प्रदेश की पुलिस में होने जा रहा है यह बदलाव, कुछ समय में बदला नजर आऐगा पूरा पुलिस महकमा

Gaurav Sen

Publish: Oct, 13 2017 02:31:32 (IST)

Gwalior, Madhya Pradesh, India
प्रदेश की पुलिस में होने जा रहा है यह बदलाव, कुछ समय में बदला नजर आऐगा पूरा पुलिस महकमा

यह मोनो करीब साढ़े तीन साल पहले पूर्व पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे के आदेश के बाद लगाना बंद किया गया था।

ग्वालियर/श्योपुर। चंबल रेंज के श्योपुर जिले सहित पूरे प्रदेश में अब पुलिस जल्द ही बदली-बदली नजर आएगी। क्योंकि अब पुलिस की वर्दी से हटाया गया मप्र पुलिस का मोनो अब फिर से लगा नजर आएगा। मोनो लगाने के आदेश पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने जारी कर दिए हैं। यह मोनो करीब साढ़े तीन साल पहले पूर्व पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे के आदेश के बाद लगाना बंद किया गया था।

 

खुफिया विभाग के राडार पर फर्जी कैप्टन, माशूका को रिझाने बनवाया था फर्जी परिचय पत्र

 


दरअसल धरना प्रदर्शन के दौरान कई बार झूमा झटकी में मोनो गिर जाता था या उसके कारण वर्दी फट जाती थी। पुलिसकर्मी अपने अपने हिसाब से अलग-अलग प्रकार के मोनो लगा लेते थे। इससे वर्दी खराब लगती थी। लेकिन अब करीब साढ़े तीन साल बाद नए सिरे से मोनो लगाने के आदेश डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला द्वारा जारी किए गए हैं। अब एक नवंबर 2017 से पुलिस की वर्दी पर मप्र पुलिस का मोनो लगाया जाना शुरु हो जाएगा।

 

बीमार हुआ तो पहुंचा अस्पताल,वहां से सीखा ठगी करने का नया तरीका, इस ठग का कारनामा सुनकर पुलिस भी रह गई दंग


अलग-अलग रहेगी व्यवस्था

आदेशानुसार पुलिस के राजपत्रित अधिकारी नीले रंग के टेरीकॉट के कपड़े पर सफेद जरी धागे से कढ़ाई द्वारा तैयार मोनो वर्दी के बाएं बाजू पर स्टिच बटन या वेलक्रो से लगा सकेंगे। जबकि आरक्षक,प्रधान आरक्षक, एएसआई तथा उनसे वरिष्ठ स्तर के अराजपत्रित अधिकारी नीले रंग के टेरीकॉट के पकड़े पर रेशमी धागे से कढ़ाई द्वारा तैयार मोनो वर्दी के बाएं बाजू पर सिलाई कराएंगे।

 

फैक्ट फाइल
24 फरवरी 2014 को जारी हुए थे चिन्ह को हटाने के आदेश
2014 में देशभर के डीजीपी और आईजी स्तर के अधिकारियों की बैठक में मोनो लगाने की हुई थी अनुशंसा
01 नवंबर 2017 से अब फिर से पुलिस की वर्दी पर लगाया जाएगा मोनो

इस तरह के आदेश जारी हुए है। आदेशों का पालन 1 नवंबर से होना शुरू हो जाएगा।
डॉ. शिव दयाल सिंह, एसपी,श्योपुर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned