे पेचकस सहित टॉवर लगाने के लिए आवेदन का फॉर्म मिला है।

पूछताछ में बेहोश, आइसीयू में इलाज, जेल भेजा
पुलिस के मुताबिक आरोपी संदीप का हुलिया चोरी की वारदात में संदेही से मेल खा रहा था। उससे चोरी के बारे में इंट्रोगेट किया तो पूछताछ के दौरान उसकी हालत बिगड़ गई। वह छटपटा कर जमीन पर लेट गया उसके मुंह से झाग आने लगा। आरोपी की हालत देखकर पुलिस सहम गई। इंट्रोगेशन छोडकऱ उसे तुरंत अस्पताल ले गई। वहां चिकित्सकों ने भी उसकी स्थिति गंभीर बताकर आइसीयू में भर्ती कर लिया। कुछ देर इलाज के बाद जब हालत में सुधार हुआ तो आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेजा।

गश्त टीम ने घेरकर पकड़ा
एटीएम से कैश लूटने की कोशिश करने वाले का फुटेज मिलने पर गश्त टीम उसकी तलाश में जुट गई थी। पुलिसकर्मियों को आशंका थी बदमाश छिपने के लिए अस्पताल में घुस सकता है इसलिए उसे ढूंढते हुए दोनों आरक्षक वहां पहुंच गए। उनकी कोशिश कामयाब रही। बदमाश वहां मिल गया।
अजय चानना, कोतवाली टीआई

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned