सैकड़ों लोगों ने घंटों घेरे रखा थाना,पुलिस के फूले हाथ पैर फिर कांग्रेस पार्षद का हुआ यह हाल

सैकड़ों लोगों ने घंटों घेरे रखा थाना,पुलिस के फूले हाथ पैर फिर कांग्रेस पार्षद का हुआ यह हाल

monu sahu

September, 1304:31 PM

Gwalior, Madhya Pradesh, India

ग्वालियर। दुल्लपुर में पार्षद चतुर्भुज धनोलिया के घर मंगलवार रात हंगामा होने पर करीब 100 लोगों पर एससी-एसटी की धारा लगाकर एफआइआर की गई थी। पुलिस ने मौके से नेत्रपाल नाम के युवक को पकड़ा था। बुधवार को युवक के परिजन और सपाक्स कार्यकर्ताओं ने थाटीपुर थाने का घेराव कर दिया। उनका कहना था पार्षद ने नेत्रपाल की मां के साथ छेड़खानी की है। इंचार्ज थाना प्रभारी को बताया उन्होंने रिपोर्ट नहीं लिखी। लोगों ने 3 घंटे थाने को घेरे रखा। जब वार्ड क्रमांक 21 के पार्षद पर छेड़खानी की एफआइआर और इंचार्ज थाना प्रभारी इंदर सिंह को लाइन अटैच कर दिया तब हंगामा बंद हुआ।

यह भी पढ़ें : भारत बंद : कांग्रेस के दिग्गज नेता पर पोती कालिख,राजनीति में मचा घमासान

पीडि़ता ने बताया उनका बेटा दुल्लपुर होते हुए थाटीपुर आ रहा था। रास्ते में सीवर के गड्ढे में गिरकर घायल हो गया। स्थानीय लोगों के साथ पार्षद के घर पहुंचकर चेंबर ठीक कराने को कहा लेकिन उन्होंने पुलिस बुला ली और बेटे को धमकाया। फिर बेटे को थाने लेकर आ गए। पुलिस पर दबाव बनाकर एफआइआर कराने लगे। उस वक्त मैं भी थाने पहुंच गई। पार्षद से कहा बेटा मानसिक रूप से बीमार है। उसकी रिपोर्ट नहीं लिखाएं। पार्षद ने बाहर आकर बात करने को कहा। कुछ देर बाद पार्षद बाहर आए और मेरा हाथ पकडक़र छेड़खानी करने लगे।

यह भी पढ़ें : breaking : कमलनाथ ने मोदी और BJP को लेकर कहीं सबसे बड़ी बात,विधानसभा चुनाव पर पड़ेगा असर,see video

मैंने इंचार्ज थाना प्रभारी इंदर सिंह को बताया लेकिन उन्होंने रिपोर्ट नहीं लिखी। बुधवार सुबह १० बजे थाने का घेराव हो गया। मौके पर पहुंचे सीएसपी मुनीष राजौरिया ने समझाया पर परिजन सुनने को तैयार नहीं थे। पार्षद पर एफआइआर के बाद १ बजे घेराव खत्म हुआ। एएसपी अमन सिंह राठौड़ का कहना है कि महिला के आरोप के बाद पार्षद पर एफआइआर दर्ज कर ली गई है। एसआइ इंदरसिंह को भी लाइन अटैच किया है।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर : देश में पहली बार गणपति को लगाया ऐसा भोग,हर कोई रह गया हैरान,देखे वीडियो

नेत्रपाल को भी छुड़ाकर ले गए
पार्षद की शिकायत पर एफआइआर कर पुलिस ने नेत्रपाल को पकड़ लिया था। रातभर उसे थाने में रखा। थाने घेरकर हंगामा कर रहे लोगों का कहना था कि पार्षद ने झूठी रिपोर्ट लिखाई है। इसलिए नेत्रपाल को छोड़ दिया जाए। पार्षद पर एफआइआर होने के बाद पुलिस ने नेत्रपाल को भी छोड़ दिया।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर : अवैध खनन रोकने गए अमले पर फायरिंग,डिप्टी रेंजर और सुरक्षा गार्ड को लगी गोली

मां बोली,सर्र्टिफिकेट है
थाटीपुर थाने पहुंची नेत्रपाल की मां का कहना था उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार है। उसका मेंटली सर्टिफिकेट भी है। भोपाल में उसका इलाज भी चल रहा है। यह बातें पार्षद के सामने रखी। फिर भी उन्होंने एफआइआर कराई।

congress leader

क्या था मामला
कुंज विहार फेस-2निवासी नेत्रपाल सिंह भदौरिया मूलत: विजयपुर गुना के रहने वाले है। मंगलवार रात को दुल्लपुर में एक गड्ढे में गिर पड़े थे। बाद में कुछ लोगों के साथ पार्षद चतुर्भुज धनौलिया के घर पहुंच गए। पार्षद का कहना था नेत्रपाल ने भीड़ को लेकर हमला करने की कोशिश की। परिजन को धमकाया दरवाजे को धक्का देकर खोलने की कोशिश की। हंगामे की खबर पर पुलिस भी पहुंच गई। फिर पार्षद की शिकायत पर 100 लोगों पर एफआइआर हुई।

monu sahu
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned