scriptelectricity company | पूर्व संभाग में सबसे ज्यादा वसूली, फिर सबसे ज्यादा कटौती और चोरी के प्रकरण क्यों? | Patrika News

पूर्व संभाग में सबसे ज्यादा वसूली, फिर सबसे ज्यादा कटौती और चोरी के प्रकरण क्यों?

locationग्वालियरPublished: Feb 07, 2024 10:15:51 pm

बीज निगम अध्यक्ष ने उठाए सवाल

electricity company gwalior
पूर्व संभाग में सबसे ज्यादा वसूली, फिर सबसे ज्यादा कटौती और चोरी के प्रकरण क्यों?
मप्र बीज निगम के अध्यक्ष मुन्नालाल गोयल ने अपने ही पार्टी के ऊर्जा मंत्री पर सवाल खड़े कर दिए। गोयल ने बिजली कंपनी के अधिकारियों से स्पष्ट रूप से कहा, पूर्व संभाग में सर्वाधिक वसूली की जाती है। इस माह लगभग 16 करोड़ 49 लाख रुपए वसूले गए, लेकिन सुविधाओं तो दूर की बात सबसे ज्यादा मेटेंनेस के नाम पर विद्युत कटौती की जाती है और सर्वाधिक बिजली चोरी के प्रकरण भी यहां दर्ज किए जाते हैं। इन समस्याओं को लेकर गोयल मंगलवार को रोशनी घर मुख्यालय पहुंचे। बैठक में मप्रविविकंलि के सीई राजीव गुप्ता, एसई नितिन मांगलिक, डीई राहुल साहू, डीई गगनदेव शर्मा सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद थे ।
गोयल ने कहा, ग्वालियर पूर्व संभाग में 368.95 लाख यूनिट बिजली इनपुट के एवज में 242.51 लाख बिजली विक्रय की गई है। लाइन लोसेज 35 प्रतिशत हो रहा है, जबकि शहर के अन्य डिवीजन में लाइन लोसेज 60 प्रतिशत तक है। इसके बाद भी विद्युत चोरी के सर्वाधिक प्रकरण ग्वालियर पूर्व विधानसभा में बनाए जा रहे हैं। विधानसभा क्षेत्र में घरेलू विद्युत उपभोक्ताओं को परेशान करने की घटनाओं को लेकर अपना रोष व्यक्त किया।
ये दिए सुझाव
1. घरेलू विद्युत उपभोक्ताओं के प्रकरण में उनके जबरदस्ती कनेक्शन काटने के बजाय समझौता करके निराकरण किए जाएं।
2. बोर्ड की परीक्षाओं के चलते छात्र-छात्राओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुए मेटेंनेंस के नाम पर विद्युत कटौती न की जाए।
3. विद्युत बिलों में आंकलित खपत या अन्य समायोजन जोन स्तर पर करने के लिए एई को अधिकृत किया जाए।
4. विद्युत चोरी के प्रकरणों में 30 प्रतिशत राशि कम कर प्रकरणों का निराकरण किए जाने का प्रस्ताव शासन को भेजने के लिए कहा।
5. गरीब विद्युत उपभोक्ताओं पर बकाया विद्युत बिलों में आंकलित खपत, पेनल्टी का समायोजन कर किश्तों में भुगतान किए जाए।

ट्रेंडिंग वीडियो