ग्वालियर के डीडीनगर में फरारी काटने वाला कुख्यात आनंदपाल ढेर

आनंद पाल डीडी नगर में धीरेन्द्र सिंह चौहान निवासी इटावा के मकान में रहा था। उसके साथी पंकज गुप्ता ने इसकी मुखबिरी की थी। क्राइम ब्रांच और एसओजी की टीम ने मकान घेरा। 

सीकर/ग्वालियर. पांच लाख के कुख्यात इनामी आनंदपाल का अमावस की रात राजस्थान पुलिस और एसओजी ने अंत कर दिया। चूरू जिले के मालासर गांव में ढाई घंटे गोलीबारी के बाद आनंदपाल को मार गिराया गया। इस दौरान एसपी चूरू के गनमैन समेत तीन पुलिसकर्मी घायल हुए। पुलिस ने उसके भाई विक्की और गुर्गे देवेन्द्र उर्फ गट्टू को गिरफ्तार किया है। आनंदपाल बीते साल ग्वालियर के डीडी नगर में फरारी काट चुका था।

पुलिस-एसओजी ने रात करीब दस बजे मालासर में श्रवण सिंह के मकान में कार्रवाई शुरू किया। टीम ने ललकारा तो आनंदपाल ने एके-47 से फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस और एसओजी ने जवाबी की। ढाई घंटे फायरिंग के बाद रात करीब 12 बजे गोली लगने से आनंदपाल की मौत हो गई। दो वर्ष पूर्व नागौर के पास पेशी के दौरान पुलिसकर्मियों को नशीली मिठाई खिलाकर आनंदपाल फरार हो गया था।

ग्वालियर आई थी एसओजी

आनंद पाल की तलाश में 15 जून 2016 को एसओजी भरतपुर की टीम ने ग्वालियर में रेड की थी। आनंद पाल डीडी नगर में धीरेन्द्र सिंह चौहान निवासी इटावा के मकान में रहा था। उसके साथी पंकज गुप्ता ने इसकी मुखबिरी की थी। क्राइम ब्रांच और एसओजी की टीम ने मकान घेरा। लेकिन आनंदपाल पहले ही निकल चुका था। एसओजी की टीम धीरेन्द्र की पत्नी नीतू को अपने साथ ले गई थी। इंट्रोगेशन में पता लगा मकान हवलदार राकेश मिश्रा का है। 

Show More
avdesh shrivastava Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned