ग्वालियर शहर के तीन क्षेत्रों और 36 गांवों में बारिश से जलभराव का खतरा

मानसूनी बारिश मेंं जिले के पांच बांधों से होने वाले ओवर फ्लो की वजह से जल भराव के हालात बन सकते हैं। इन बांधों से पानी छोडऩे की नौबत आई तो ग्वालियर जिले के 36 गांव प्रभावित होंगे...

ग्वालियर. मानसूनी बारिश मेंं जिले के पांच बांधों से होने वाले ओवर फ्लो की वजह से जल भराव के हालात बन सकते हैं। इन बांधों से पानी छोडऩे की नौबत आई तो ग्वालियर जिले के 36 गांव प्रभावित होंगे, जबकि शहरी क्षेत्र में स्वर्णरेखा और मुरार नदी के बहाव क्षेत्र से लगी निचली बस्तियों में भी पानी भरने की आशंका है।
प्रशासनिक रिपोर्ट के अनुसार पानी बढऩे पर मुरार, झांसी रोड और ग्वालियर एसडीएम क्षेत्र की बस्तियों में जल भराव की स्थिति बन सकती है। इसके साथ ही ड्रैनेज सिस्टम फेल होने से नाले नालियों का पानी भी सड़कों पर आने की संभावना है।


पड़ोसी जिलों पर भी पड़ेगा प्रभाव
मुरैना के 4 और शिवपुरी जिले के 2 गांवों के लोगों को खतरा रहेगा। इसके साथ ही शिवपुरी जिले के सुल्तानगढ़ सहित अन्य दूरस्थ गांवों में मौजूद झरनों पर जाने वाले पर्यटकों को भी खतरा रहेगा।


हालात बिगड़े तो कैसे संभालेंगे...
अतिवृष्टि को ध्यान में रखकर जिला प्रशासन ने बाढ़ एवं आपदा राहत के लिए प्लानिंग तैयार करके संबंधित विभागों को जिम्मेदारी देने के साथ ही जिला और ब्लॉक लेबल पर कंट्रोल रूम भी गठित किया गया है।
- नगर निगम : शहरी के जल भराव क्षेत्रों को चिह्नित करके निगरानी रखेगा। जरूरत पडऩे पर लोगों को शिफ्ट कराएगा।
- प्रशासन : सभी एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र में विस्थापन संबंधी योजना बनाकर कमांड सेंटर पर भेजेंगे।
- होमगार्ड : मॉकड्रिल होगी। बड़े बांधों पर गोताखोर, तैराक, नाव, रेस्क्यू टीम सहित सुरक्षा उपकरणों की सूची व जानकारी चस्पा होगी।


किस बांध के ओवरफ्लो होने पर कहां होगा असर...
- तिघरा बांध : ओवर फ्लो पर 1455 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया जा सकता है। इससे ग्वालियर सिटी एसडीएम क्षेत्र के कुलैथ, दुगुनावली और मुरैना जिले के जखौदा, बामौर, नूराबाद, लोकलपुरा पर असर पड़ सकता है।
- रमौआ बांध : ओवर फ्लो पर 496 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया जा सकता है। इससे झांसी रोड एसडीएम और मुरार एसडीएम क्षेत्र में आने में हुरावली, सिरोल, कुशवाहों का पुरा पर असर पड़ सकता है।
- पेहसारी बांध : ओवर फ्लो पर 534 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया जा सकता है। इससे घाटीगांव एसडीएम क्षेत्र के सहसारी, उम्मेदगढ़, मोहना और दादौरी क्षेत्र प्रभावित हो सकता है
- ककैटो बांध : ओवर फ्लो पर 4400 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया जा सकता है। इससे घाटीगांव एसडीएम क्षेत्र के ककैटो गांव, दीवान फार्म, प्रीतम फार्म,ठेर-टीकला प्रभावित हो सकते हैं, शिवपुरी जिले के सुल्तानगढ़ और निरवानी क्षेत्र में भी प्रभाव पड़ेगा।
- हरसी बांध : ओवर फ्लो पर 3413 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया जा सकता है। जिले के सबसे बड़े बांध के पानी से भितरवार क्षेत्र के पनानेर, कैठोद, धोबट, खिरिया, बोढ़ी, जखावर, गधौटा, सिल्हा, पलायछा, खेरा, नजरपुर, आदमपुर, सांसन, भितरवार, मछरया, पवाया, घाटखेरिया, डढ़ूमर, गोलेश्वर, सहारन, मसूदपुर, खरगोली, बांसौड़ी गांव प्रभावित हो सकते हैं।


इन विभागों की है जिम्मेदारी
- राजस्व, भू-अभिलेख, पुलिस, होमगार्ड, नगर निगम, जल संसाधन, विद्युत, दूरसंचार, स्वास्थ्य, खाद्य आपूर्ति और पीडब्ल्यूडी को कोर विभाग में रखा गया है।
- सहायक के तौर पर मलेरिया नियंत्रण, मत्स्य पालन,पशु चिकित्सा, पीएचई, कृषि, जनसंपर्क, आरटीओ, महिला बाल विकास और उद्यानिकी विभाग को शामिल किया गया है।

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned