तुड़ाई में भेदभाव, गरीबों पर ही चला प्रशासन का जोर

Gaurav Sen | Publish: Jan, 14 2018 11:39:49 AM (IST) | Updated: Jan, 14 2018 12:06:03 PM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

जड़रुआ बांध रोड पर हुई अतिक्रमण की कार्रवाई में ६ नंबर चौराहे से लेकर स्कूल तक बने मकानों को तोडऩे में प्रशासन ने कोई कसर नहीं

ग्वालियर । जड़रुआ बांध रोड पर हुई अतिक्रमण की कार्रवाई में ६ नंबर चौराहे से लेकर स्कूल तक बने मकानों को तोडऩे में प्रशासन ने कोई कसर नहीं रखी। इसके उलट दो-तीन और चार मंजिला मकानों को तोडऩे से पहले हर पहलू का ध्यान रखा गया। कार्रवाई के समय एक ही लाइन में बने तीन दो मंजिला मकानों के आगे की पोर्च को तोड़ा, जबकि उसके बगल में बने ईंटों की छतें गिरा दी।

 

 

यह भी पढ़ें: VIDEO: जड़ेरुआ रोड पर चला प्रशासन का हथौड़ा, 20 साल से जिन आशियानों में था 100 परिवारों का बसेरा, 5 घंटे में उजाड़ दिया

यह भी पढ़ें: आए थे घर उजाडऩे, जिंदगी उजाड़ कर चले गए, मां के गिरने से बच्चे की हुई मौत

वहीं स्कूल के पास स्थित तिराहे पर नरवरिया के चार मंजिला मकान को छोड़ दिया गया था। बाद में कलेक्टर द्वारा विशेष रूप से कार्रवाई की निगरानी को भेजी नायब तहसीलदार मधुलिका तोमर ने मदाखलत अमले से इस मकान को छोडऩे की वजह पूछी तो सभी चुप्पी साध गए, इसके बाद एक पार्षद के रिश्तेदार के चार मंजिला मकान के पहले पिलर के अंदर लगे लाल निशान से पहले ही जेसीबी से पहली मंजिल पर मौजूद छज्जे को गिराकर औपचारिकता पूरी कर ली।


एमआईसी मेंबर और पूर्व पार्षद बने रहे तमाशबीन
नगर निगम में एमआईसी मेंबर और जनकार्य प्रभारी धर्मेन्द्र राणा और पूर्व पार्षद देवेन्द्र पाठक कार्रवाई के दौरान आम जन का पक्ष लेने की बजाय तमाशबीन बने रहे जबकि स्थानीय पार्षद पूरी कार्रवाई में आमजन के बीच नजर नहीं आए। सूत्र बताते हैं कि नगर निगम में एक एमआईसी मेंबर और अधिकारियों की बातचीत के बाद रसूखदार का चार मंजिला मकान छोड़ा गया है।

कांग्रेस ने भेदभाव की निंदा की
शहर जिला कांग्रेस ने अतिक्रमण के नाम पर गरीब लोगों के घरों को तोड़कर उन्हें बेघर किए जाने की कार्रवाई की निंदा करते हुए कहा कि यही भाजपा की संस्कृति है। उन्होंने कहा कार्रवाई में केवल भाजपा नेताओं के घरों को छोड़कर सभी के घरों को तोड़ दिया। तोडफ़ोड़ की सूचना मिलने पर कांग्रेस कमेटी उपाध्यक्ष अशोक सिंह, सुरेन्द्र शर्मा, लतीफ खां मल्लू, रामसुंदर रामू, विद्यादेवी कौरव मितेन्द्र सिंह, अतिसुंदर सिंह, देवेन्द्र पाठक, सौरभ जैन आदि मुरार सर्किट हाउस पहुंचे। उन्होंने एसडीएम एसडी शर्मा, सीएसपी, रत्नेश तोमर से नाराजगी व्यक्त की।


मुआवजा दें गरीबों को

कांग्रेस नेता अतिसुंदर सिंह ने कहा कि जिन लोगों के धरों को तोड़ा गया है उनका विस्थापन किया जाए तथा गरीबों को हुए नुकसान के लिए उन्हें भाजपा सरकार मुआवजा दे।

Ad Block is Banned