scriptBefore August 15, Madhya Bharat Khadi Sangh is making tricolor flag | 15 अगस्त से पहले मध्य भारत खादी संघ बना रहा तिरंगे झंडे, देश भर में जाता है ग्वालियर में बना राष्ट्रीय ध्वज | Patrika News

15 अगस्त से पहले मध्य भारत खादी संघ बना रहा तिरंगे झंडे, देश भर में जाता है ग्वालियर में बना राष्ट्रीय ध्वज

  • 30 लाख के 8 हजार से अधिक छोटे-बड़े झंडे बिके, दो हजार झंंडे बचे
  • आइएसआइ प्रमाणित ध्वत हुबली, मुंबई और ग्वालियर में ही बनते हैं
  • हर घर तिरंगा अभियान के लिए भी बनाए गए नॉन आइएसआइ झंडे

ग्वालियर

Published: July 27, 2022 07:24:38 pm

ग्वालियर. देश भर के शासकीय और अद्र्धशासकीय कार्यालयों के साथ कई मंत्रालयों पर लहराने वाले तिरंगे झंडे ग्वालियर में तैयार किए जाते हैं। जीवाजीगंज स्थित मध्य भारत खादी संघ की ओर से तैयार किए जाने वाले तिरंगे झंडे यहां से देश के हर प्रांत में जाते हैं। 15 अगस्त से पूर्व ही 15 जून से 25 जुलाई के बीच करीब 30 लाख रुपए के 8 हजार छोटे-बड़े तिरंगे झंडे बनाकर भेजे जा चुके है। वहीं करीब दो हजार झंडे और बचे हैंं, इन्हें भी बाहर भेजा जाएगा। इस साल झंडे में लगने वाली पौनी (कच्चा माल) की उपलब्धतता कम और देरी से मिलने के कारण झंडों का उत्पादन कम हुआ है। खास बात यह रही कि इस बार आइएसआइ प्रमाणित झंडों के साथ-साथ नॉन आइएसआइ प्रमाणित झंडे (सादा झंडे) भी बनाए गए हैं। ये ध्वज हर घर तिरंगा अभियान के लिए बनाए गए थे। राष्ट्रीय ध्वज प्रबंधक डोंगर सिंह कुशवाह ने बताया कि आइएसआइ प्रमाणित राष्ट्रीय ध्वज देश में कर्नाटक के हुबली, मुंबई और ग्वालियर में ही बनाए जाते हैं। शहर में तैयार होने वाले तिरंगे की खासियत यह है कि कपड़े बनाने से लेकर उसकी टेस्टिंग तक संस्था की ओर से ही लैब में की जाती है। इसके लिए प्रत्येक झंडे को 18-20 टेस्टिंग से गुजरना होता है।
15 अगस्त से पहले मध्य भारत खादी संघ बना रहा तिरंगे झंडे, देश भर में जाता है ग्वालियर में बना राष्ट्रीय ध्वज
15 अगस्त से पहले मध्य भारत खादी संघ बना रहा तिरंगे झंडे, देश भर में जाता है ग्वालियर में बना राष्ट्रीय ध्वज
ये हैं झंडों के दाम

यहां बने तिरंगे झंडे दिल्ली, पश्चिम बंगाल, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, बिहार, राजस्थान, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गुजरात आदि प्रदेशों में जाते हैं। आइएसआइ प्रमाणित छह बॉय चार फुट के झंडे की कीमत दो हजार रुपए, दो बॉय तीन फुट के 750 रुपए, तीन बॉय साढ़े चार फुट के झंडे 1500 रुपए और नॉन आइएसआइ प्रमाणित झंडे बारह बाय अठारह फुट का झंडा 200 रुपए और अठारह बाय सत्ताइस इंची 280 रुपए का है।
पौनी के कारण कम बन पाए झंडे

तिरंगा बनाने में लगने वाली पौनी के कारण इस साल तिरंगे झंडों का उत्पादन कम हुआ है। अभी तक 30 लाख रुपए के करीब 8 हजार झंडे भेजे जा चुके हैं। यहां बने आइएसआइ प्रमाणित तिरंगे झंडे देश भर में जाते हैं।
- वासुदेव शर्मा, अध्यक्ष, मध्य भारत खादी संघ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : राजस्थान में एक्टिव मरीज 4 हजार के पारडिप्टी सीएम बनने के बाद आज पहली बार लालू यादव से मिलेंगे तेजस्वी यादव, मंत्रालयों के बंटवारे पर होगी चर्चाRajasthan BSP : 6 विधायकों के 'झटके' से उबरने की कवायद, सुप्रीमो Mayawati की 'हिदायत' पर हो रहा कामJammu Kashmir: कश्मीर में एक और बिहारी मजदूर की हत्या, बांदीपोरा में आतंकियों ने मोहम्मद अमरेज को मारी गोलीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 'बिहार वृक्ष सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम में हुए शामिल, पेड़ को बांधी राखी, कहा - वृक्ष की भी होनी चाहिए रक्षाअमरीका: गर्भपात के मामले में फेसबुक ने पुलिस से शेयर की माँ-बेटी की चैट हिस्ट्री, अमरीका से लेकर भारत तक रोष, निजता के अधिकार पर उठे सवालLegends league के लिए पाकिस्तानी क्रिकेटरों को वीजा देगा भारत?, BCCI अधिकारी ने कही ये बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.