सैंपल हुआ फेल तो लगाया 10 लाख जुर्माना, यूं ही चलती रहेगी मिलावटखोरों के खिलाफ जंग, बोले- कलेक्टर

सैंपल हुआ फेल तो लगाया 10 लाख जुर्माना, यूं ही चलती रहेगी मिलावटखोरों के खिलाफ जंग, बोले- कलेक्टर

Gaurav Sen | Publish: Aug, 14 2019 11:23:40 AM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

खाद्य विभाग की टीम द्वारा मंगलवार को जीवाजी विश्वविद्यालय की कैंटीन की जांच की गई

ग्वालियर। प्रशासन द्वारा मिलावटी खाद्य पदार्थ बनाने और बेचने वालों पर अब कार्रवाई शुरू कर दी गई है। मंगलवार को दो डेयरी और एक मिठाई की दुकान सहित चार प्रतिष्ठानों पर अपर कलेक्टर अनूप कुमार सिंह ने 10 लाख रुपए का जुर्माना किया है। इन प्रतिष्ठानों से मिठाई एवं अन्य खाद्य सामग्री के सैंपल लिए गए थे, जो जांच में अमानक पाए गए हैं। वहीं जुलाई में लिए गए 10 सैंपलों की रिपोर्ट भी भोपाल से आ गई है, इनमें मोर बाजार से लिए गए 4 मावा के सैंपल एवं एक अन्य स्थान से लिया मिक्स दूध का सैंपल अमानक पाया गया है। अब इन पर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। इधर खाद्य विभाग की टीम द्वारा मंगलवार को जीवाजी विश्वविद्यालय की कैंटीन की जांच की गई एवं साईं बाबा मंदिर के पास स्थिति एक दुकान से मिठाई के सैंपल लिए गए।

इन पर लगा है जुर्माना

  • कटी घाटी स्थित गुप्ता मिष्ठान भंडार पर 3 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। व्यवसाई मिथ्याछाप खाद्य पदार्थ विक्रय करने के साथ बिना पंजीयन के कारोबार कर रहा था।
  • हजीरा में संचालित नरवरिया डेयरी पर 2 लाख का जुर्माना लगाया। डेयरी संचालक अमानक खाद्य पदार्थ विक्रय के साथ बिना पंजीयन के व्यवसाय कर रहा था।
  • शिंदे की छावनी क्षेत्र में संचालित रामू डेयरी पर 2 लाख रुपए का जुर्माना किया है। यह डेयरी भी बिना लाइसेंस के चल रही थी।
  • विक्टोरियन विंटेज पर 3 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है। यहां अमानक स्तर के खाद्य पदार्थों का विक्रय किया जा रहा था।

10 सैंपल की रिपोर्ट आई, 4 मावा के और एक दूध का अमानक निकला जुलाई में लिए थे सैंपल
जुलाई में मोर बाजार व अन्य जगहों से लिए गए मावा, दूध, पनीर के सैंपल की पहली रिपोर्ट भोपाल से आ गई है। 10 में से 5 सैंपल अवमानक पाए गए हैं, जिनमें 4 मावा के और एक मिक्स मिल्क का है। खाद्य सुरक्षा विभाग की अभिविहित अधिकारी और एसडीएम पुष्पा पुषाम ने बताया कि जितने भी सैंपल लिए गए हैं, उनकी रिपोर्ट जल्द भेजे जाने के लिए फॉलो कर रहे हैं, ताकि सैंपलिंग की कार्रवाई के परिणाम सामने आ सकें।

यह है सैंपल रिपोर्ट

  • 21 जुलाई को पाल मावा भंडार मोर बााजार से लिया मावा का सैंपल अवमानक निकला है।
  • 21 जुलाई को सिंघल डेयरी फ्रूट एंड मावा स्टोर मोर बाजार से लिया मावा का सैंपल अवमानक पाया गया है।
  • 21 जुलाई को श्री मावा भंडार से मावा का सैंपल लिया था, यह अवमानक निकला है।
  • 24 जुलाई को गिर्राज डेयरी बेहट रोड मौ जिला भिंड से आ रहे वाहन से मिक्स मिल्क का सैंपल लिया था, यह अवमानक निकला है।
  • 21 जुलाई को राजपूत मावा भंडार मोर बाजार से मावा का सैंपल लिया था, यह अवमानक निकला है।

 

जेयू कैंटीन में पहुंची टीम, मिठाई की दुकान से लिए सैंपल

प्रशासन और फूड सेफ्टी के अधिकारियों की टीम मंगलवार को दोपहर बाद जीवाजी विश्वविद्यालय कैंटीन में जांच करने पहुंची, लेकिन कैंटीन का संचालन बंद मिला। कैंटीन में मिलावटी खाद्य विक्रय की शिकायत हुई थी। इस पर मंगलवार को अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य ने एसडीएम पुष्पा पुषाम को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। निर्देश के बाद खाद्य सुरक्षा अधिकारी दो घंटे देर से पहुंचे। बंद कैंटीन में अधिकारियों ने पीछे से प्रवेश किया। कैंटीन कर्मचारियों ने बताया टेंडर खत्म होने से संचालन बंद है। विवि प्रबंधन के निर्देश पर जरूरत के समय ही सामग्री बनती है।

कंपू का निकला लाइसेंस

  • कैंटीन से दस्तावेज मांगे तो वह कंपू के निकले। इस पर अधिकारियों ने जेयू परिसर का पंजीयन कराने के लिए कहा है। इसके बाद पंचनामा बनाकर टीम वापस चली गई।
  • कलेक्टर से की शिकायत : शाम 7.30 बजे खाद्य सुरक्षा अधिकारी किलागेट रोड साईं बाबा मंदिर के पास पूजा स्वीट्स पर पहुंचे। किसी ने दुकान की कलेक्टर कार्यालय में शिकायत की थी। यहां से नमकीन और बूंदी के लड्डू का सैंपल लिया।

कार्रवाई जारी रहेगी
नियमों का पालन न करने और अमानक खाद्य पदार्थ विक्रय करने पर प्रतिष्ठानों पर अर्थदंड लगाया गया है। साथ ही सभी एसडीएम, तहसीलदार, फूड एंड सेफ्टी के अधिकारियों को जांच जारी रखने के निर्देश दिए हैं, ताकि आमजन को अमानक खाद्य पदार्थों से होने वाले हानिकारक प्रभावों से बचाया जा सके। सैंपलिंग की कार्रवाई लगातार जारी रहेगी।
अनुराग चौधरी, कलेक्टर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned