सिंगल वुमन होने के बाद भी अपना बेस्ट दिया

सिंगल वुमन होने के बाद भी अपना बेस्ट दिया

Avdhesh Shrivastava | Updated: 21 Jul 2019, 07:18:39 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

जहां कहीं भी फैमिली की याद आती या नर्वस होती, तो अपना गोल याद कर फिर से लक्ष्य की ओर बढ़ जाती। मैंने छह माह की इस ट्रेनिंग के दौरान कभी भी अपने आपको टीम से अलग नहीं समझा।

ग्वालियर . हमारी ट्रेनिंग बहुत टफ थी। सुबह 4 बजे उठकर वॉर्मअप के बाद कॉन्टीन्यू नए-नए टॉस्क दिए जाते थे, जो हमें पूरे करने होते थे। ये सभी के लिए एक जैसे थे। मेरी टीम में मैं अकेली वुमन थी। फिरभी मैंने हर टॉस्क को चुनौती के रूप में लिया। जहां कहीं भी फैमिली की याद आती या नर्वस होती, तो अपना गोल याद कर फिर से लक्ष्य की ओर बढ़ जाती। मैंने छह माह की इस ट्रेनिंग के दौरान कभी भी अपने आपको टीम से अलग नहीं समझा। हर एक्टिविटी में 100 परसेंट दिया। यह कहना है था राजस्थान की अनीता कुमारी का, जिनके हौसले की प्रशंसा बीएसएफ टेकनपुर के निदेशक एसएस चाहर ने समारोह के दौरान कही। समारोह में 5 बेस्ट जवानों को ट्रॉफी से नवाजा गया। इस ट्रेनिंग के दौरान कुल 49 इंस्पेक्टर असिस्टेंट कमांडेंट बन सकें।
परेड के बाद दिलाई देश की सुरक्षा की शपथ
बीएसएफ के निदेशक एसएस चाहर ने सभी प्रशिक्षुओं को देश की सुरक्षा की शपथ दिलाई। इसके पूर्व निदेशक ने परेड का निरीक्षण किया। तदुपरांत प्रशिक्षण में विभिन्न विषयों में अव्वल रहे प्रशिक्षु अधिकारियों को मुख्य अतिथि ने पुरस्कारों से नवाजा गया। प्रशिक्षण में स्वॉर्ड ऑफ अॅानर ट्रॉफी सुनील कुमार को, होम मिनिस्टर ट्रॉफी और डायरेक्टर ट्रॉफी अनिल कुमार को, डायरेक्टर जनरल ट्रॉफी वीरेन्द्र कुमार, डायरेक्टर बैटन ऑफ ऑनर ट्रॉफी नीरज कुमार और शरीरिक प्रशिक्षण व खेलकूद में श्रेष्ठ ट्रॉफी मदन लाल को दी गई। इस मौके पर महानिरीक्षक पीके दुबे, राजेश मिश्रा, पीके जोशी महानिरीक्षक, रामअवतार, डॉ. एसके श्रीवास्तव एवं एससी यादव उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन ओएन मिश्रा ने किया।
एमपी के साथ यूजी और राजस्थान के प्रशिक्षु भी ले रहे प्रशिक्षण
सीमा सुरक्षा बल के निदेशक एसएस चाहर ने प्रशिक्षुओं से कहा कि समूचा विश्व आज आतंकवाद से जूझ रहा है। हमारा देश भी इससे अछूता नही है। हमारे सामने भी कई चुनौतियां हैं, जिसके लिए आपको तैयार रहना होगा। कई बार परिस्थतियां आपके अनुकूल नहीं होंगी। ऐसे समय में आपका धैर्य ही काम आएगा। विषम परिस्थिति में आपको सूझबूझ का परिचय देना होगा। क्योंकि राष्ट्र की सुरक्षा का दायित्व आपके कंधों पर हैं। मीडिया से बातचीत में उन्होंने बताया कि टेकनपुर में कई राज्यों के इंस्पेक्टर को और काबिल बनाने के लिए ट्रेंड किया जा रहा है। इसमें यूपी, राजस्थान के प्रशिक्षु भी शामिल हैं। ट्रेनिंग के माध्यम से हम जवान को ऐसा फौलादी बना देते हैं, जिससे वे हर चुनौती से लडऩे को तैयार रहें।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned