BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा सहित कई दिग्गज नेताओं को दिखाए काले झंडे,फिर सामने आया सबसे बड़ा बयान

BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा सहित कई दिग्गज नेताओं को दिखाए काले झंडे,फिर सामने आया सबसे बड़ा बयान

monu sahu | Publish: Sep, 10 2018 11:40:02 AM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा सहित कई दिग्गज नेताओं को दिखाए काले झंडे,फिर सामने आया सबसे बड़ा बयान

ग्वालियर। एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने रविवार को भाजपा की संभागीय बैठक में शामिल होने के लिए आए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राज्यसभा सदस्य प्रभात झा, पूर्व मंत्री ध्यानेन्द्र सिंह, सामान्य निर्धन वर्ग आयोग के अध्यक्ष बालेंदु शुक्ला और साडा अध्यक्ष राकेश जादौन को काले झंडे दिखाकर कानून वापस लेने की मांग की।

 

इस दौरान झा को धिक्कार पत्र सौंपकर प्रदर्शनकारियों ने उनसे पूछा कि एट्रोसिटी एक्ट के मामले में आप किसके साथ हैंं, इस पर झा ने चुप्पी साध ली। उधर मुरैना सांसद अनूप मिश्रा ने घर के सामने प्रदर्शन कर काले झंडे दिखा रहे युवाओं को समोसे खिलाए और दिल्ली में बात करने का आश्वासन दिया।

 

लगातार छह दिन से हो रहा विरोध
एक्ट के विरोध में छह दिन से लगातार सवर्ण-ओबीसी संगठनों द्वारा शहर में प्रदर्शन किया जा रहा है। रविवार को मेला ग्राउंड में शुरू हुई भाजपा की संभागीय बैठक में कई सवर्ण युवा पहुंच गए और प्रदर्शन किया। बैठक स्थल के बाहर इन युवाओं के सामने कुछ नेताओं के साथ जब प्रभात झा पहुंचे तो सभी को काले झंडे और नारेबाजी का सामना करना पड़ा। बाद में उन्हें धिक्कार पत्र दिया।

 

बेरिकेड लगाकर युवाओं को रोका
पुलिस ने बैठक स्थल के बाहर बेरिकेड लगाकर युवाओं को रोक दिया। इसके बाद सभी ने वहीं नारेबाजी शुरू कर दी। लगभग पौन घंटे तक जारी रही नारेबाजी के बाद राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा बैठक से बाहर आए और धिक्कार पत्र लिया।

 

नहीं पहुंचे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष
बैठक में भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार सिंह शामिल नहीं हुए। बताया जा रहा है कि वह ग्वालियर आने की बजाय राष्ट्रीय कार्यसमिति में शामिल होने के लिए दिल्ली चले गए हैं।

 

शोर सुन बाहर आए मिश्रा
सांसद अनूप मिश्रा के घर काले झंडे दिखाने पहुंचे लोगों को पुलिस ने सिंधी कॉलोनी के बाहर गली में ही रोक लिया। शोर सुनकर मिश्रा बाहर आए और सभी को घर ले गए। उन्होंने सभी को समोसे खिलाए और धिक्कार पत्र भी लिया।

 

विरोध प्रदर्शन के पीछे कांग्रेस की दिया सलाई: झा
भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने कहा कि एट्रोसिटी एक्ट को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शन के पीछे कांग्रेस की दिया सलाई है। उन्होंने कहा कि हम चुरहट गए थे, वहां राहुल भैया के नाम से नारे लगे थे, मुख्यमंत्री पर हमला हुआ था। मैं यह नहीं कहता कि सभी जगह यह हो रहा है, लेकिन जिन चीजों से समाज में चिंगारी लगे, उनसे बचना जरूरी है। वह प्रदर्शनकारियों से धिक्कार पत्र लेने के बाद मीडिया से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा आंदोलन के पीछे जो दिया सलाई लेकर खड़े हैं, उनसे निवेदन है कि वे समाज को तोडऩे का काम न करें।

 

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में अपनी बात रखने का सभी को अधिकार है। हमनें लोगों की बात का सम्मान रखने के लिए समय भी दिया है। हम पंथ, लिंग, भेदभाव सभी से दूर हैं। जो स्थितियां बन रही हैं, उनका आकलन भी लोग कर रही होंगे। एक्ट को लेकर उन्होंने मुझे धिक्कार पत्र दिया है, मैंने लिया है, यह उनका अधिकार है। मेरा कहना है कि सभी बातों को संवैधानिक तरीके से रखा जाना चाहिए अराजकता नहीं फैलाना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्या सही है और क्या गलत है, इसका निर्णय लेने के लिए सरकार है।

Bharat Bandh Today

इन्हें नहीं जाने दिया अंदर
संभागीय बैठक में शामिल होने के लिए भाजपा नेता ध्यानेन्द्र सिंह और सामान्य निर्धन वर्ग आयोग के अध्यक्ष बालेंदु शुक्ला जब मेला ग्राउंड पहुंचे तो प्रदर्शनकारियों ने उन्हें घेर लिया और वापस जाओ के नारे लगाने लगे। कुछ देर बातचीत के बाद भी जब युवा नारे लगाते रहे तो दोनों पूर्व मंत्री बैठक से वापस लौट गए।

Ad Block is Banned