35 रुपए लीटर वाला इथेनॉल 100 रुपए लीटर के पेट्रोल में

जबलपुर हाईकोर्ट ने पेट्रोल में मिश्रित इथेनॉल को बेचे जाने के खिलाफ दायर जनहित याचिका को गंभीरता से लिया है। कोर्ट ने तेल कंपनियों से पूछा है कि पेट्रोल...

ग्वालियर. जबलपुर हाईकोर्ट ने पेट्रोल में मिश्रित इथेनॉल को बेचे जाने के खिलाफ दायर जनहित याचिका को गंभीरता से लिया है। कोर्ट ने तेल कंपनियों से पूछा है कि पेट्रोल की कीमत पर इथेनॉल को क्यों बेचा जा रहा है। ग्वालियर शहर में भी पेट्रोल के साथ-साथ ग्राहक को इथेनॉल भी बेचा जा रहा है।
खास बात यह है कि करीब 100 रुपए प्रति लीटर वाले पेट्रोल में 35 रुपए लीटर वाला इथेनॉल मिलाकर दिया जा रहा है। वैसे तो तेल कंपनियों को सिर्फ 10 फीसदी ही इथेनॉल मिलाना है पर वे इसमें कितना इथेनॉल मिला रही हैं, इसे जांचने का कोई पैमाना भी नहीं है। इसके साथ ही तेल कंपनियां कभी भी इसका ब्रेकअप भी नहीं देती हैं। पेट्रोल में इथेनॉल मिलाने के कारण लोगों के वाहनों के बंद होने की समस्या भी आती है।


25 हजार लीटर इथेनॉल मिला रहे
शहर में पेट्रोल की हर रोज की खपत ढ़ाई लाख लीटर की है। इसके चलते तीनों तेल कंपनियां 25 हजार लीटर इथेनॉल मिला रही हैं। वहीं पेट्रोल के वर्तमान दाम 99.18 रुपए लीटर हैं, लेकिन इथेनॉल के दाम 35 रुपए लीटर हैं। ऐसे में इथेनॉल बढ़ाकर मिलाने की मंशा को समझा जा सकता है।


20 फीसदी तक मिला रहे इथेनॉल
पेट्रोल पंप संचालक मंजीत सिंह बताते हैं कि वैसे तो तेल कंपनियों को पेट्रोल में 10 फीसदी ही इथेनॉल मिलाना है, लेकिन बीच-बीच में ये मात्रा 20 फीसदी तक भी की जा रही है, इथेनॉल की इतनी मात्रा के कारण ग्राहक के साथ-साथ डीलर को भी हानि हो रही है।


ठगा सा महसूस करता है ग्राहक
तेल कंपनियां जिस तरह से पेट्रोल में इथेनॉल मिलाती हैं, उसका कोई पैमाना नहीं है। ये कैसे पता लगे कि पेट्रोल में सिर्फ 10 फीसदी ही इथेनॉल मिलाया गया है। कंपनियां कभी भी ब्रेकअप भी नहीं देती हैं। पेट्रोल के दाम अब तो काफी बढ़ गए हैं ऐसे में 35 रुपए लीटर वाला इथेनॉल मिलने से ग्राहक अपने आप को ठगा से महसूस करता है।
दीपक सचेती, संरक्षक, ग्वालियर पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned