डिग्री के लिए नहीं नवाचार के लिए करें शोध

संगीत विश्वविद्यालय का नेशनल वेबिनार

By: Mahesh Gupta

Published: 24 May 2020, 10:20 PM IST

ग्वालियर.
कोई भी शोधकार्य तभी पूर्ण रूप से सफ ल और सार्थक हो सकता है, जब शोधार्थी शोध करने की भावना से पूर्ण उत्साह से रिसर्च में प्रवृत्त हो। केवल डिग्री लेने के लिए नहीं। यह बात मुंबई विश्वविद्यालय की डॉ अनया थत्ते ने नेशनल वेबिनार में कही। राजा मानसिंह तोमर संगीत एवं कला विश्वविद्यालय के गायन एवं स्वर वाद्य विभाग की ओर से वेबिनार आयोजित किया जा रहा है। वेबिनार के दूसरे दिन रविवार को डॉ. थत्ते ने 'अनुसंधान और विषय का दायराÓ विषय पर अपनी बात रखी। साथ ही छात्र-छात्राओं एवं कलाकारों के सवालों के जवाब भी दिए।

उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बनाया अच्छा मुकाम
डॉ. थत्ते ने कहा कि सर्वप्रथम विषय का चयन करते समय विषय का अध्ययन करना चाहिए। उपयुक्त विषय का चयन करना सबसे महत्वपूर्ण कार्य होता है। क्योंकि उसी पर शोधकार्य का भविष्य निर्धारित होता है। वर्तमान समय में नई टेक्नॉलॉजी शोध कार्य में अत्यन्त उपयोगी सिद्ध हो रही है। वर्तमान समय में संगीत क्षेत्र में विद्यार्थियों को प्रायोगिक के साथ-साथ संगीत शास्त्र का भी अध्ययन करना चाहिए। वर्तमान में भारतीय शास्त्रीय संगीत उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान बना चुका है। वेबिनार में देश भर से 100 कलाकारों, शोधार्थी, विद्यार्थियों ने भाग लिया। कार्यक्रम में डॉ रंजना टोणपे, डॉ सुनील पावगी, डॉ पारुल दीक्षित, विकास विपट, विवेक लिमये सहित कई लोग शामिल हुए।

Mahesh Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned