scriptDo not take common cold and cough lightly, get tested | डरावनी स्पीड: हर घंटे मिल रहे है 25 नए मरीज, अब सामान्य सर्दी-खांसी को हल्के में न लें | Patrika News

डरावनी स्पीड: हर घंटे मिल रहे है 25 नए मरीज, अब सामान्य सर्दी-खांसी को हल्के में न लें


-नौ दिनों में 126 में से अधिकांश को नहीं है लक्षण

ग्वालियर

Published: January 05, 2022 04:44:32 pm

ग्वालियर। कोरोना तेजी से फैल रहा है। इसमें हर दिन संक्रमितों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। इस बार तीसरी में लहर में खास बात यह हो रही है कि सर्दी, खांसी जुखाम वाले लोगों को भी कोरोना ने घेर लिया है। हालात यह हो गए हैं कि हर दिन पॉजिटिव मरीजों में सामान्य तौर पर कोरोना जैसे लक्षण सामने ही नहीं आ रहे हैं। कोरोना के मरीजों की संख्या 27 दिसंबर से धीरे-धीरे बढ़ने लगी है। इसके हिसाब से 9 दिनों में 126 लोग कोरोना के शिकार हुए हैं, लेकिन कोरोना के लक्षण अधिकांश में नहीं लोग बाहर से आने वालों के साथ है। इन लोगों को सिर्फ हल्की सी कई लोगों में लक्षण ही नही है। सर्दी, खांसी ही है। उसके बावजूद भी यह लोग पॉजिटिव हो गए है।

corona_6990900_835x547-m.png
corona virus

जनवरी के शुरुआत में कोरोना की रफ्तार चौंकाने वाली है। दिसंबर में एक दिन में जितने औसत केस आ रहे थे, उतने अब हर घंटे आ रहे हैं। दिसंबर में औसत 29 केस एक दिन में आए हैं। जनवरी के चार दिन की रिपोर्ट देखें तो हर घंटे औसत 26 केस निकल रहे हैं।

संपर्क में आने से हुए पॉजिटिव

सोमवार को जनकगंज डिस्पेंसरी में एक डॉक्टर संक्रमित हुए। उनके संपर्क वाले तीन लोगों के सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव मंगलवार को आई है। इन लोगों में कोई भी लक्षण तक नहीं है। इसके साथ ही एसपी ऑफिस में सभी कर्मचारियों को सिर्फ सर्दी, खांसी, जुखाम है। इसके साथ कई लोग बाहर से आने वालों के लोगों के साथ संपर्क में आए हैं, लेकिन लक्षण नहीं हैं।

इनका कहना है

इस बार नहीं है। सिर्फ सामान्य इस बार कोरोना के मरीजों में मरीज ही ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं। ऐसे में सर्दी, खांसी और जुखाम बुखार को हल्के में न लें। तुंरत जांच करा लें। वहीं इस बार कोरोना से ज्यादा नुकसान होने वाला नहीं है, लेकिन सावधानी रखना है।

डॉ. अजयपाल सिंह, मेडिसिन जीआरएमसी

यह जरूर समझ लें

-पहली और दूसरी लहर में जब डेल्टा वैरिएंट सामने आया था। उस समय कोविड के 100 मरीजों में से 20 लोगों को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती थी।
- इस बार 100 में से सिर्फ 2 से 3 लोगों को ही बड़ी मुश्किल से ऑक्सीजन की जरूरत पड़ेगी।
- इस संक्रमण का असर लोगों के फेफड़ों तक नहीं पहुंचेगा। इस बार लोग ज्यादा सीरियस भी नहीं होंगे। लेकिन सुरक्षा का विशेष ध्यान रखना होगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

क्या सच में बुझा दी गई अमर जवान ज्योति? केंद्र सरकार ने दिया जवाबCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारUP Assembly Elections 2022 : एकाएक राजनीति में उतरकर इन महिलाओं ने सबको चौंकाया, बटोरी सुर्खियांभारत के इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में Adani Group की हो सकती है धमाकेदार एंट्री, कंपनी ने ट्रेडमार्क किया दायरआखिर करहल विधानसभा सीट से ही क्यों चुनाव लड़ना चाहते हैं अखिलेश यादवUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसइंडिया गेट पर लगेगी नेता जी की मूर्ति, पीएम मोदी ने ट्वीट की तस्वीर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.