scriptEfforts intensified to overcome the crisis in power stations | कोयला संकट- अब किसी भी सूरत में कोयले से भरे रैक को किसी स्टेशन या आउटर पर नहीं रोका जाएगा | Patrika News

कोयला संकट- अब किसी भी सूरत में कोयले से भरे रैक को किसी स्टेशन या आउटर पर नहीं रोका जाएगा

- कोयले से भरी मालगाड़ी की पासिंग पहले, रेलवे ने डेढ़ गुना बढ़ा दिए रैक
- बिजली तापगृहों पर छाए संकट से उबरने की कोशिशें हुईं तेज

ग्वालियर

Published: May 01, 2022 10:28:16 am

ग्वालियर। कोयला की आपूर्ति में कमी से देश के बिजली तापगृहों पर छाए संकट से उबरने की कोशिशें तेज हो गई हैं। रेलवे ने कोयला आपूर्ति के लिए रैक बढ़ाकर डेढ़ गुना कर दिए हैं। इसके साथ रेलवे ने कोयले से भरी मालगाड़ी की पासिंग को प्राथमिकता देने के निर्देश दिए हैं। रेल संचालन से जुड़े अधिकारियों को हिदायत भी दी गई है कि किसी भी सूरत में कोयले से भरे रैक को किसी स्टेशन या आउटर पर नहीं रोका जाए।

bijli_tapgrah.jpg

कोयला की आपूर्ति में रेलवे तेजी लाया है। कुछ दिन पहले तक उत्तर-मध्य रेलवे जोन से प्रतिदिन गुजरने वाले रैक की संख्या औसत 30 होती थी, जो अब बढक़र 42 पहुंच गई है। इसके पीछे मकसद ताप विद्युत गृहों तक कोयले की पर्याप्त आपूर्ति है।

रेलवे ने कोयले की कमी से देश में बिजली संकट के हालात को देखते हुए पॉवर प्लांट तक रैक पहुंचाने में अड़चन दूर करने के प्रयास किए हैं। एनसीआर के सीपीआरओ डॉ. शिवम शर्मा ने बताया कि कोयले की मालगाड़ी को लेकर विशेष मॉनीटरिंग की जा रही है।

बिहार व झारखंड से आ रहे कोयले के रैक
उत्तर-मध्य रेलवे जोन से गुजरने वाले रैक की संख्या बढ़ी है। यह रैक बिहार और झारखंड से आ रहे हैं। रेलवे अधिकारियों को कहा गया है कि अगर ट्रेक पर कोई परेशानी है तो पहले कोयला से भरी मालगाडिय़ों को निकाला जाएगा। जिससे जल्द से जल्द कोयला पावर प्लांट तक पहुंच सके। इससे बिजली का संकट कुछ कम हो सके।

MP में बिजली संकट न हो इसलिए सडक़ मार्ग से भी मंगाया जा रहा कोयला
ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने बिजली संकट की बात नकारते हुए कहा, अभी प्रदेश में बिजली संकट जैसे हालात नही हैं, लेकिन ऐहतियात के तौर पर सरकारी विभागों को चिट्ठी लिखकर बिजली की बचत का सुझाव दिया गया है।

उन्होंने कहा, आज हमारी 1200 हजार मेगावाट बिजली की मांग थी उसे हमने पूरा किया है। इसके अलावा 30 लाख टन कोयला सडक़ मार्ग से लाने के लिए टेंडर कर दिए हैं। रेलवे से रैक के जरिए कोयला आपूर्ति की जा रही है। कोई प्राकृतिक आपदा नहीं आई तो हम संकट से उबर जाएंगे। मप्र में उपभोक्ताओं को पावर क्वालिटी, ट्रांसफार्मर और तारों का मेंटेनेंस करने के लिए जरूरत पड़ी तो राज्य सरकार से पैसा लेंगे, यदि और जरूरत पड़ी लोन भी लेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

ममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआरUP Budget 2022 : देश में पांच इंटरनेशनल एयरपोर्ट और पांच एटीएस वाला यूपी पहला राज्य, होंगी ये बड़ी सुविधाएंराष्ट्रीय खेल घोटाला: CBI ने झारखंड के पूर्व खेल मंत्री के आवास पर मारा छापाIRCTC 21 जून से शुरू करेगी श्री रामायण यात्रा स्पेशल ट्रेन, जानिए इस यात्रा से जुड़ी सभी जानकारीIPL में MS Dhoni, Rohit Sharma, Virat Kohli हुए 150 करोड़ के पार, कमाई जानकर आप हो जाएंगे हैरानइधर भी महंगाई: परिवहन मंत्रालय ने की थर्ड पार्टी बीमा दरों में बढ़ोतरी, नई दरें जारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.