ग्वालियर। जल्द ही एक बार फिर से ग्वालियर शहर में कोरोना विस्फोट हो सकेगा। कारण यह है कि उप चुनाव में राजनेताओं की सभा में कोविड-19 से बचाव को लेकर गाइड लाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। कार्यकर्ता से लेकर वोटर को लुभाने के लिए कोरोना से न डरने की सलाह दी जा रही है। यही कारण है कि लोग मास्क को हटाकर एक दूसरे के नजदीक आ रहे है। ऐसा ही कुछ दृश्य ग्वालियर विधानसभा के उपचुनाव को लेकर रविवार की शाम आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में देखने को मिला। इस कार्यकर्ता सम्मेलन को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान ने स्वयं संबोधित किया। जब कार्यक्रम खत्म हुआ तो कार्यकर्ताओं को नाश्ते के पैकेट वितरण किए गए। इस पैकेट लेने के दौरान कार्यकर्ताओं के चेहरे पर मास्क नहीं थे। कार्यकर्ता एक दूसरे से धक्का मुक्की करके नाश्ते के पैकेट को लूट रहे थे। यह सिलसिला कार्यक्रम स्थल पर करीब डेढ घंटे चला। इस दौरान सैकंडों की तादाद में आए कार्यकर्ता एक दूसरे फिजिकल तौर पर टच हुए है। जबकि निर्वाचन आयोग मतदान के दिन वोटिंग किए जाने को लेकर भारी सर्तकता बरतने को लेकर प्लान तैयार कर रहा है। इस पर भारी भरकम रकम खर्च की जा रही है। इधर शहर के युवा वकील आशीष प्रताप सिंह की पीआइएल पर हाईकोर्ट की फटकार के बाद कई राजनेताओं के खिलाफ एफआइआर दर्ज हुई है। इसके बाद भी यह राजनेताओं को लोगों की जान की परवाह नहीं और ना ही न्यायालय की फटकार का डर है। इतना ही नहीं एफआइआर होने के बाद उनके चेहरे पर असर नहीं हुआ है।

BJP
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned