अतिक्रमण कर बड़े नाले बने नाली, तानी इमारतें

अतिक्रमण कर बड़े नाले बने नाली, तानी इमारतें
अतिक्रमण कर बड़े नाले बने नाली, तानी इमारतें

Rajesh Shrivastava | Updated: 14 Sep 2019, 01:11:35 AM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

शहर के कब्जा कर इमारतें बन गई हंै। आलम यह है कि नालों की जगह अब नालियां रह गई। जिसमें बरसात का पानी निकल नहीं पता और मोहल्ले या कॉलोनियों में भर जाता है।

ग्वालियर. लोगों को जहां भी सरकारी जगह खाली मिलती है उस पर कब्जा कर लेते हैं। ऐसा ही कुछ हाल शहर के नालों का है। अधिकांश नालों पर कब्जा कर इमारतें बन गई हंै। आलम यह है कि नालों की जगह अब नालियां रह गई। जिसमें बरसात का पानी निकल नहीं पता और मोहल्ले या कॉलोनियों में भर जाता है। ऐसा भी नहीं कि नगर निगम या प्रशासन को इसकी जानकारी न हो। सब कुछ जानकर वह अंजान बने हुए है। जो नाले अभी बचे हैं उन पर भी अतिक्रमण शुरू हो गया है। प्रशासन को सुध तब आती है जब पूरा नाला अतिक्रमण से घिर जाता है। हम बात कर रहे है सुरेश नगर स्थित नाले की। यह नाला कभी 80 से 100 फुट चौड़ा हुआ करता था। नाले के आसपास मकान बनना शुरू हुए तो लोगों ने नाले पर अतिक्रमण करना शुरू कर दिया। एक ने जगह घेरी तो उसे देखकर पड़ोसी ने भी नाला घेर लिया। अब तो अधिकांश लोग उस नाले पर अतिक्रमण कर चुके हैं। उस नाले पर बड़ी बड़ी इमारतें खड़ी हो गई है। अब यह नाला सिर्फ 12 फुट का बचा है। इस कारण पानी की निकासी सही तरीके से नहीं हो पा रही है। चुनाव के बाद से स्थानीय विद्यायक मुन्नालाल गोयल, कलेक्टर अनुराग चौधरी, नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन सहित कई अधिकारी निरीक्षण भी कर चुके है। कुछ औपचारिकता हुई लेकिन अतिक्रमण नहीं हटाया गया। कुल मिलाकर आज भी अतिक्रमण बरकरार है।

नाले की जगह पर प्लॉटिंग

भूमाफिया ने इस नाले का सबसे ज्यादा फायदा उठाया। उन्होंने इस नाले पर ही प्लॉट काटकर रकम कमाई। लोगों को खुद की जमीन बताकर प्लॉट काट दिए। लोगों ने भी बिना जांच पड़ताल किए उस जमीन पर कब्जा कर मकान खड़े कर दिए। पानी की निकासी न होने से थोड़ी सी बरसात होने पर बस्ती में पानी भर जाता है। यहां तक कि कई घरों के अंदर तक पानी पहुंच जाता है।
यहां भी नाले पर कब्जा कर बनाए घर : सिर्फ सुरेश नगर ही नहीं हम लश्कर की बात करें तो गुढ़ा क्षेत्र में भी नाले पर अतिक्रमण कर लोगों ने घर बना लिए हंै। जो नाला 80 फुट चौड़ा था अब केवल 10 फुट ही बचा है। चौरसिया कॉलोनी से सैकेंड बटालियन की तरफ जाने वाला नाला पूरी तरह से अतिक्रमण की चपेट में है। कई जगह तो पूरा नाला ही लोगों ने घेर लिया। निकासी के लिए सिर्फ दो से तीन फुट ही जगह बची है। अतिक्रमण के बारे में प्रशासन जानकर भी अनजान बना रहता है। जिससे अतिक्रमणकारियों के हौंसले बुलंद हो रहे हैं। ऐसा भी नहीं कि प्रशासन को पता न हो सब कुछ जानकर भी वह चुप बैठे हुए है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned