VIDEO : पशुओं की रिहाई पर अब लगेगा जुर्माना : पशुपालन मंत्री

monu sahu

Publish: Jan, 14 2019 07:31:55 PM (IST)

Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

ग्वालियर। अब मध्यप्रदेश में भी रोड पर घूम रहे आवारा गो वंश के सरंक्षण के लिए राज्य सरकार फंड जुटाने की योजना बना रही है। इसके लिए शराब, संपत्ति विक्रय या मंडी आदि में किसी पर 2-5 प्रतिशत का सेस (मुख्य टैक्स के ऊपर लगने वाला उपकर) लगाया जा सकता है। इसके लिए राज्य सरकार योजना पर काम कर रही है। सेस लगाने के संकेत पशुपालन मंत्री लाखन ङ्क्षसह यादव ने गो शाला लाल टिपारा मुरार में भ्रमण के दौरान पत्रकारों के सवालों के जवाब के दौरान दिए। मंत्री यादव ने पूर्व में रही भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व में जो सरकार थी उसने गाय के नाम पर राजनीति तो बहुत की लेकिन गो रक्षा और गो संरक्षण को लेकर कोई ठोस योजना नहीं बनाई। इ

 

सके चलते गायों की प्रदेश में दुर्दशा हुई। प्रदेश की कांग्रेस सरकार गांव स्तर पर गायों के संरक्षण को लेकर ठोस कदम उठाने जा रही है। भाजपा सरकार में 6-7 लाख से अधिक गायों के लिए मात्र 50 करोड़ का बजट था। ऐसे हालात में 1 से 4 रुपए प्रति गाय के भरण पोषण के लिए आवंटित होते थे। हम फंड बढ़ाएंगे ताकि गायों के भरण पोषण के लिए माहौल तैयार हो सके।

 

प्रदेश के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने बताया कि सडक़ पर आवारा घूमते पशुओं की रिहाई पर पहले 250 रुपए जुर्माना लिया जाता था, अब 450 से 500 रुपए तक जुर्माना लिया जाएगा। उन्होंने पशु पालकों को चेतावनी दी है कि अगर दो बार से अधिक पशु पकड़ा जाता है तो उसे कांजी हाउस भेज दिया जाएगा।

 

सडक़ों पर घूमने वाले आवारा गौवंश के प्रबंधन के लिए प्रदेश में पायलट प्रोजेक्ट की शुरूआत भोपाल से 16 जनवरी से होगी। घाटीगांव के पास ग्राम सिरसा के समीप प्रदेश भर के लिए मॉडल गौशाला स्थापित की जाएगी। वहीं आयुक्त विनोद शर्मा द्वारा नई गो शाला की जमीन पर विकास कार्य के लिए पांच करोड़ की राशि की मांग की गई जिस पर यादव ने मदद का भरोसा दिलाया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned