बच्चे नहीं छीन सकते बुजुर्गों का हक

बच्चे नहीं छीन सकते बुजुर्गों का हक
old man can also complained

पीडि़त किए जाने पर बुजुर्ग एसडीएम स्तर के अधिकारी से कर सकते हैं शिकायत।


ग्वालियर। माता-पिता को परेशान करने वाली संतानों को सबक सिखाने के लिए भरण पोषण अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई लगातार जारी है। भले ही कोई बुजुर्ग ग्वालियर का निवासी होने के बाद किसी दूसरी जगह अपनी संतान के पास रह रहा हो, अगर वहां भी परेशान किया जाए तो वे उसी शहर के एसडीएम स्तर के अधिकारी के कार्यालय जाकर शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इस शिकायत पर तुरंत संज्ञान लिया जाएगा, बाद में सुनवाई के लिए केस होम टाउन में ट्रांसफर किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा और भरण पोषण के लिए माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों का भरणपोषण तथ कल्याण अधिनियम-2007 बनाया गया है। इसके साथ ही मध्यप्रदेश माता-पिता और वरिष्ठ नागरिक भरण पोषण तथा कल्याण नियम 2009 भी प्रदेश में प्रभावी है। इस अधिनियम के अंतर्गत गोरखी में सुनवाई का सिलसिला लगातार चल रहा है। इस सुनवाई के लिए नगर निगम सीमा क्षेत्र में नोडल अधिकारी महीप तेजस्वी और विकासखंड स्तर पर डबरा और भितरवार एसडीएम के यहां सुनवाई के लिए प्रकरण दर्ज कराया जा सकता है।

यह हैं नियम
 1. बुजुर्गों का परित्याग करने, असुरक्षित छोडऩे पर तीन महीने तक की सजा और जुर्माना हो सकता है।
  दंड प्रक्रिया संहिता के अनुसार अधिनियम के अंतर्गत अपराध का संक्षिप्त विचारण मजिस्ट्रेट द्वारा किया जाएगा। 
 2. किसी बुजुर्ग द्वारा स्वयं की देखभाल करने की शर्त पर संपत्ति दान की है और बाद में उसकी देखभाल नहीं की जाती है तो दान निष्प्रभावी माना जाएगा। 
 3. भरण पोषण के लिए आदेश होने पर संबंधित पुत्र या रिश्तेदार को तीस दिन की अवधि में बुजुर्ग या उनके बताए खाते में आदेशित रकम जमा करानी होगी।
4. देश से बाहर रहने वाले पुत्र या रिश्तेदार को भी समन दिया जा सकता है। 
5.  एक से अधिक नातेदार संपत्ति में हिस्सेदार होने पर भरण पोषण का दायित्व भी बराबर में बांटा जाएगा। 

"बच्चों द्वारा देखभाल न करने या परेशान करने पर पीडि़त बुजुर्ग आवेदन कर सकते हैं। उनकी शिकायत पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी।"
- महीप तेजस्वी, नोडल अधिकारी-भरण पोषण अधिनियम 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned