Corona Affect : बोर्ड परीक्षा को लेकर छात्र टेंशन में, शिक्षक तैयारी जारी रखने की दे रहे सलाह

corona affect on board exam in mp : जिनकी परीक्षाएं अचानक स्थागित कर दी गई। यह छात्र इन दिनों घरों में है। वह अपने पेपर को लेकर टेंशन में बने हैं

By: Gaurav Sen

Updated: 27 Mar 2020, 04:09 PM IST

ग्वालियर. कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश में लॉक डाउन चल रहा है। इन दिनों सबसे ज्यादा चिंता की लकीरें उन छात्रों के चेहरे पर दिख रही है, जिनकी परीक्षाएं अचानक स्थागित कर दी गई। यह छात्र इन दिनों घरों में है। वह अपने पेपर को लेकर टेंशन में बने हैं। आए दिन एेसे छात्र अथवा अभिभावकों को स्कू ल के शिक्षक से लेकर प्राचाार्यों को फोन लगाकर पेपर को लेकर सवाल जवाब कर रहे हैं।

बीते दिनों बोर्ड परीक्षा दसवीं और बारहवीं स्थागित कर दी। दसवीं कक्षा के हिंदी व अंग्रेजी के दो पेपर होना शेष रह गए। इसी तरह बारहवीं में साइंस, बायॉलोजी, एग्रीकल्चर, कॉमर्स,आट्र्स और होम साइंस सब्जेक्ट के दो से तीन पेपर होना है। पेपरों की तैयारी के बीच अचानक परीक्षा ब्रेक होने से छात्रों का मनोबल डगमगाने लगा है। छात्र इन दिनों घरों में है। स्कू ल व ट्यूशन नहीं जा सकते हैं। एेसे में वह अपनी तैयारी को लेकर चिंतित हो उठे हैं। यह परीक्षार्थी, पेपर होने का इंतजार कर रहे है फिलहाल १५ अप्रेल तक लॉक डाउन होने से अप्रेल के अंत तक परीक्षा होते नजर नहीं आ रही है।

मूल्यांकन नहीं हो सका शुरू रिजल्ट होगा लेट
इस बार दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट देरी से आएगा। कारण यह है कि मूल्यांकन का कार्य बीते २१ मार्च से होना था। मूल्यांकन का पहले चरण का का रोक दिया गया है। वहीं दूसरे चरण के मूल्यांकन के लिए परीक्षाएं होना शेष है। इस तरह से परीक्षा परिणाम प्रभावित होगा। परीक्षा होने बाद मूल्यांकन कार्य पूरा होने तक रिजल्ट देरी से घोषित हो सकेगा।

परीक्षार्थियों के कठिनाइयां एेसे शिक्षक कर सकते दूर
इन दिनों परीक्षार्थी घरों पर है। वह सीधे शिक्षकों के संपर्क में नहीं है। वह अपने शिक्षक से ऑनलाइन संवाद स्थापित करके कठिन प्रश्नों के सवालों का समाधान ले सकते हैं। हालांकि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाली ट्यूशन व कोचिंग संस्थाओं द्वारा इस तरह से प्रतियोगी परीक्षार्थियों की तैयारी जारी रखी है। इसी तरह से सरकारी व गैर सरकारी स्कू लो के शिक्षक स्कू ल छात्रों का ग्रुप तैयार कर उन्हें तैयारी में आने वाली समाधान कर सकते हैं।

हर रोज मेरे पास पांच से सात छात्र या अभिभावकों के फोन आ रहे हैं। उन्हें तैयारी जारी रखने क सलाह दी जा रही है। जैसे ही परीक्षा की तारीख घोषित होगी तब तक परीक्षार्थी अपनी तैयारी कमजोर न होने दें।
कुलदीप सिंह राजपूत, प्रभारी प्राचार्य, शासकीय बालक हायर सेकंडरी स्कूल, काल्पीब्रिज

Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned